Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बांस की बोतल में पानी पीने के फायदे

बांस के फायदे (Bamboo Benefits) बहुत सारे होते हैं, दुनिया में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) नामक अभियान (Campaign) की शुरुआत की है। जिसके मुताबिक, प्लास्टिक से बने उत्पादों (पॉलीथीन, वॉटर बॉटल, पैकिंग) के उपयोग को पूरी तरह से खत्म करना है। बांस में पोटेशियम,कॉपर,विटामिन बी 6, मैंगनीज, विटामिन बी 2, आयरन, प्रोटीन जैसे शरीर के लिए बेहद जरुरी पौषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में अब पीने के पानी के लिए बांस से बनी बोतल के प्रयोग को मंजूरी मिल गई है। ऐसे में आज हम आपको बांस के फायदे (Bamboo Benefits) और बांस से बनी बोतल के पानी पीने के फायदे (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle) बता रहे हैं। जो हमे कई गंभीर बीमारियों से बचाने में भी कारगर साबित होगा।

बांस की बोतल में पानी पीने के फायदेBenefits of drinking water in bamboo bottle

Benefits of Drinking water in Bamboo Bottle : देश में पूर्वोत्तर भारत के अलावा अन्य हिस्सों में बांस का उपयोग बहुत कम होता है जिसकी वजह से अधिकांश लोग बांस के फायदे से अनजान हैं, लेकिन अब पीने के पानी की बोतल के लिेए बांस का उपयोग भारी मात्रा में किया जाएगा। ऐसे में बांस के फायदे और नुकसान के बारें में जानना बेहद जरुरी हो जाता है। आइए जानते हैं बांस के फायदे, बांस की बोतल के पौषक तत्व, बांस की बोतल में पानी पीने के फायदे ,बांस का उपयोग, बांस का उत्पादन होता है आदि...

बांस की बोतल के पौषक तत्व (Bamboo Bottle Nutrients)

पोटेशियम 640 मिलीग्राम (13.62%)

कॉपर 0.098 mg (10.89%)

विटामिन बी 6 (पाइरिडोक्सीन) 0.118 मिली

ग्राम (9.08%)

मैंगनीज, एमएन 0.136 मिलीग्राम (5.91%)

जस्ता, Zn 0.56 मिलीग्राम (5.09%)

विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन) 0.06 मिलीग्राम (4.62%)

ट्रिप्टोफैन 0.019 ग्राम (4.32%)

प्रोटीन 1.84 ग्राम (3.68%)

आइसोल्युसिन 0.061 ग्राम (3.65%)

आयरन, Fe 0.29 मिलीग्राम (3.63%)

बांस का उपयोग (Uses of Bamboo)

1. चटाइयां, कुर्सी, टेबल, चारपाई बनाने में उपयोग

2. मछली पकड़ने का कांटा, डलिया, मकान बनाने में उपयोग होता है

3. रसोई के बर्तन (खाना पकाने वाले बर्तन, गिलास,कटोरी, चम्मच) बनाने में प्रयोग किया जाता है

4. बांस से तीर, धनुष, भाले आदि हथियार बनाए जाते हैं।

5. बांसुरी, वॉयलिन, नागा लोगों का ज्यूर्स हार्प और मलाया का ऑकलांग वाद्ययंत्र बनाए जाते हैं।

6. प्राचीन काल से वायुदोष तथा दिल एवं फेफड़े की दवाओं को बनाने में उपयोग किया जाता है।

7. बांस का उपयोग पूजा में प्रयोग होने वाली अगरबती में भी किया जाता है।

8. बांस से खेती के औजार और उपकरण भी बनाए जाते हैं।

बांस का उत्पादन कहां होता है (Where is Bamboo Produced)

बांस का उत्पादन दुनिया के हर हिस्से में होता है। बांस उत्तरी एवं दक्षिणी अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया के साथ दक्षिणी एशिया में किया जाता है। चीन में बांस की सबसे अधिक प्रजातिया पाई जाती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, विश्व अर्थव्यवस्था में बांस का योगदान करीब 12 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक है जिसमें विकासशील देश सबसे आगे हैं।

बांस की खासियत (Bamboo Specialty)

बांस एक बेहद मजबूत पेड़ होता है। इसको बैम्बू शॉट्स और बैम्बू स्प्राउट्स के नाम से जाना जाता है। इसका तना 1- 120 फीट लंबा और 0.25-12 इंच चौड़ा होता है। बांस पीले रंग पर भूरे रंग की धारी वाला होता है। इसका स्वाद हल्का मीठा होता है। बांस 20 साल तक जीवित रहता है। बांस दो प्रकार का होता है, जिसमें विंटर बैम्बू और स्प्रिंग बैम्बू प्रमुख हैं। बांस की सबसे खास विशेषता इसका तेजी से बढ़ना होता है, कुछ प्रजातियां 24 घंटे में 1 मीटर तक बढ़ जाती हैं। इसलिए इसे दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला पेड़ माना जाता है।

