Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस मौसम में रखें खान-पान का ध्यान

मौसम के अनुकूल खान-पान सेहत के लिए फायदेमंद है। खासकर बारिश के मौसम में यह काफी मायने रखता है, क्योंकि इस दौरान बीमार होने की आशंका ज्यादा रहती है। बारिश के इस मौसम में कैसी हो आपकी डाइट, जानिए।

इस मौसम में रखें खान-पान का ध्यान
X
इस मौसम में रखें खान-पान का ध्यान (फाइल फोटो)

मानसून के दौरान अपने खान-पान को लेकर अलर्ट रहने की जरूरत होती है। दरअसल, नमी और उमस भरे वातावरण में कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया पनपते हैं, जो ध्यान न देने पर खाद्य-पदार्थों को विषाक्त कर देते हैं। इनके सेवन से ये वायरस शरीर में पहुंच जाते हैं। पाचन तंत्र बिगड़ जाता है और प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। जिससे कोई भी आसानी से अपच, दस्त, पेचिश, हैजा, आंत्रशोथ, खांसी-जुकाम, टायफाइड, वायरल फीवर, जोड़ों में दर्द जैसी बीमारियों की चपेट में आ सकता है। वर्तमान कोरोना काल में संक्रमण से बचाव के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सही डाइट और भी जरूरी है।

इनका करें सेवन

-इस मौसम में हल्का, सुपाच्य, संतुलित आहार का सेवन करें। गेंहू, मक्का, जौ, बेसन जैसे साबुत सूखे अनाज और मूंग, चना जैसी दालों को शामिल करना बेहतर है। प्रोटीन, लौह और मैगनीशियम युक्त इन खाद्य-पदार्थों के सेवन से वॉटर रिटेंशन कम होता है और शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता है।

-आहार में मौसमी फल-सब्जियों को ज्यादा से ज्यादा शामिल करें। घिया, तोरई, टिंडा, भिंडी, फ्रैंच बींस जैसी हल्की और सुपाच्य सब्जियों का सेवन करें। करेला, मूली जैसी कड़वी तासीर वाली सब्जियां संक्रमण से बचाती हैं।

-पेट खराब होने से बचाने के लिए ज्यादा मिर्च-मसाले युक्त या तीखा भोजन खाने से परहेज करें।

-भोजन में अदरक, लहसुन, पुदीना, धनिया, काली मिर्च, हल्दी, हींग, मेथी दानों, काली मिर्च, जायफल, तुलसी, बड़ी इलायची, सौंफ, अजवायन, करी पत्ता जैसे मसालों का उपयोग करें। ये पाचन शक्ति बढ़ाने में उपयोगी हैं।

-यथासंभव रोजाना तीन रंगों के फल खाएं, जैसे-जामुन, मौसंबी, अमरूद, आंवला, नाशपाती, आलू बुखारा, पपीता, स्ट्रॉबेरी, आम, सेब, अनार, केला। विटामिन सी से भरपूर ये फल शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकालने और संक्रमण से बचाव कर हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं।

-ऑयली या फ्राइड फूड के बजाय ग्रिल्ड और तंदूरी आहार बनाएं। ऑयल कम इस्तेमाल होने के कारण इनके सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं कम होती हैं।

-शरीर को डिटॉक्स करने के लिए इस मौसम में लिक्विड डाइट लें। दिन में कम से कम एक बार नारियल पानी, सेंधा नमक-अजवायन-जीरा मिलाकर नमकीन लस्सी, सूप, अदरक-तुलसी-काली मिर्च की चाय या काढ़ा जैसे पेय लें। हर्बल या ग्रीन चाय, कॉफी, वेजिटेबल सूप जैसे गर्म पेय भी ले सकती हैं। सूप में मौजूद विटामिंस और मिनरल्स बारिश के मौसम में आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं।

-रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए रात को सोने से पहने गोल्डन मिल्क या हल्दी वाला गर्म दूध जरूर लें।

