logo
Breaking

साइनस क्या होता है, जानें साइनस के कारण, लक्षण और उपचार

Health Tips : आजकल बिगड़े लाइफस्टाइल और खान-पान की गलत आदतों की वजह से लोग अक्सर कई सारी बीमारियों से घिरे रहते हैं। उन्हीं बीमारियों में एक है साइनस, साइनस होने पर लोगों में सिरदर्द, सांस लेने में दिक्कत होना, नाक में खुजली जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आज हम आपको साइनस के लक्षण और उपचार (Sinus Causes,Symptoms and Treatments) बता रहे हैं।

साइनस क्या होता है, जानें साइनस के कारण, लक्षण और उपचार

Health Tips : आजकल बिगड़े लाइफस्टाइल और खान-पान की गलत आदतों की वजह से लोग अक्सर कई सारी बीमारियों से घिरे रहते हैं। उन्हीं बीमारियों में एक है साइनस, साइनस होने पर लोगों में सिरदर्द, सांस लेने में दिक्कत होना, नाक में खुजली जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आज हम आपको साइनस के लक्षण और उपचार (Sinus Causes,Symptoms and Treatments) बता रहे हैं।

साइनस क्या होता है :

साइनस को आमतौर पर सांस की बीमारी या इंफेक्शन से होने वाली बीमारी माना जाता है, जबकि ये नाक की एक गंभीर बीमारी है। जिसमें नाक की हड्डी बढ़कर तिरछी हो जाती है। जिससे सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। साइनस से पीड़ित व्यक्ति को ठंडी हवा, धूल और धुएं के संपर्क में आने से परेशानी बढ़ जाती है।

दरअसल सांस लेने पर हवा हमारे श्वास नली के जरिए मस्तिष्क में जाकर एक थैलीनुमा नली से होकर फेफड़ों तक जाती है। यह थैली, हवा के साथ आई गंदगी यानि धूल, धुएं और दूसरी गंदगियों को शरीर में जाने से रोकती है। लेकिन जब साइनस का मार्ग रुक जाता है, तो इससे बलगम निकालने में दिक्कत होती है। जिसे साइनोसाइटिस नामक बीमारी भी कहा जाता है।

इसके अलावा साइनस में इंफेक्शन होने पर नाक की झिल्ली में सूजन आ जाती है और लंबे समय तक इलाज न मिलने पर उसमें मवाद या बलगम आदि भर जाता है और साइनस बंद हो जाते हैं। जिससे सांस लेना काफी मुश्किल हो जाता है।

साइनस के कारण :

एक्सपर्ट के मुताबिक साइनस होने के 3 कारण...

1. बैक्टीरिया

2. फंगल इंफेक्शन

3. नाक की हड्डी का ढ़ेडा होना।

4. प्रदूषण

साइनस के लक्षण :

1. सिर में तेज दर्द होना

2. बुखार रहना

3. नाक से कफ आना

4. खांसी या कफ जमना

5. दांत में दर्द रहना

6. नाक से सफेद हरा या फिर पीला कफ निकलना

7. चेहरे पर सूजन आना

8. कोई गंध न आना

9. साइनस की जगह दबाने पर दर्द

साइनस के उपचार :

1. अगर आपको साइनस की वजह से सिरदर्द और सांस लेने में परेशानी महसूस कर रहे हैं, तो ऐसे में प्याज को धोकर कद्दूकस करके उसका रस निकालकर पानी में मिलाकर उबाल लें। फिर प्याज वाले पानी से कुछ देर भाप लेकर सो जाएं। इससे कुछ देर में आपकी बंद नाक खुल जाएगी।

2. साइनस के उपचार में तेल का उपयोग करना बेहद फायदेमंद होता है। आमतौर पर साइनस को ठीक करने के लिए पुदीने, नींबू और लौंग के तेल का इस्तेमाल किया जाता है। नियमित रूप से इन तेलों को गर्म करके सीने, नाक और सिर पर मसाज करने से राहत मिलती है। इन खास तेलों को घर में भी आसानी से बनाया जा सकता है। इसके लिए नारियल या जैतून के तेल में पुदीना पत्ती या नींबू के छिलकों डालकर गर्म करें या धूप में लगातार 1 सप्ताह रखें।

3. साइनस को दूर करने के लिए गर्मागर्म चाय पीना भी बेहद असरदार उपाय है। इसके लिए अदरक, तुलसी, लौंग और इलायची वाली चाय पीने से न सिर्फ बंद नाक खुलती है बल्कि सर्दी जुकाम और सिरदर्द में भी राहत मिलती है।

4.साइनस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए टमाटर भी कारगर होता है। टमाटर, लहसुन,नमक एक मिक्सर में डालकर पेस्ट बना लें, फिर पानी डालकर एक उबाल आने तक पका लें फिर काली मिर्च पाउडर मिलाकर गर्मागर्म सूप का सेवन करें।

5.अगर आप साइनस की कड़वी दवाईयों और नोजल का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं, तो ऐसे में रोजाना लहसुन की 1-2 कलियों का सेवन करें या गर्मागर्म सूप बनाकर पीएं। लहसुन में एंटी फंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। जिससे इंफेक्शन को आसानी से दूर किया जा सकता है।

Share it
Top