Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Coronavirus: कोरोना के अधिकांश मरीज हो जाते हैं दो हफ्ते में ठीक, जानें कोरोना से जुड़ी तमाम जानकारी

Coronavirus: कोरोना वायरस के कारण लोगों में काफी दहशत देखने को मिल रही है। कोरोना वायरस को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं। इसी बीच आपकी मदद के लिए हम कोरोना वायरस से जुड़ी तमाम जानकारी आपको बताने जा रहे हैं।

यदि आप इन बीमारियों से हैं ग्रसित तो रहें सावधान, कोरोना ले सकता है जान

Coronavirus: पूरी दुनिया में तहलका मचाने वाला ये खतरनाक वायरस रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है। दिन प्रतिदिन यह वायरस बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना वायरस थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। इसकी चपेट में आने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। इसके चलते लोगों में काफी दहशत देखने को मिल रही है। वहीं लोग अपने स्तर तक इससे बचने की हर कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में लोगों के मन में कोरोना वायरस को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं। इसी बीच आपकी मदद के लिए हम कोरोना वायरस से जुड़ी तमाम जानकारी आपको बताने जा रहे हैं। जिससे शायद आपके सवालों के जवाब आपको मिल जाएं।

कोरोना वायरस कितना खतरनाक है

WHO की मुताबिक इंडिया में COVID 19 की घातकता की रेट 2.1% है। जो 2003 में SARS की फैले घातकता दर 10% और 2012 में MIRS की घातकता दर 35% से बहुत कम है।

लोगों के मन में इस इंफेक्शन का इतना डर क्यों

लोगों में इसकी कम जानकारी है, जिस वजह से लोग अफवाह में काफी यकीन कर रहे हैं। जिसके चलते लोग काफी पैनिक हैं। यह वायरस नया है, तो इसकी जानकारी कम होना लाजमी है।

इससे प्रभावित इंसान क्या मर जाता है

नहीं ऐसा नहीं है। जिनमें इस वायरस के हल्के लक्षण होते हैं। वो शख्स दो हफ्ते में ठीक हो जाता है। वहीं जिनमे इसके गंभीर लक्षण होते हैं वो लोग 3-6 हफ्ते में ठीक हो सकते हैं। वहीं इसकी गाइड लाइन का पालन करना बहुत जरूरी है।

शुरुआत में कैसे कोरोना पहचानें

सर्दी-जुकाम, तेज बुखार, सूखी खांसी और सांस लेने में तकलीफ होना। अगर आपको ये लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

कोरोना किसको ज्यादा शिकार बना रहा है

बुजुर्गों में इसे होने की संभावना दोगुनी रहती है। वहीं बच्चों और युवाओं में इसे होने की संभावना कम होती है।।

बच्चों को इससे कितना खतरा

18 साल से कम उम्र में 2 % होने के चांस होते हैं।

यह वायरस क्या खाद्य पदार्थों से भी फैलता है

ऐसा नहीं है कि यह वायरस सिर्फ नोन वेज खाने से ही फैलता है। कोई भी चीज खुले में रखी है और इस पर संक्रमित बूंदें पड़ती है। तब भी इस वायरस के होने का खतरा रहता है। इसलिए बाहर का खाने से बचें।

चिकन-अंडा खाने से भी होता है कोरोना

फिलहाल अभी तक ऐसी कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है। वहीं अगर चीजों को अच्छे से धोएं ताकि उसके बैक्टेरिया मर जाएं, तो चीजों को खाया जा सकता है।

अगर कोरोना के लक्षण फील हो रहे हैं तो क्या करें

इसके लक्षण का पता लगने में 2 से 14 दिन लग जाते हैं। ऐसे में अगर आपको तेज बुखार और सर्दी जुखाम है तो घबराए नहीं।

क्या कोरोना का चेकअप किसी भी लैब में हो सकता है

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि बायोसेफ्टी लेवल-4 लैब में ही इसका चेकअप हो सकता है।

क्या है होम आइसोलेशन

इस खतरनाक वायरस से जूझ रहे देश की यात्रा करके वहां से लौटे लोगों को घर में रहने होम आइसोलेशन कहते हैं।

होम आइसोलेशन में क्या करें

ऐसे में शख्स 28 दिन तक हवादार और साफ कमरे में रहे और ज्यादा से ज्यादा लिक्विड लेता रहे।

होम आइसोलेशन में क्या न करें

भीड़ भाड़ वाली जगहों पर न जाएं और परिवार के लोगों से दूरी बना कर रखें।

क्या गर्मी का मौसम इसे रोक पाएगा

साइंटिस्ट की मानें तो उनकी राय है कि शायद यह गर्म मौसम में कम हो जाए।

कोरोना वायरस किस चीज पर कितने दिन तक जिंदा रहता है

कागज, लकड़ी, जैसी चीजों पर यह 8-10 घंटे और कांच, प्लास्टिक जैसी चीजों पर यह इससे ज्यादा समय तक जिंदा रहता है।

किसे मास्क पहनना चाहिए

बिना इंफेक्टेड लोग मास्क न भी पहने तो चलेगा, लेकिन संक्रमित इंसान से दूरी बनाकर रखें।

मेडिकल मास्क कितने समय तक इस्तेमाल करें

आप किसी भी मेडिकल मास्क को 8 घंटे तक ही यूज कर सकते हैं। अगर आपका मास्क भीग जाए तो तुरंत इसे बदल दें।

कोरोना का शिकार क्या पालतू जानवर भी हो सकते हैं

फिलहाल ऐसी कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है जिससे यह सामने आया हो। फिर भी जानवरों के संपर्क में आने से पहले और बाद में अपने हाथों को अच्छे से धोएं।

अगर कोई घर का सदस्य ही कोरोना पीड़ित है तो क्या करें

ऐसे में बेहतर है कि आप घर में भी मास्क पहनकर रहें और समय समय पर हाथों को अच्छे से धोते रहें। संक्रमित व्यक्ति से दूरी बनाकर रखें।

खांसते और छींकते वक्त किन बातों का ध्यान रखें

ध्यान रखें कि जब भी आपको खांसी या छींक आए तो मुंह को रुमाल या टिश्यू पेपर से ढकें। नहीं तो बेहतर है कि खांसते और छींकते वक्त मुंह को कोहनी पर रखें।

लहसुन खाने से क्या कोरोना का इंफेक्शन रुकेगा

फिलहाल ऐसा कोई वैज्ञानिक साक्ष्य सामने नहीं आया है।

ऐसे हालात में कहां संपर्क करें

कोराना हेल्पलाइन 0755-2527177 और 104।


Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top