Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

World Heart Day 2019 Theme History Heart Disease : ये आदतें कमजोर कर देती है दिल

World Heart Day 2019 विश्व ह्रदय दिवस हर साल 29 सितंबर को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियों, असर और उनके बचाव से संबंधी जानकारी के बारे में जागरुकता फैलाना होता है। विश्व ह्रदय दिवस 2019 की थीम (World Heart Day 2019 Theme) ''मेरा दिल, तुम्हारा दिल है" रखी गई है। इस थीम को मुताबिक, अपने दिल के साथ अन्य के दिल का ख्याल रखते हुए एक हेल्दी लाइफस्टाइल को अपनाएं। ऐसे में आज हम आपको आपकी रोजाना की उन आदतों के बारे में बता रहे हैं, जो आपके दिल को धीरे-धीरे बीमार (Heart Disease In Hindi) बना रही हैं।

World Heart Day 2019 : सावधान ! आपकी रोजाना की ये आदतें बना सकती हैं दिल की बीमारी का शिकार, तुरंत करें बदलावWorld Heart Day 2019 theme and these Daily habits to invite heart disease in hindi

World Heart Day 2019 : आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर लोग तनाव, गलत खान-पान, स्मोकिंग, एल्कोहल और गुस्से की वजह से दिल पर एक्सट्रा दबाव बनता है, जिससे दिल सुचारु रुप से कार्य नहीं कर पाता और दिल की बीमारियों के साथ हाई बी.पी, हाई कोलस्ट्रॉल का शिकार होने लगते हैं। आइए जानते हैं दिल की बीमारी होने के कारण यानि आपकी बुरी आदतों के बारे में, जिससे आप समय पर दवा लेकर खुद का बचाव कर सकते हैं।




विश्व हृदय दिवस का इतिहास (World Heart Day History)

विश्व हृदय दिवस, 29 सितंबर साल 2010 में सबसे पहले मनाया गया था। विश्व हृदय दिवस पर लोगों को दिल की बीमारी (हर्ट स्ट्रोक,हर्ट अटैक और हर्ट फेल्योर) के बारे में बताया जाता है। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन 100 से अधिक विकसित और विकासशील देशों के साथ गैर-सरकारी संगठन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, दिल की बीमारी से हर साल लगभग 17.9 मिलियन लोगों की मौत हो जाती है। ये वैश्विक मृत्यु दर का 31 फीसदी हिस्सा है।

दिल की बीमारी होने के कारण (Causes of Heart Disease)




1. खर्राटे लेना (snoring)

अगर आपको रात में सोते समय तक तेज आवाज में खर्राटे मारने की आदत है, तो इसे तुरंत छोड़ दें, क्योंकि खर्राटे, श्वांस नली में ऑक्सीजन की सही मात्रा में न पहुंचने पर आते हैं। लंबे समय तक इस स्थिति के रहने पर दिल को ब्लड पंप करने में दिक्कत होती है। जिससे दिल के फेल होने का खतरा बढ़ जाता है।

2.ओवर ईटिंग (Over Eating)

अगर आप रोजाना ओवरइटिंग करते है, तो इससे धीरे-धीरे आपका वजन और मोटापा बड़ने लगता है। जिससे दिल पर शरीर को एक्टिव बनाए रखने के लिए अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे में अक्सर हमेशा सीमित मात्रा में ही खाना खाएं और कम नमक खाने का ही सेवन करें।




3. ज्यादा नमक का सेवन (Eating Excessive Salt)

अगर आपको खाने में ज्यादा नमक डालकर खाना पसंद है, तो ऐसे में आप हाई बल्ड प्रेशर का शिकार हो जाते हैं। जिसका बुरा असर मस्तिष्क, लीवर, और दिल पर साफतौर पर देखा जा सकता है।

4.बैलेस्ड डाइट न लेना (Do Not take a Balanced Diet)

दिल की सेहत को दुरुस्त रखने के लिए एक बैलेंस्ड डाइट लेना बहुत जरुरी होता है। रोजाना फल, सब्जी, होल ग्रेन, लो फैट डेयरी प्रॉडक्ट, प्रोटीन वाली डाईट लेने से दिल की बीमारियों के खतरे को 20 फीसदी तक कम किया जा सकता है।




5. शराब पीना और स्मोक करना (Drinking Alcohol and Smoking)

अगर आप रोजाना शाम को शराब और स्मोकिंग करते हैं, तो समझ जाइए कि आप अपने फेफड़ों के साथ दिल को भी बीमार बना रहे हैं। इससे हर्ट अटैक और हर्ट फेल हो सकता है।

6. डायबिटीज (Diabetes)

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो आपको रोजाना अपना इंसुलिन का स्तर नियंत्रित करने की जरुरत है, क्योंकि शरीर में ब्लड शुगर के लेवल में गिरवाट या बढ़ोतरी शरीर के अन्य अंगों के साथ दिल के लिए घातक साबित होती है।



7. डेंटल प्रॉब्लम पर ध्यान न देना (Ignoring Dental Problem)

आमतौर पर सीने में होने वाले दर्द को लोग अक्सर हर्ट अटैक समझ लेते हैं। एक सर्वे के मुताबिक, डेंटल प्रॉब्लम होने यानि फ्लॉस यूज नहीं करने पर धीरे-धीरे बैक्टीरिया और प्लाक मसूढ़ों पर जमा होने लगता है, जिससे दिल के रोगों की संभावना बढ़ जाती है।

8. टीवी देखना (Watching Tv)

घर और ऑफिस के बिजी शेड्यूल में अपने लिए कुछ पल निकालते हुए लोग अक्सर टी.वी देखना पसंद करते हैं, लेकिन लगातार 4 घंटे से अधिक टीवी देखने पर हार्ट आर्टरी डिजीज होने का खतरा 80 फीसदी बढ़ जाता है। एक्सपर्ट के मुताबिक, 8 से 9 घंटे ऑफिस में कंप्यूटर पर काम करने और घर पर टीवी देखने से शरीर का ब्लड शुगर और फैट्स बढ़ने लगता है। जिसका नेगेटिव असर पड़ता है।




9.डिप्रेशन को अनदेखा करना (Ignoring Depression)

आज के दौर में तनाव हर किसी की जिंदगी का एक अहम हिस्सा बनता जा रहा है। लगातार तनाव रहने से माइग्रेन, डिप्रेशन के साथ दिल बुरा असर पड़ता है। जबकि इस स्थिति में हंसी मजाक या खुश रहने पर दिल की बीमारियों को दूर किया जा सकता है।

10. पारिवारिक इतिहास ( Family History)

अगर आपके परिवार में किसी को पहले से दिल की बीमारी का इतिहास रहा है, तो उस घर के सभी लोगों को समय-समय पर दिल की बीमारियों से जुड़े टेस्ट करवाते रहना चाहिए, जिससे आप समय से बीमारी से निजात पा सकें।

Next Story
Top