Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सावधान ! रोजाना का बढ़ता तनाव कर सकता है आपका वैवाहिक जीवन बर्बाद

आज के दौर में हर इंसान घर, ऑफिस से जुड़ी चिंता और स्ट्रेस से परेशान रहता हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि तनाव नामक ये बीमारी आपकी सेहत पर ही बुरा असर नहीं डालती बल्कि आपके वैवाहिक जीवन को भी पूरी तरह से बर्बाद करने में सक्षम है। इसलिए आज हम आपको तनाव की वजह से वैवाहिक जीवन पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों के बारे में बता रहे हैं। आइए जानते हैं तनाव कैसे करता है वैवाहिक जीवन...

सावधान ! रोजाना का बढ़ता तनाव कर सकता है आपका वैवाहिक जीवन बर्बादHow to Stress can Destroy your Married life In Hindi

अगर आप भी कुछ दिनों से पार्टनर के साथ रिश्ते में आ रही दूरियों को महसूस कर रहे हैं, तो इसका एक कारण आपका तनाव हो सकता है। क्योंकि लंबे समय तक तनाव रहने परये आपको बीमार बनाने के साथ रिश्तों को अंदर से खोखला करने लगता है। जिससे आत्मविश्वास में कमी आना, निर्णय लेने की क्षमता कम होना आदि शामिल है। ऐसे में हम आपके लिए लेकर आए हैं वो तनाव की वजह से वैवाहिक जीवन को प्रभावित करने वाले कारण

वैवाहिक जीवन को बर्बाद करने वाले कारण / Reasons to Ruin Married Life




1. वैवाहिक जीवन में आपसी विश्वास को बढ़ाने और अपने प्यार का इजहार करने के लिए शारीरिक संबंध महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन लंबे समय तक घर और ऑफिस के काम से संबंधित तनाव की वजह से अक्सर लोग खुद को थका हुआ महसूस करते हैं। जिससे पार्टनर के साथ यौन संबंधों में धीरे-धीरे कमी आने लगती है। जो कि वैवाहिक जीवन के लिए नुकसानदायक होता है।




2.चिंता या तनाव एक ऐसी भावना है, जो हमें दूसरों से अलग या उन पर पूरी तरह से निर्भर बना सकती है। तनाव की ये दोनों ही स्थितियां सभी के लिए घातक होती हैं। तनाव की पहली स्थिति में व्यक्ति अपने पार्टनर से कटा-कटा रहने लगता है और किसी भी तरह की बातें शेयर करने से बचता है। जबकि तनाव की दूसरी स्थिति में व्यक्ति अपने पार्टनर पर अपने हर काम के लिए डिपेंड हो जाता है। क्योंकि इन दोनों ही स्थितियों में पार्टनर आपसे परेशान हो जाता है। जिससे रिश्ते में प्यार और विश्वास की कमी होने लगती है।





3. लंबे समय तक तनाव रहने पर लोगों में धीरे-धीरे आत्मविश्वास की कमी होने लगती है। जिसका बुरा असर उनके करियर, परिवार के अलावा वैवाहिक जीवन से जुड़ी चीजों के बारे में खुद के किए फैसलों पर संदेह के रुप में देखने को मिलता है।




4. अधिक तनाव होने पर व्यक्ति अक्सर एक कंफ्यूजन की स्थिति में रहता है। जिसके फलस्वरुप वो बच्चों, परिवार या पार्टनर से जुड़ी चीजों के बारे में जल्दबाजी में निर्णय लेता है या निर्णय लेने से पीछे हटना लगता है। तनाव की ये दोनों स्थितियां व्यक्ति में निर्णय लेने की क्षमता पर बुरा असर डालती हैं। वैवाहिक जीवन के लिए खतरनाक साबित होती है।







5. हर रिश्ते की ही तरह वैवाहिक जीवन में एक-दूसरे को जानने, आपसी समझ को विकसित करने के लिए आपसी संवाद होना बेहद जरुरी होता है। ऐसे में अगर आप ऑफिस के काम की वजह से, परिवार की जिम्मेदारियों की वजह से अक्सर या पार्टनर के साथ छोटी-छोटी लड़ाईयों पर रुठने की वजह से आपसी बातचीत को बंद कर देते हैं। तो आपका पार्टनर आपके दिल की बातों, आपके नजरिये को सही से समझ नहीं पाता है। जिससे धीरे-धीरे रिश्ते में तनाव बढ़ने लगता है और बात ब्रेकअप या डिवोर्स तक पहुंच जाती है।

Next Story
Share it
Top