logo
Breaking

टेंशन लेने से होती है दिल की बीमारियां: रिसर्च

300 लोगों पर रिसर्च करने के बाद ये तथ्य आया सामने।

टेंशन लेने से होती है दिल की बीमारियां: रिसर्च
नई दिल्ली. एक बात जो हर डॉक्टर कहता है कि दिमाग में तनाव रहना हमारे दिल के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं होता है। एक नए रिसर्ज में इस सवाल का जवाब भी मिल गया है कि आखिर क्यों दिमाग का तनाव हमारे दिल के लिए दुश्मन है? मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल, बोस्टन के डॉक्टर अहमद तवाकल (सह-निर्देशन, हार्ट इमेजिंग प्रोग्राम) ने अपने रिसर्च में पाया है कि दिमाग का तनाव और हमारा दिल के बीच में सीधा संबंध है। हमारा दिमाग जितना तनाव मुक्त रहेगा हमारा दिल भी उतना स्वस्थ्य रहेगा।
डॉ. अहमद के इस रिसर्च को कई डॉक्टर दिल की बीमारी से जुझ रहे कई मरीजों के लिए बेहद उपयोगी माना रहे हैं। डॉक्टरों का मानना है कि इस रिसर्च के जरिए इस बात को समझना आसान हो जाएगा कि शरीर और दिमाग एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते हैं।
डॉ. अहमद के मुताबिक धूम्रपान, उच्च रक्तचाप और मधुमेह, हृदय रोग और स्ट्रोक दिल की बीमारियों के लिए मुख्य कारक होते हैं, लेकिन साथ ही ये हमारे को भी बीमार करते हैं।
डॉ. अहमद ने 300 लोगों पर रिसर्च किया और पाया है कि उनको 22 साल की उम्र में ही सीने में दर्द, हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी शिकायतें हो चुकी हैं। इन लोगों के दिमाग का जब पीईटी और स्कैन टेस्ट किया गया तो पाया गया इनका दिमाग बेहद तनावग्रस्त रहता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top