Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस: जानें एकल व संयुक्त परिवार के फायदे और नुकसान

परिवार दो प्रकार के होते हैं- एक एकल परिवार और दूसरा संयुक्त परिवार होता है। एकल परिवार में मां-बाप और बच्चे रहते हैं, जबकि संयुक्त परिवार में मां-बाप और बच्चों के साथ दादा-दादी व अन्य घर के सदस्य जैसे- चाचा-चाची, बुआ आदि सभी साथ में रहते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस: जानें एकल व संयुक्त परिवार के फायदे और नुकसान
X

International Day of the Families

विश्व परिवार दिवस (International Day of the Families) हर साल 15 मई को मनाया जाता है। लोगों को परिवार और उसकी अहमियत बताने के लिए विश्व परिवार दिवस की शुरूआत की गई थी। इसे 1994 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका ने घोषित किया था। विश्व परिवार दिवस के मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह के परिवार के साथ रहना फायदेमंद रहता है।

परिवार दो प्रकार के होते हैं- एक एकल परिवार और दूसरा संयुक्त परिवार होता है। एकल परिवार में मां-बाप और बच्चे रहते हैं, जबकि संयुक्त परिवार में मां-बाप और बच्चों के साथ दादा-दादी व अन्य घर के सदस्य जैसे- चाचा-चाची, बुआ आदि सभी साथ में रहते हैं।

इन दिनों ज्यादातर लोग जॉब और अन्य कामों के सिलसिले में अपने परिवार से दूर किसी अन्य शहर में रहते हैं और यही कारण है कि इन दिनों एकल परिवार की तादात बढ़ती जा रही है। जानें एकल परिवार व संयुक्त परिवार के फायदे और नुकसान-

संयुक्त परिवार के फायदे

  • हर सदस्य का समर्थन होता है और किसी भी समस्या के लिए सभी खड़े रहते हैं।
  • कोई परेशानी बड़ी नहीं लगती, बड़ी समस्या भी आसानी से हल हो जाती है।
  • कोई भी त्योहार हो उसमें सभी मिलकर एंज्वॉय करते हैं।
  • परिवार के हर सदस्य में आपसी तालमेल की भावना रहती है।
  • ऐसे में परिवार में बच्चों की अच्छी परवरिश और पढ़ाई हो जाती है।
  • इस तरह के परिवार में सदस्यों पर कुछ रोकटोक होती हैं, जिसके कारण उनमें अनुशासन बना रहता है।
  • संयुक्त परिवार में रहने से हर सदस्य में अपनेपन और एकता की भावना रहती है।

यह भी पढ़ें: WOW! पढ़ाई के मामले में चीन-अमेरिका से आगे भारत, पेरेंट्स सबसे ज्यादा करते हैं बच्चों की पढ़ाई में मदद

संयुक्त परिवार के नुकसान

  • अगर परिवार का कोई एक सदस्य दुर्व्यवहार करता है तो उसका असर परिवार के बाकी सदस्यों पर भी पड़ता है।
  • हर परिवार में कुछ लोग चालाक किस्म के होते हैं, जिसके कारण परिवार के कुछ सदस्यों को ज्यादा काम करना पड़ जाता है।
  • ऐसे परिवार में अक्सर पैसों और खर्च को लेकर छोटी-बड़ी बातें होती रहती हैं।
  • संयुक्त परिवार के कामकाजी सदस्य पर बोझ ज्यादा होता है, जिसके कारण कई तरह की समस्याएं पैदा होती रहती हैं।
  • संयुक्त परिवार में जब एक मत नहीं होता तो किसी भी चीज के निष्कर्ष तक पहुंचने में समय लगता है।

एकल परिवार के फायदे

  • एकल परिवार में व्यक्ति अपने परिवार की जिम्मेदारियों को ज्यादा अच्छे से समझता है और बेहतर ढंग से निभा पाता है।
  • इस तरह के परिवार में व्यक्ति जो कमाता है वह अपने परिवार के लोगों के अच्छे कल के लिए कमाता है।
  • व्यक्ति के कमाई का फायदा उसके बच्चों को ही मिलता है।
  • एकल परिवार में व्यक्ति अपने अनुसार बजट तय करते हुए सेविंग भी कर लेता है।
  • एकल परिवार में बच्चे की देखभाल और भरण-पोषण अच्छे से हो पाती है।
  • बाकी लोगों की तुलना में पारिवारिक मतभेद होने की आशंकाएं कम होती हैं।

यह भी पढ़ें: इन 4 कामों को करने से हैप्पी रहेगी 'लव लाइफ', जानें पार्टनर को खुश करने का तरीका

एकल परिवार के नुकसान

  • एकल परिवार में व्यक्ति को हर समस्या के लिए अकेले ही लड़ना पड़ता है।
  • किसी भी छोटी-बड़ी परेशानी में व्यक्ति की सहायता करने वाला कोई नहीं होता।
  • एकल परिवार में त्योहारों पर आनंद नहीं आता, क्योंकि कम लोगों में त्योहार का मजा नहीं आता है।
  • बच्चों में अकेले रहने की आदत पड़ने लगती है, जिससे उनके अंदर तालमेल की भावना विकसित नहीं हो पाती।
  • अगर मां-बाप दोनों वर्किंग हैं तो बच्चे की अच्छी तरह से परवरिश नहीं हो पाती।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story