Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शिक्षित लड़कियों को नहीं मिलेंगे सपनों के राजकुमार, 2050 के बाद कम हो जाएंगे विकल्प

भारतीय लड़ियों के लिए साल 2050 तक अपने लिए सपनों के राजकुमार को पाना बहुत मुश्किल हो जाएगा,

शिक्षित लड़कियों को नहीं मिलेंगे सपनों के राजकुमार, 2050 के बाद कम हो जाएंगे विकल्प
X
लंदन. भारतीय लड़कियों के लिए साल 2050 तक अपने लिए सपनों के राजकुमार को पाना बहुत मुश्किल हो जाएगा, खास तौर पर अगर उन्होंने कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर तक शिक्षा हासिल की हो। 'डेमोग्राफी' नामक पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में यदि 2050 तक वर्तमान सामाजिक परिस्थितियां बनी रहीं तो, जहां कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर तक पढ़े- लिखे पुरुषों को समान शिक्षा वाली महिलाओं के मुकाबले बेहतर जीवन साथी माना जाता है, तो योग्य साथी मिलना मुश्किल हो जाएगा।
रिसर्च के अनुसार 2050 तक कुंवारे पुरुषों की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी। खात तौर पर उन सभी पुरषों के लिए जो कम शिक्षित होंगे। आपको जानकर इस बात पर शायद यकिन ना हो लेकिन भारत में हाल फिलहाल के चलन में कोई भी पुरुष अपने से कम शिक्षित महिला को अपना जीवन साथी बनाना पसंद करता है।
बार्सिलोना में स्थित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के ह्यसेन्टर फॉर डमोग्राफिक स्टडीज और अमेरिका के मिनिसोटा पॉपुलेशन सेन्टर के शोध कर्ताओं ने यह अध्ययन किया है कि यदि सामाजिक नियम नहीं बदले तो 45 से 49 वर्ष उम्र वर्ग में कभी विवाह नहीं करने वाली महिलाओं की संख्या जो 2010 में 0.07 प्रतिशत थी वह 2050 तक बढकर करीब नौ प्रतिशत तक हो जाएगी।
आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल देश में होने वाली 54.4% शादियों में पुरुष यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करता है, जबकि महिलाएं प्राइमरी या सेकंडरी तक ही शिक्षा प्राप्त करती हैं। वहीं यूनिवर्सिटी की पढ़ाई पूरी करने वाली 26.6 प्रतिशत महिलाएं अपने से कम शिक्षित पुरुषों से शादी करती हैं। जबकि 73.4 प्रतिशत स्नातक महिलाएं समान शैक्षिक योग्यता वाले पुरुषों से शादी करती हैं।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, विस्तार से -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story