Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: दिन में 6 से 10 बार हाथ धोकर कोरोना वायरस के संक्रमण को 90% तक किया जा सकता है खत्म

Coronavirus: हाल ही में हुई एक रिसर्च(Research) से सामने आया है कि दिनभर में 6-10 बार हाथों को अच्छे से धोकर कोरोना वायरस(Coronavirus) के इंफेक्शन को 90 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है(Risk Of Corona Can Be Reduced By Washing Hands)।

Coronavirus: दिन में 6-10 बार हाथों को धो कर कोरोना वायरस के संक्रमण को 90% तक खत्म किया जा सकता हैकोरोना वायरस (फाइल फोटो)

Coronavirus: महीनों पहले शुरू हुआ यह खतरनाक वायरस (Coronavirus Outbreak) थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। इसके चपेट में आने वालों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है(Coronavirus Case)। ऐसे में सबसे ज्यादा चिंता की बात है कि अभी तक इसके इलाजे के लिए कोई भी वैक्सीन (Corona Vaccine) नहीं बनी है। वहीं दुनियाभर के कई देश कोरोना वायरस पर तरह तरह की रिसर्च कर रहे हैं(Coronavirus Research)। इसी बीच हाल ही में हुई एक रिसर्च(Research) से सामने आया है कि दिनभर में 6-10 बार हाथों को अच्छे से धोकर कोरोना वायरस(Coronavirus) के इंफेक्शन को 90 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है(Risk Of Corona Can Be Reduced By Washing Hands)।

मास्क लगाकर भी कोरोना के खतरे को रोका जा सकता है

वहीं रिसर्चर्स(Researchers) का कहना है कि मास्क लगाकर भी कोरोना के खतरे को रोका जा सकता है। मास्क लगाने से 90 फीसदी तक ड्रॉपलेट द्वारा फैलने वाले संक्रमण को रोका जा सकता है। यह रिसर्च एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने की। रिसर्च में उन्होंने 7 अलग अलग तरह से फेस को ढकने वाले मास्क (Mask) पर की।

घर पर बने हुए मास्क भी इस्तेमाल कर सकते हैं

रिसर्च से सामने आया कि वायरस के संक्रमण को किसी भी तरह का मास्क लगाकर रोका जा सकता है। इसके लिए आप घर पर बने हुए मास्क भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके साथ ही रिसर्चर्स ने बताया कि वही मास्क सुरक्षित हैं जो चारों तरफ से हफा जाने की जगह नहीं होती है।

Also Read: Kheera Khane Ke Nuksan: ज्यादा खीरा खाना पड़ सकता है आपको भारी, महिला को भी हो सकती है ये दिक्कतें

डेली 6 से 10 बार हाथ धोना बहुत जरूरी है

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के मुताबिक कोरोना वायरस से बचने के लिए डेली 6 से 10 बार हाथ धोना बहुत जरूरी है। 2006 और 2009 के बीच फैले वायरस की महामारी के आंकड़ों के आधार पर इसे साबुन और पानी से खत्म किया जा सकता है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top