logo
Breaking

बार बार होने वाले दांतों के दर्द और कैविटी को करना है दूर, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

अगर किसी अनजान को अपना बनाना है तो उसके लिए आपकी एक स्माइल ही काफी है। ऐसा आपने जरूर सुना होगा, लेकिन हम अपनी बिगड़ी हुई खाने पीने की आदतों की वजह से अपने दांतो को अक्सर परेशानी में डालते हैं। जिससे मुंह में बनने वाले एसिड की वजह से दांतों का इनेमल खोखला होने लगता है और कैविटी बनने लगती है। ऐसे में अगर हम कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर अपने दांतो को मजबूत बनाने के साथ ही कैविटी फ्री भी बना सकते हैं।

बार बार होने वाले दांतों के दर्द और कैविटी को करना है दूर, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

अगर किसी अनजान को अपना बनाना है तो उसके लिए आपकी एक स्माइल ही काफी है। ऐसा आपने जरूर सुना होगा, लेकिन हम अपनी बिगड़ी हुई खाने पीने की आदतों की वजह से अपने दांतो को अक्सर परेशानी में डालते हैं। जिससे मुंह में बनने वाले एसिड की वजह से दांतों का इनेमल खोखला होने लगता है और कैविटी बनने लगती है। ऐसे में अगर हम कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर अपने दांतो को मजबूत बनाने के साथ ही कैविटी फ्री भी बना सकते हैं।

इसलिए आज हम आपके दांतों को मजबूत बनाने और नेचुरली कैविटी को हटाने के लिए कुछ ऐसे घरेलू उपचार बता रहे हैं। जिससे आप आसानी से अपने दांतों के दर्द को तो दूर कर ही पायेंगे , साथ ही अपनी खूबसूरत स्माईल से लोगों को इंप्रेस भी कर पायेगें।

यह भी पढ़ें : एलर्जी और कैंसर जैसी बीमारी को जड़ से करना है खत्म, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा

दांतों दर्द और कैविटी के घरेलू उपचार

1 लौंग

लौंग में एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एनाल्‍जेसिक और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल जैसे औषधीय गुण पाए जाते हैं। जिसकी वजह से ये हमारे दांतों से जुड़ी समस्याओं में बेहद कारगर साब्त होता है। लौंग के तेल की 2-3 बूंदे आपके दांत दर्द के लिए रामबाण का काम करती है, साथ ही दांतों में होने वाली कैविटी को भी बनने से रोकती है। लौंग के तेल का प्रयोग अक्सर रात को कॉटन बॉल में लेकर ही करना चाहिए।

2. नमक

लौंग की ही तरह नमक में भी एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुण पाएं जाते हैं जिससे ये दर्द और सूजन को कम करने में बेहद असरदार साबित होता है इसके साथ ही नमक का प्रयोग करने से मुंह के इंफेक्शन और नुकसानदायक बैक्टीरिया को बढ़ने से भी रोकने में मदद मिलती है।

अगर आपको दांतों को मजबूत बनाना है और इंफेक्शन से बचाना भी है तो आधा चम्‍मच नमक, थोड़ा सा सरसों का तेल और नींबू का रस मिलाकर पेस्‍ट बना लें और कुछ देर मसूड़ों पर मसाज जरूर करें।

यह भी पढ़ें : सावधान ! ठंड में भूलकर भी बच्चे को न लगाएं पेट्रोलियम जेली, हो सकती है गंभीर बीमारी

3.हल्दी

आयुर्वेद में, हल्दी को सबसे उम्दा दर्द निवारक माना गया है, क्योंकि हल्दी में एंटी-बैक्‍टीरियल गुणों के साथ एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुण भी पाए जाते हैं, जो हमारे दांतो और मसूढ़ों को हेल्दी रखने के साथ ही बैक्‍टीरियल इंफेक्शन की वजह से होने वाली के कारण दांतों की समस्या को खत्म करती है। इसके लिए आपको दांतो और मसूड़ों पर थोड़े से हल्दी पाउडर से मसाज करें और फिर गुनगुने पानी से कुल्ला जरूर करें।

4.लहसुन

अगर आप दांतों के दर्द, कैविटी और बार-बार टूटने की समस्या से परेशान रहते हैं, तो आप ऐसे में लहसुन को पीस कर सेंधा नमक के साथ मिलाकर लगाएं और 10 मिनट के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें। यही नहीं, दांतो से कैविटी दूर करने के लिए लहसुन-नमक पेस्ट को दिन में 2 बार दोहराएं। क्योंकि लहसुन में हल्दी और नमक की ही तरह एंटी बैक्‍टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुण पाए जाते हैं।

5. मुलेठी

मुलेठी एक ऐसी औषधीय गुणों वाली जड़ी बूटी है, जो नेचुरली ही दांतों में बैक्‍टीरिया की वजह से बनने वाली कैविटी को दूर करता है। साथ ही दांतो से प्लॉक को भी कम करने में सहायक होती है। अगर रोजाना दांतों की सफाई मुलेठी की दातून से की जाए तो आपको दांतों की किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Share it
Top