logo
Breaking

हर शादी-शुदा जिंदगी में एक जैसी समस्याएं होती हैं: सतीश शर्मा

सतीश शर्मा ने कॅरियर की शुरुआत थिएटर से की थी।

हर शादी-शुदा जिंदगी में एक जैसी समस्याएं होती हैं: सतीश शर्मा
मुंबई. सतीश शर्मा इन दिनों जीटीवी के नए शो ‘अजी सुनती हो’ को होस्ट कर रहे हैं। इसमें असल शादी-शुदा जोड़े आते हैं और अपनी प्रॉब्लम शेयर करते हैं, सॉल्यूशन भी निकालते हैं। शो के कॉन्सेप्ट को लेकर सतीश की क्या राय है? होस्टिंग करते हुए क्या वह एक पति के रूप में खुद अपनी कमियां महसूस करते हैं? शो और होस्टिंग से जुड़ी दिलचस्प बातें सतीश शर्मा से।
‘अजी सुनती हो’ किस तरह का शो है?
अपने आप में यह बहुत ही अलग और यूनीक शो है। मैं इस यूनीक शो को होस्ट करते हुए बहुत एक्साइटेड हूं। इस शो के होस्ट मैं और प्रणोति प्रधान हैं। हम इसमें मिस्टर एंड मिसेज शर्मा के किरदार में हैं। यह शो असल जिंदगी के मैरीड कपल्स पर बेस्ड है। हमारे शो में आकर मैरीड कपल्स एक-दूसरे को करीब से जान रहे हैं। अपने रिलेशन, प्रॉब्लम्स पर खुलकर बात करते हैं। यह शो दर्शकों को भी बहुत कुछ समझने का मौका देगा, क्योंकि हर शादी-शुदा जिंदगी में बहुत सी समस्याएं और स्थितियां एक जैसी होती हैं। इस शो में असल शादी-शुदा जोड़ों की दिनचर्या की झलक देखने को मिलेगी। कौन-सी बातें एक जोड़े को करीब लाती हैं? कौन-सी दूरी पैदा करती हैं? कौन-सी बातें तकरार की वजह बनती हैं? लोग इनको देखेंगे-समझेंगे। ऐसे में लोगों को भी अपनी मैरिड लाइफ की प्रॉब्लम को सॉल्व करने में मदद मिलेगी।
क्या यह शो पावर कपल शो जैसा नहीं लगता?
बिल्कुल नहीं। पावर कपल में फेमस लोग थे। जबकि हमारे शो के जोड़े आम लोग हैं, कोई सेलिब्रिटी नहीं हैं। ये वे लोग हैं, जिन्होंने कभी कैमरा फेस नहीं किया। इसलिए यहां कुछ भी नकली नहीं है। इन लोगों के एक्सप्रेशन रियल हैं। हर शख्स खुद को इस शो से रिलेट कर सकेगा। यह महसूस करेगा कि अरे यह तो मेरी कहानी है। यह तो मेरे घर में भी हो रहा है।
इस शो को होस्ट करते हुए आपके लिए सबसे बड़ा चैलेंज क्या लगा?
यही कि इस शो को हम एक अच्छा शो बना सकें बिना किसी बड़े सेलिब्रिटी के। लोगों की दिलचस्पी असल लोगों की जिंदगी के साथ जुड़े। ज्यादा से ज्यादा लोग हमारे शो से जुड़ सकें, यही हमारी कोशिश है।
बतौर होस्ट आप खुद को कैसे तैयार करते हैं?
एक गाइडलाइन हमारे पास होती है। शो में जो कंटेस्टेंट आए हैं, उनका प्रोफाइल अच्छे से पढ़ना और उन लोगों को समझना हमारा होमवर्क होता है। तभी हम उनसे बातचीत कर पाते हैं। साथ ही एक होस्ट अपनी तरफ से भी एफर्ट करता है।
क्या आप मानते हैं कि शादी के बाद एक-दूसरे को परखना जरूरी है?
मेरी पत्नी अकसर कहती हैं कि मैं यानी सतीश शर्मा बेटा कैसा है, यह मम्मी-पापा बताएंगे? भाई कैसा है, यह इसके भाई-बहन बताएंगे? लेकिन पति कैसा है यह मैं ही बता सकती हूं। शादी के बाद जो बातें होती हैं, वह अलग होती हैं। इसे परखना नहीं कहा जाएगा। हां, एक-दूसरे के साथ एडजस्ट करना बहुत जरूरी होता है।
क्या शो करते हुए आपको खुद भी लगा कि एक पति के तौर पर कुछ कमियां हैं, जिन्हें आपको सुधारना चाहिए?
हां, बिल्कुल। हर एपिसोड में महसूस होता है कि यहां तो मैं भी गलत हूं। और सच में मैं उन्हें दूर करने की कोशिश भी करता हूं।
आप इस शो को किस तरह का शो मानते हैं?
यह रियालिटी शो के बहुत ज्यादा नजदीक है। क्योंकि इसमें असल जिंदगी के लोग हैं। असल जिंदगी पर ही बात कर रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Share it
Top