Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बीमारी से दूर रहना है तो ये है सोने का सही तरीका

एसिडिटी के कारण बेचैनी होती है तो बायीं ओर करवट लेकर लेटना आपके लिए लाभकारी हो सकता है।

बीमारी से दूर रहना है तो ये है सोने का सही तरीका

नई दिल्ली. हममें से ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो कितना भी देर तक सोएं लेकिन उनकी नींद पूरी नहीं होती है। आपको बता दें कि आप किस पोजिशन में सो रहे हैं। इस पर ही आपका स्वास्थ्य निर्भर करता है।

हाल ही में हुए एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बायीं करवट लेटना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। रात को अच्छी नींद सोना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। यह हमारे लिम्फेटिक सिस्टम के अच्छी तरह काम करने में सहायक होता है। अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को हमारे शरीर से हटाने में भी इसकी भूमिका अहम है।
विशेषज्ञों का कहना है कि थोरेसिक डक्ट (लिम्फेटिक सिस्टम की सबसे बड़ी लिम्फेटिक नस) बायीं ओर ही होती है। लिम्फेटिक सिस्टम शरीर में वसा, प्रोटीन और कई जरूरी तत्वों का संचार करता है इसलिए बायीं ओर लेटने से यह पोषक तत्व आपके सेलों में जल्दी पहुंचते हैं। स्पलीन हमारे लिम्फेटिक सिस्टम का सबसे बड़ा अंग हैं। यह भी शरीर में बायीं ओर होता है। इसलिए जब हम बायीं ओर करवट लेकर सोते हैं, तो यह अधिक दक्षता के साथ काम करता है। इसका प्रमुख कारण गुरुत्वाकर्षण है, यह स्पलीन में रक्त के बहाव को तेज करता है इससे शरीर की अशुद्धियां जल्द फिल्टर हो जाती हैं। बड़़ी आंत के और छोटी आंत के बीच का जंक्शन शरीर के बायीं ओर स्थित होता है, जिसे इलियोसीकल वैल्व कहते हैं। जब हम बायीं ओर करवट लेकर सोते हैं, तो गुरुत्वाकर्षण बल शरीर के अपशिष्ट पदार्थों को आसानी से छोटी आंत से बड़ी आंत में जाने में मदद करते हैं।
अगर आपको भी एसिडिटी के कारण बेचैनी होती है तो बायीं ओर करवट लेकर लेटना आपके लिए लाभकारी हो सकता है। इस अवस्था में आपका पेट कार्डिएक स्फिंक्टर के नीचे होता है जो आपकी आहार नाल को पेट से जोड़ता है। बायीं ओर करवट लेकर लेटने से आपके पेट के पदार्थ आहार नाल में नहीं आ पाते।
लीवर शरीर में दायीं ओर होता है, इसलिए दायीं करवट लेटने से उस पर दवाब बढ़ सकता है। दिल के बायें हिस्से को फेफड़ों से खून मिलता है, जो इसे बाद में शरीर में पंप करता है। इसलिए बायीं करवट लेटने से आपका दिल यह काम आसानी से कर सकेगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top