logo
Breaking

सरोगेसी से मां-बाप बने कपल्स को मिलेगी छुट्टी, जानें पूरी प्रक्रिया

सरोगेसी के जरिए संतान प्राप्त करने वाले पेरेंट्स को भी अब मैटरनिटी पैटरनिटी लीव मिलेगी। सरकारी ऑफिसों की तरह सरोगेसी पेरेंट्स सामान्य मैटरनिटी या पैटरनिटी लीव ले सकेंगे।

सरोगेसी से मां-बाप बने कपल्स को मिलेगी छुट्टी, जानें पूरी प्रक्रिया

सरोगेसी के जरिए संतान प्राप्त करने वाले पेरेंट्स को भी अब मैटरनिटी पैटरनिटी लीव मिलेगी। सरकारी ऑफिसों की तरह सरोगेसी पेरेंट्स सामान्य मैटरनिटी या पैटरनिटी लीव ले सकेंगे। केंद्र सरकार ने आदेश जारी करते हुए सभी मंत्रालय और विभागों को इस विषय में पत्र लिखा है।

डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ऐंड ट्रेनिंग (DOPT) की तरफ से जारी किए गए इस एडवाइजरी में कहा गया है कि सेरोगेसी से मां-बाप बने पेरेंट्स लंबी छुट्टी चाहते हैं तो वह इसके हकदार होंगे है। उनके आवेदन को स्वीकार किया जाएगा। यह एडवाइजरी दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश के बाद जारी की गई है।

इस वजह से कोर्ट पहुंचा ये मामला

दरअसल, केंद्रीय विद्यालय की एक महिला टीचर और उनके पति ने सेरोगसी से संतान हासिल की। इसके बाद उन्होंने मैटरनिटी लीव अप्लाई करके छुट्टी मांगी थी, लेकिन उनकी छुट्टी खारिज कर दी गई थी। इस फैसले को बाद में कोर्ट में चुनौती दी गई और कोर्ट ने सेरोगेसी पेरेंट्स के दावे को सही मानते हुए छुट्टी मिलने का हकदार बताया।

यह भी पढ़ें: 'किराए की कोख' या सरोगेसी के जरिए कैसे होते हैं बच्चे, जानें भारत में क्या है कानून

कोर्ट का आदेश

कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि यह जरूरी नहीं है कि कोख से जन्म देने वाली मां को ही मैटरनिटी लीव मिले। बच्चों के साथ शारीरिक या भावनात्मक रूप से रहने की जरूरत सेरोगेसी मदर को भी होती है। सरोगेसी के तहत संतान पाने वाले माता-पिता भी इस दौर से गुजरते हैं। इसलिए वह भी मैटरनिटी और पैटरनिटी लीव के हकदार हैं। सरकारी मंत्रालय या विभाग सिर्फ इस तर्क पर मैटनरिटी या पैटरनिटी लीव खारिज नहीं कर सकते कि महिला ने नहीं बल्कि किसी और ने उनके लिए बच्चे को जन्म दिया है।

यह भी पढ़ें: रोज की थकान और टेंशन दूर करेगा सिर्फ ये एक फल, जानें कैसे

यह भी कहा

इसके अलावा कोर्ट ने यह भी कहा कि सरकार ने गोद लेने की प्रक्रिया में भी मैटरनिटी या पैटरनिटी लीव की व्यवस्था रखी है। इसलिए यह व्यवस्था सरोगेसी के अंतर्गत भी देनी होगी। कोर्ट के आदेश के अनुसार सरोगेट मदर को भी बच्चे को लेने के बाद मां को कुछ दिनों तक बच्चे के साथ शारीरिक और भावनात्मक रूप से वक्त गुजारने की जरूरत होती है और इसीलिए उन्हें भी सरकार के अंदर जो सुविधा मिली है वह मिलनी चाहिए। DOPT ने इस आदेश के तहत सभी मंत्रालयों और विभागों से इस तरह की छुट्टी के लिए आए सभी आवेदनों को स्वीकृत करने की नोटिस जारी की है।

Share it
Top