बांस की बोतल में पानी पीने के फायदे (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle)

1. बढ़ती उम्र को रोकने में कारगर (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Slows Down the Aging Process)

रोजाना बांस के पानी से चेहरा धोने पर बढ़ती उम्र के निशान यानि एजिंग को रोकने में फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि बांस के पानी में एंटीऑक्सिडेंट तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जिससे शरीर में होने वाली डीएनए की क्षति को ठीक करने में मदद मिलती है।

2. त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Skin And Hair)

बांस में कोलेजन तत्व भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। जिससे बालों और त्वचा की नई कोशिकाओं को बनने में मदद मिलती है। ऐसे में बांस के पानी का उपयोग करने से त्वचा और बालों संबंधी समस्याओं से निजात मिलती है।

3. हड्डियों की मजबूती के लिए (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Strong Bone)

बांस का पेड़ बेहद मजबूत होता है। इसलिए इसका उपयोग एक डंडे के रुप में भी किया जाता है, लेकिन बांस के पानी में उच्च मात्रा में सिलिका नामक तत्व पाया जाता है। जिससे शरीर की हड्डियों को मजबूती मिलती है।

4. माइग्रेन के लिए उपयोगी बांस (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle for Migraine and Headache)

अगर आपको तनाव की वजह से अक्सर सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या रहती है, तो ऐसे में आप बांस की 10 मिली जड़ के रस में 500 मिग्रा कपूर मिलाकर एक मिश्रण बनाएं और फिर 1-2 बूंद नाक में डालने सेसिरदर्द और माइग्रेन का दर्द कम होता है।

5. फेफड़े की सूजन को कम करता है (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Lungs Inflammation)

बढ़ते प्रदूषण, स्मोकिंग और ड्रिंकिंग की वजह से लोगों को अक्सर फेफड़े में सूजन की शिकायत हो जाती है। ऐसे में रोजाना बांस के पत्तों से बने काढ़े का सेवन करने या गरारे करने से फेफड़े की सूजन के अलावा खांसी और गले के दर्द से भी निजात पा सकते हैं।

6. बवासीर की समस्या से निजात (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Piles)

लोगों को अक्सर ज्यादा चटपटा खाने से बवासीर की समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में बांस के पत्तों से बने काढ़े का रोजाना सेवन करने से लाभ मिलता है।

7. पीरियड्स में फायदेमंद Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Periods Problem)

बांस से बने काढ़े का सेवन करने से महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले पेट दर्द, अनिमित मासिक धर्म और अधिक ब्लीडिंग या कम ब्लीडिंग की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। इस काढ़े को बनाने के लिए 25 ग्राम बांस के पत्तों, 50 ग्राम शतपुष्पा में गुड़ मिलाकर सेवन करें।

8. बुखार में राहत के लिए बांस (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Fever)

मौसम बदलने और इंफेक्शन की वजह से बार-बार बुखार आता है, तो ऐसे में बांस के पत्तों के काढ़े का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। बांस के पत्तों और गिलोय के पत्तों को उबालकर पीस लें और उसमें शहद मिलाकर चटाने या काढ़ा पीने से बुखार से राहत मिलती है।

9. त्वचा रोगों में लाभदायक (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Skin Disease)

अगर आप त्वचा संबंधी रोगों यानि रेशेज,लाल रंग के दाने या कुष्ठ रोग से प्रभावित हैं, तो ऐसे में बांस के पत्तों का लेप बनाकर प्रभावित त्वचा पर दिन में एक या 2 बार लगाने से जल्द आराम मिलता है।

10. पेट संबंधी रोगों में फायदेमंद (Benefits of Drinking Water in Bamboo Bottle For Diarrhea)

ज्यादा मसालेदार और बाहर का अनहाईजेनिक फूड का सेवन करने से दस्त की समस्या का हो गई है, तो ऐसे में बांस के पत्तों, तने का कुछ हिस्सा या बांस के बीजों को पानी के साथ उबालकर काढ़ा बनाएं और 10-20 मिली 2-3 दिन सेवन करने से आराम मिलता है।

बांस का उपयोग करने की सावधानियां (Precautions Of Bamboo)

1. बांस के बीज को कभी भी कच्चा नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसको पचाने में पेट को दिक्कत का सामना करना होता है।

2. बांस के बीज का लंबे समय तक सेवन करने से थायराइड ट्यूमर, हाइपोथायरायडिज्म और गोइटर की समस्या बढ़ने लगती है।

3. शरीर से साइनाइड नामक जहर को खत्म करने के लिए बांस बेहद फायदेमंद होता है, लेकिन उसके लिए बांस के बीजों को उबालना जरुर चाहिए।

Next Story
Top