इन पर करें अमल : भोजन बनाते समय सफाई का विशेष ध्यान रखें। औषधीय साबुन से अपने हाथ धोने के बाद ही खाना बनाएं।

-बाजार से लाई फल-सब्जियों को नमक मिले गुनगुने पानी या सिरका मिले पानी से अच्छी तरह धोने के बाद ही इस्तेमाल करें। ताकि इनमें मौजूद हानिकारक वायरस और बैक्टीरिया खत्म हो सकें।

-दिन में 3 बड़े मील से भरपेट भोजन करने के बजाय तकरीबन 2 घंटे के अंतराल पर ब्रंच लें। जिसमें आप फल, ड्राई फ्रूट्स, स्नैक्स, सूप जैसे हल्के और पौष्टिक आहार ले सकती हैं। ध्यान रखें कि भूख हो तभी खाएं। वरना अपच, पेट में संक्रमण जैसी बीमारियां होने का खतरा रहता है।

-पेयजल का विशेष ध्यान रखें। बेशक घर में चाहे आरओ लगा हो या जल बोर्ड का पानी आता हो। बेहतर होगा कि पानी को कम से कम 2-3 मिनट तक उबालें। ठंडा होने पर छानकर ही इस्तेमाल करें। तांबे या चांदी के बर्तन में रखा पानी पीना फायदेमंद है। इससे कीटाणुओं का नाश होता है और पानी भी स्टरलाइज होता है। कोशिश करें फ्रिज का ठंडा पानी न पिएं ,क्योंकि इससे सर्दी-जुकाम का खतरा रहता है। संभव हो तो गुनगुना पानी पिएं।

-ताजा और गर्म भोजन ही खाएं। बचे हुए भोजन को एयरटाइट कंटेनर में बंद करके फ्रिज में रखें और 24 घंटे के भीतर खा लें। नमीयुक्त वातावरण की वजह सें खाना संक्रमित हो सकता है।

-बैक्टीरिया पनपने की आशंका से पालक, पत्ता गोभी, फूलगोभी जैसी हरी पत्तेदार सब्जियों से परहेज करें। जरूरी हो तो साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखकर बनाएं।

-ताजे फलों का ही सेवन करें। मुरझाए हुए, दागी, कटे-फटे या ढीले-गले हुए फल खाने से बचें। क्योंकि ऐसे फल विषाक्त हो जाते हैं और आपकी पाचन प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं।

-तरबूज, खरबूजा जैसे जलीय फल न खाएं। नम प्रकृति के कारण इनमें बैक्टीरिया होने की संभावना अधिक होती है।

-बाजार में मिलने वाली चाट-पकौड़े, भल्ले-पापड़ी, गोलगप्पे जैसी चीजें खाने से बचें।

-फ्राइड खाना बनाने के लिए सरसों, मूंगफली और तिल जैसे हैवी ऑयल के बजाय मकई, सोयाबीन, ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करें। हैवी ऑयल पित्त बढ़ाने के अलावा शरीर को कमजोर बनाते हैं।

-वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए आइसक्रीम, दही, कुल्फी, जूस, मिल्क शेक जैसी चीजों के सेवन से बचें।

-आहार में नमक सीमित मात्रा में इस्तेमाल करें या फिर अधिक नमकीन खाद्य पदार्थ खाने से परहेज करें। अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में वॉटर रिटेंशन और सूजन हो सकती है।

-नॉनवेज डाइट से परहेज करें।

Also Read: 5 अगस्त से खुलेंगे जिम, जाने से पहले एक बार जरूर जान लें ये बातें

-भोजन बनाते समय सफाई का विशेष ध्यान रखें। औषधीय साबुन से अपने हाथ धोने के बाद ही खाना बनाएं।

-बाजार से लाई फल-सब्जियों को नमक मिले गुनगुने पानी या सिरका मिले पानी से अच्छी तरह धोने के बाद ही इस्तेमाल करें। ताकि इनमें मौजूद हानिकारक वायरस और बैक्टीरिया खत्म हो सकें।

प्रस्तुति-रजनी अरोड़ा

Next Story
Top