Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नींद में आते हैं बुरे सपने, कहीं आपको ये बीमारी तो नहीं!

इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति का व्यवहार चिड़चिड़ा हो जाता है।

नींद में आते हैं बुरे सपने, कहीं आपको ये बीमारी तो नहीं!
नई दिल्ली. आमतौर पर अधिकांश लोग ऐसे होते हैं जिन्हें नींद में बुरे सपने आते हैं। जिन लोगों को सपनों में बुरे ख्याल आते हैं तो सतर्क हो जाएं। अगर आपके साथ भी इस तरह की परेशानी है तो हो सकता है आप मानसिक बीमारी 'पोस्ट ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर' (पीटीएसडी) के शिकार हैं। दरअसल, मनोवैज्ञानिक डॉ. प्रशांत शुक्ल ने बताया कि इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति का व्यवहार चिड़चिड़ा हो जाता है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति बात-बात पर गुस्सा करता है। तो चलिए आपको बताते हैं इस बीमारी से जुड़े अन्य लक्षण एवं उपचार..

ये हैं पीटीएसडी के लक्ष्ण

-एक घटना का बार-बार सपनों में दिखना या याद आना

- किसी बात को भूलना या याद रखने में परेशानी

- कॉन्सनट्रेट करने में कठिनाई

- अचानक तेज गुस्सा और कभी-कभी हिंसक टाइप व्यवहार करना

- अचानक डर जाना

- जल्दी जागना और नींद में बुरे सपने देखना

- अचानक मांसपेशियों में दर्द होना

- बेचैनी होना या चिंता बनी रहना

- अधिक शर्म और शर्मिंदगी महसूस करना

- अधिक भावुक होना

- किसी घटना को अनदेखा करना

एजेंसी की खबर के मुताबिक, इस बीमारी से ऐसे पा सकते हैं निजात

1. संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (कागनेटिव बिहेवरल थेरेपी) : यह एक वैज्ञानिक वातार्लाप की विधि है। इसका मतलब ये है कि इसके तहत पीड़ित के पास्ट में घटी दर्दनाक घटनाओं के बारे में बात की जाती है।

2. आघात केंद्रित सीबीटी : यह विधि में पीड़ित को आघात संबंधी वार्ता के लिए प्रोत्साहित कर उसकी झिझक दूर करने सहित चिंता दूर करने की कोशिश की जाती है।

3. नेत्र विचेतन और पुर्नलोकन : इसके तहत पीड़ित को डॉक्टर की उंगली को देखते हुए उस घटना या दर्द के बारे में बातें करने को कहा जाता है। इससे माना जाता है कि पीड़ित के लक्षण में काफी सुधार संभव है। पीटीएसडी के उपचार में यह सबसे कारगर तरीका है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top