logo
Breaking

स्टडी: जल्दी मौत के शिकार होते हैं ज्यादा देर तक बैठने वाले लोग

एम्स के ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ. सी. एस. यादव भी मानते हैं कि सेडेंटरी लाइफस्टाइल एक साथ कई बीमारियों की जड़ है। उ

स्टडी: जल्दी मौत के शिकार होते हैं ज्यादा देर तक बैठने वाले लोग
नई दिल्ली. अगर आप ज्यादा देर तक कुर्सी पर बैठे काम करते हैं या ज्यादा देर तक टीवी देखने की आदत रखते हैं तो तुरंत सावधान हो जाइये। ऐसे लोगों की फिजिकल ऐक्टिविटी नहीं होने की वजह से उम्र घटने लगती है और वे जल्दी मौत का शिकार हो जाते हैं। इंटरनैशनल मैगजीन की मानें तो जितना नुकसान स्मोकिंग से होता है, उससे कहीं ज्यादा सेडेंटरी लाइफस्टाइल से होता है। स्मोकिंग से कैंसर और हार्ट की बीमारी होती है, लेकिन बैठे रहने से इन दोनों बीमारियों के अलावा कई ऐसी बीमारियां होने का खतरा रहता है। इसलिए सेडेंटरी लाइफस्टाइल को स्मोकिंग से ज्यादा खतरनाक कहा जा सकता है।
हाल ही में एक इंटरनैशनल जरनल में पब्लिश स्टडी के मुताबिक कुर्सी पर जमे रहने से अलग-अलग बीमारियों से मरने का खतरा 27 पर्सेंट और टेलिविजन देखने से होने वाली बीमारियों से मौत होने का खतरा 19 पर्सेंट होता है। दिल्ली जैसे शहरों में ज्यादातर लोगों को घंटों ऑफिस में बैठकर काम करना पड़ता है और घर में लोग टीवी के सामने जमे रहते हैं। ऐसे में यहां खतरा ज्यादा है और यही सही वक्त है कि इसकी गंभीरता को समझते हुए अपने लाइफस्टाइल को समय रहते बदला जाए।
बैठे रहने का बड़ा खतरा
एनबीटी के अनुसार, एम्स के ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ. सी. एस. यादव भी मानते हैं कि सेडेंटरी लाइफस्टाइल एक साथ कई बीमारियों की जड़ है। उन्होंने कहा कि सेडेंटरी लाइफस्टाइल का मतलब है ऐसा रुटीन, जिसमें लोग काफी लंबे समय तक बैठे रहते हैं। बैठे रहने की वजह से वे दिन में एक घंटा भी फिजिकल ऐक्टिविटी नहीं करते हैं, न एक्सरसाइज, न योग और न ही कोई वर्कआउट। इस वजह से बॉडी स्लो होती जाती है। उनकी यह आदत ऑफिस जाने के बाद और बढ़ जाती है, क्योंकि ऑफिस में कुर्सी पर बैठकर काम करना पड़ता है। घंटों लगातार बैठे रहने की वजह से एक साथ कई बीमारियां होने का खतरा रहता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, अन्य नुकसानों के बारे में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top