Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानिए क्यों जरूरी है इम्यूनाइजेशन, ये इन बीमारियों से करता है बचाव

वयस्क किसी भी समय वैक्सीनेशन ले सकते हैं। न्यूमोनिया और हेपेटाइटिस के वैक्सीन की सफलता दर पूरे विश्व में काफी अच्छी है।

जानिए क्यों जरूरी है इम्यूनाइजेशन, ये इन बीमारियों से करता है बचाव
नई दिल्ली. हमारे देश में अधिकतर लोगों का मानना है कि इम्यूनाइजेशन मुख्य रूप से बच्चों के लिए होता है लेकिन सच्चाई यह है कि इम्यूनाइजेशन हर उम्र में कारगर है। चाहे आप युवा हों या उम्र दराज। उम्रदराज लोग और ऐसे युवा जिनके संक्रमण की चपेट में आने की आशंका अधिक होती है, जैसे धूम्रपान करने वाले, डायबिटीज से पीड़ित और ऐसे लोग जो किसी गंभीर रोग से पीड़ित हैं उन्हें, वैक्सीनेशन कराने की सलाह दी जाती है।
वयस्क किसी भी समय वैक्सीनेशन ले सकते हैं। न्यूमोनिया और हेपेटाइटिस के वैक्सीन की सफलता दर पूरे विश्व में काफी अच्छी है। इससे कई तरह के संक्रामक रोगों से हम जीवन भर सुरक्षित रह सकते हैं। इम्यूनाइजेशन की इंपॉर्टेंस और इसके टाइप्स के बारे में, जानिए-
इम्यूनाइजेशन क्या है
इम्यूनाइजेशन या टीकाकरण वह प्रक्रिया है, जिसमें किसी व्यक्ति को वैक्सीन के प्रयोग से संक्रामक रोगों के प्रति इम्यून या रेजिस्टेंट बनाया जाता है। वैक्सीन शरीर के रोग प्रतिरोधक तंत्र को स्टीम्युलेट करता है, जिससे बीमारियों और संक्रमणों से बचाव होता है। इम्यूनाइजेशन जीवन के लिए घातक संक्रमण और बीमारियों को नियंत्रित और समाप्त करता है। आंकड़ों की मानें तो इम्यूनाइजेशन के द्वारा प्रतिवर्ष 20-30 लाख लोगों की जान बचाई जा सकती है। इम्यूनाइजेशन पर खर्च भी कम आता है और इसके लिए जीवनशैली में बड़े परिवर्तन की आवश्यकता नहीं होती है।
इम्यूनाइजेशन प्रोसेस
इम्यूनाइजेशन एक सुरक्षित और प्रभावकारी प्रक्रिया है, इसमें कमजोर या मरे हुए वाइरस या बैक्टीरिया या प्रयोगशाला में निर्मित प्रोटीन, जो वाइरस का अनुकरण करता है को उसी वाइरस या बैक्टीरिया के संक्रमण को रोकने के लिए शरीर में इंजेक्ट किया जाता है। यह या तो उस रोग विशेष के लिए एंटीबॉडीज के निर्माण के लिए या इम्यूनिटी बढ़ाने वाली दूसरी प्रक्रियाओं को प्रेरित करके शरीर के रोग प्रतिरोधक तंत्र को ट्रिगर करता है।
क्यों है जरूरी
1.यह कई रोगों की रोकथाम का एक कारगर तरीका है।
2.यह आसान और कम खर्चीला है।
3.इम्यूनाइजेशन हमें गंभीर रोगों से बचाता है और दूसरे लोगों में इसके संक्रमण को भी रोकता है।
4.इसके साइड इफेक्ट्स भी बहुत कम हैं।
5.इम्यूनाइजेशन के कारण ही पोलियो और चेचक जैसे रोगों को लगभग समाप्त किया जाना संभव हुआ है। पर अभी और प्रयास करने होंगे।
6.वो बीमारियां जिन्हें इम्यूनाइजेशन के द्वारा रोका जा सकता है, उनमें से अधिकतर पिछले एक दशक में सबसे निचले स्तर पर हैं।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top