Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वाइब्रेशन लेवल को रखें सही जिएं हेल्दी-एनर्जेटिक लाइफ

शरीर के भीतर और बाहर मौजूद वाइब्रेशंस का हमारी फिजिकल और मेंटल हेल्थ पर गहरा असर पड़ता है। वाइब्रेशन लेवल को बढ़ाकर हम हेल्दी और एनर्जी से भरपूर लाइफ जी सकते हैं। इसके लिए अपने इमोशंस को समझने के साथ लाइफस्टाइल में भी कुछ बदलाव करने होंगे। इस बारे में हम दे रहे हैं बहुत उपयोगी जानकारियां।

वाइब्रेशन लेवल को रखें सही जिएं हेल्दी-एनर्जेटिक लाइफ
X

आपको क्या इस बात की जानकारी है कि हमारे तन और मन को स्वस्थ रखने में तरह-तरह के वाइब्रेशंस यानी कंपन की बड़ी भूमिका होती है? हमारे दैनिक क्रिया-कलाप हों या हमारी भावनाएं, सब में एक खास प्रकार का कंपन होता है। इसका सही लेवल शरीर के आंतरिक अंगों, दिमाग और ओवरऑल हेल्थ को मेंटेन रखने के लिए काफी जरूरी है। नेगेटिव इमोशंस, इस वाइब्रेशन के लेवल को कम कर देते हैं जबकि पॉजिटिव इमोशंस से इसका लेवल बढ़ जाता है। इसलिए हमें इनका लेवल सही रखने का तरीका सीखना होगा और तय करना होगा कि हम इमोशंस को कंट्रोल कर सकें, बजाय इसके कि इमोशंस हमें कंट्रोल करें।

इंपॉर्टेंट है वाइब्रेशन समझना

यूनाइटेड किंगडम की साउंड थैरेपिस्ट जोआना मैकइवेन अपना वेलबीइंग वर्कशॉप चलाती हैं। जहां वे साउंड हीलिंग, म्यूजिक, ड्रामा, ब्रीदिंग, माइंडफुलनेस और बॉडी अवेयरनेस का पाठ पढ़ाती हैं। अपने टेड टॉक 'व्हाई रेजिंग युअर वाइब्रेशन इंक्रिजेज सेरेण्डिपीडीटी' में उन्होंने कहा है कि अपने समान इमोशनल लेवल के किसी व्यक्ति से बात करते हुए या पर्सनल सिचुएशन में हम अपने भीतर इस वाइब्रेशन को महसूस कर सकते हैं। हमारा आंतरिक वाइब्रेशन तय करता है, हम कैसी एनर्जी या वाइब्रेशन प्राप्त करेंगे। ठीक वैसे ही जैसे विभिन्न रेडियो वेव्स अलग-अलग रेडियो स्टेशंस पकड़ लेते हैं। अगर हम समझ लें कि पॉजिटिव लेवल पर कैसे ऑपरेट करना है ताकि हम जीवन में ज्यादा सकारात्मक अनुभव हासिल कर सकें तो यह हमारे लिए फायदेमंद होगा।

कैसे इंप्रूव करें वाइब्रेशन

बकौल जोआना मैकइवेन आइए जानते हैं कि हम अपनी पॉजिटिव वाइब्रेशन कैसे इंप्रूव कर सकते हैं-

हंसी-ठहाके

जिंदादिली, मस्तमौलापन, सेंस ऑफ ह्यूमर और हंसी-ठहाके लगाने की आदत हमें संघर्ष की तकलीफों और दर्द को भुलाने में मददगार होती है। अपने इंटरनल वाइब्रेशन को इंप्रूव करने के लिए रोज कम से कम आधा घंटा खुलकर हंसने की आदत डालें। हंसने से हमारे शरीर के केमिकल कंपोजिशन में बदलाव आता है और इससे इस ब्रह्मांड के साथ हमारा तालमेल बेहतर होता है।

एरोमा थेरेपी

लैवेंडर, सेज, फ्रैंकइसेंश, पेचूलि, मिर आदि अच्छे और हाई वाइब्रेशन एसेंशियल ऑयल हैं। इसके अलावा खूबसूरत, रंग-बिरंगे और सुगंधित फूलों में भी गंध और रंगों के माध्यम से वाइब्रेशन क्रिएट करने की क्षमता होती है।

अवेयरनेस

अपनी शारीरिक और मानसिक सेहत के बारे में समय-समय पर समीक्षा करें। जिनमें सुधार की जरूरत है, उनके लिए जतन करें। आस-पास के माहौल और लोगों के प्रति जागरूक रहें और उनकी जानकारी रखें। लोगों के प्रति प्रेम की भावना रखें, इससे आपको भी उनसे प्रेम मिलेगा। प्यार और स्नेह से अच्छा वाइब्रेशन मिलता है।

मेडिटेशन

अपनी ब्रीदिंग पर फोकस करके आप अपनी चेतना शक्ति को उच्चतम स्तर पर ले जा सकते हैं। मेडिटेशन आपका फ्रीक्वेंसी लेवल भी बढ़ाता है। रेग्युलर मेडिटेशन से आपका तन और मन स्वस्थ रहता है।

टॉक्सिन फ्री डाइट

वाइब्रेशन बढ़ाने का एक बेहतरीन उपाय है-टॉक्सिन फ्री डाइट। भोजन हमारे शरीर में इलेक्ट्रिकल करंट के लिए ईंधन की तरह काम करता है। जब भी हम खाते हैं, तब भोजन की ऊर्जा को शरीर में जज्ब करते हैं। जाहिर है, इसका हमारी सेहत मन और ऊर्जा स्तर पर सीधा असर पड़ता है।

ग्राउंडिंग

जमीन से जुड़ना और इसका अनुभव करना फायदेमंद और जरूरी है। सुबह नंगे पैर कुछ देर के लिए घास पर चलने की आदत डालें। इससे भीतर की वाइब्रेशन का लेवल बढ़ता है और ब्रह्मांड की सकारात्मक ऊर्जा हमारे शरीर में प्रवेश करती है।

अपने इमोशनल वाइब्रेशंस को जानें

ट्रांसफॉरमेशनल कोच और लेखिका केसांड्रा स्टर्डी कहती हैं, 'आपके वाइब्रेशन आपके स्वस्थ और खुशहाल होने को बयान करते हैं। इस ब्रह्मांड में हर चीज अलग-अलग फ्रीक्वेंसीज पर वाइब्रेट करने वाली एनर्जी से बनी है। इसमें आप खुद भी शामिल हैं। इसलिए आपको जानना चाहिए कि आपके इमोशनल वाइब्रेशंस, आपको कैसे प्रभावित करते हैं? आप अपनी वाइब्रेशंस को बढ़ाकर ऊर्जा से भरपूर खूबसूरत जिंदगी जी सकते हैं।'

और पढ़ें
Next Story