Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अगर आप भी TOILET में बैठकर चलाते हैं फोन तो ये 5 वजह जानने के बाद बदल लेंगे अपनी आदत

आज के समय में फोन (Smartphone) आपका एक अच्छा दोस्त बन गया है, आप दुनिया से भले ही कुछ भी छिपा लें, मगर अपने फोन से कुछ नहीं छिपा पाते हैं, अगर आपका फोन आपके पास न हो तो आपको सब खाली-खाली सा लगता है।

अगर आप भी TOILET में बैठकर चलाते हैं फोन तो ये 5 वजह जानने के बाद बदल लेंगे अपनी आदत
X

अगर आप भी TOILET में बैठकर चलाते हैं फोन तो ये 5 वजह जानने के बाद बदल लेंगे अपनी आदत

आज के समय में फोन (Smartphone) आपका एक अच्छा दोस्त बन गया है, आप दुनिया से भले ही कुछ भी छिपा लें, मगर अपने फोन से कुछ नहीं छिपा पाते हैं, अगर आपका फोन आपके पास न हो तो आपको सब खाली-खाली सा लगता है। ऐसा लगता है कि आपके पास कोई काम ही नहीं है। कुछ लोग तो ऐसे हैं कि टॉयलेट (Toilet) में भी फोन को साथ लेकर जाते हैं और उसे वहीं बैठकर इस्तेमाल करते रहते हैं। यहां आपको ऐसे कुछ कारण बताए जा रहे हैं, जिनकी वजह से आपको अपना फोन बाथरूम में ले जाने से बचना चाहिए।

90 प्रतिशत लोग टॉयलेट में इस्तेमाल करते हैं फोन

खबरों की मानें तो, हाल ही में एक रिसर्च किया गया है, जिसमें दावा किया गया है कि 90 प्रतिशत लोग बाथरूम (Bathroom) में अपने फोन (smartphone) का इस्तेमाल करते हैं।

ये है कारण

1- बढ़ता है इन्फेक्शन होने का खतरा

जब आप अपने फोन को टॉयलेट में ले जाते हैं, तो आप अपने फोन को साल्मोनेला, ई. कोलाई और सी. डिफिसाइल जैसे कीटाणुओं के संपर्क में लाते हैं, जिससे इन्फेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है।

2- बवासीर का खतरा

जब आप अपना फोन साथ ले जाते हैं, तो आप अधिक देर तक बैठते हैं, जिससे आपके मलाशय पर अनावश्यक दबाव पड़ता है, जिससे बवासीर हो सकता है।

3- गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या

मलाशय पर दबाव डालने से आप पहले से मौजूद गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं को और खराब कर सकते हैं।

4- समय खराब करना

जब आप सुबह अपने फोन को टॉयलेट में ले जाते हैं, तो आप वहां बैठकर फोन चेक करते रहते हैं और अपना समय खराब करते रहते हैं। अगर आप बिना फोन के टॉयलेट जाएंगे तो जल्दी वापस आ जाएंगे।

5-आप एडिक्ट (Addict) हो सकते हैं

यदि आप अपने फोन को शौचालय तक भी ले जा रहे हैं, तो इसका मतलब यह है कि आप अपने फोन के बिना नहीं रह पाते हैं और आपको इसकी आदत हो गई है।

और पढ़ें
Next Story