logo
Breaking

इस हार्ट डे बनाइये अपने दिल को हेल्दी, जानिए- अपने दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के टिप्स

अपने घर पर ध्यान केंद्रित करें और पता करें कि किस तरह के बदलाव करने से आप और आपके परिवार वाले अपने हार्ट को हेल्दी बना सकते हैं।

इस हार्ट डे बनाइये अपने दिल को हेल्दी, जानिए- अपने दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के टिप्स
नई दिल्ली. प्रदूषित वातावरण और अस्त-व्यस्त जीवनशैली से हमारे हार्ट की फंक्शनिंग प्रभावित होती है। इसलिए समय रहते ध्यान ना दें तो हम हार्ट पेशेंट बन सकते हैं। इसके बाद कब हार्ट अटैक का सामना करना पड़ जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता है। लेकिन इस स्थिती से बचाव संभव है। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन की सलाहों को अमल में लाकर आप हार्ट प्रॉब्लम्स से दूर रह सकते हैं।
हर वर्ष 29 सितंबर को वर्ल्ड हार्ट-डे मनाया जाता है। इस दिन लोगों में हृदय की सुरक्षा को लेकर जागरुकता फैलाई जाती है। इस साल की थीम है‘क्रिएटिंग हार्ट हेल्दी एन्वॉयरमेंट’। इस विषय के जरिए लोगों के बीच यह संदेश पहुंचाना है कि अगर वे चाहें तो स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर अपने दिल को स्वस्थ बना सकते हैं।
स्मोकिंग-एल्कोहल से बचें
स्मोकिंग और एल्कोहल का सेवन बहुत खतरनाक होता है। घर पर स्मोकिंग को बंद करने से न सिर्फ आप सेहतमंद रहेंगे बल्कि आपके बच्चे भी सेहतमंद रहेंगे। आपकी इस आदत से बच्चों के बीच अच्छा संदेश जाएगा। अगर आप घर पर सिगरेट या अल्कोहल पीते हैं तो आपकी देखा-देखी आपके बच्चे भी सिगरेट और अल्कोहल का सेवन शुरू करते हैं। क्योंकि अक्सर बच्चे अपने माता-पिता की ऐसी आदतों की नकल करते हैं।

लें हेल्दी फूड
1. फास्ट फूड जैसे चिप्स, पिज्जा, समोसा आदि का सीमित मात्रा में ही सेवन करें। इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में शुगर, फैट और नमक होता है, जिससे हमें नुकसान पहुंचता है।
2. तेल का इस्तेमाल भी सीमित मात्रा में ही करें। एक महीने में एक व्यक्ति के लिए आधा लीटर तेल पर्याप्त होता है। इस बात का भी ध्यान रखें कि हर बार एक ही तरह का तेल न हो। कभी सूरजमुखी का तो कभी मूंगफली का, कभी जैतून तो कभी सरसों का तेल इस्तेमाल कीजिए।
3. बच्चों/बड़ों के लिए घर पर ही पौष्टिक लंच तैयार करें। खाने में एक साथ कई तरह की डिश का सेवन न करें। इससे अक्सर हम ओवरईटिंग का शिकार हो जाते हैं।
बनें एक्टिव
1. घर पर बहुत ज्यादा टीवी न देखें, ना ही वीडियो गेम खेलें। इसके बदले आउटडोर एक्टिविटीज में खुद को इंवाल्व करें।
2. सप्ताह में पांच से छह दिन कम से कम 45 से 60 मिनट वॉक करें। आप चाहें तो स्वीमिंग या साइक्लिंग भी कर सकते हैं या जिम भी जा सकते हैं।
हार्ट डिजीज के खतरे को पहचानें
1. जनरल चेकअप के लिए डॉक्टर के पास जाएं और अपना बीपी, कोलेस्ट्रॉल, ग्लूकोज लेवल, वजन और बॉडी मास इंडेक्स चेक कराएं। अगर आपके घर में किसी को भी 60 साल से पहले हाइपरटेंशन, डायबिटीज मेलिटस, हार्ट डिजीज या स्ट्रोक की शिकायत है या रही है तो आपके लिए मेडिकल चेकअप करवाना बेहद जरूरी हो जाता है।
2. अपने हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए विशिष्ट योजना बनाएं। आपके डॉक्टर भी आपको जरूरत के अनुसार जांच और इलाज कराने की सलाह दे सकते हैं।
अपने वजन को नियंत्रण में रखें।
दिल के स्वास्थ्य के लिए तनाव मुक्त रहना बहुत जरूरी है। योग, म्यूजिक, मेडिटेशन जैसी रिक्रिएशनल एक्टिविटीज के जरिए खुद को तनाव मुक्त रखें।
स्वस्थ वातावरण के लिए सामूहिक प्रयास
1. वर्ल्ड हार्ट-डे के दिन अपनी लोकल कम्युनिटीज के साथ मिलकर अपने आस-पास स्वच्छ वातावरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें ताकि सभी के हार्ट हेल्दी बने। इस तरह के सामूहिक प्रयासों से आप अपने एरिया में परिवर्तन ला सकते हैं और हेल्दी एन्वॉयरमेंट क्रिएट कर सकते हैं। इसके लिए आपको स्कूलों में फिजिकल एडुकेशन, स्पोर्ट्स और चाइल्ड केयर फैसिलिटीज को बढ़ावा देने के लिए भी कदम उठाने होंगे।
2. आप अपनी कम्युनिटी में प्लेग्राउंड, टहलने के लिए फुटपाथ के साथ- साथ पार्क आदि बनवा सकते हैं। अगर ये पहले से बने हुए हैं तो इनका रख-रखाव करे, ताकि आप एक स्वच्छ वातावरण में रह सकें।
3. स्कूल, वर्कप्लेस, हॉस्पिटल और क्लिनिक में हेल्दी, न्यूट्रिशस फूड मिलते हैं या नहीं, इस बात का भी ख्याल रखें।
Share it
Top