Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दक्षिण अफ्रीका का गेंदबाजी आक्रमण बेहद कमजोर, आसान होगी भारत की जीत!

फाफ डु प्लेसि​स के सीरीज से बाहर होने से अफ्रीकी टीम लगभग प्रतिस्पर्धा से बाहर हो गई है।

दक्षिण अफ्रीका का गेंदबाजी आक्रमण बेहद कमजोर, आसान होगी भारत की जीत!

भारत के लिए पहला वनडे मैच उम्मीदों के विपरीत आसान रहा और बाकी पांच मैचों में भी कुछ अलग होता नहीं दिख रहा। अगर स्कोर लाइन 5—1 नहीं होती है, तो इसका मतलब कि भारतीय टीम ने गलतियां की हैं।

मेजबान टीम को पहले ही एबी डीविलियर्स की गैर मौजूदगी से झटका लगा था, लेकिन अब फाफ डु प्लेसि​स के सीरीज से बाहर होने से वे लगभग प्रतिस्पर्धा से बाहर हो गए हैं।

टेस्ट सीरीज की शुरुआत से ही उनकी गेंदबाजी काफी अच्छी रही है। मगर छोटे प्रारूप में उनकी कमियां बुरी तरह से उजागर हो गई। यह स्पष्ट तौर पर दक्षिण अफ्रीका का सबसे कमजोर गेंदबाजी आक्रमण है।

इसे भी पढ़ें- अंडर 19 विश्व कप: खिताब जीत के बाद गुरु राहुल द्रविड़ और कप्तान पृथ्वी शॉ ने कही ये खास बात

पहले मैच में भारत ने दो कलाई के स्पिनर खिलाकर अच्छा किया। यह जोखिम लेना इसलिए भी बनता है क्योंकि वे विकेट दिलाने वाले विकल्प हैं। चहल और कुलदीप के शानदार नियंत्रण के चलते बल्लेबाजों पर हमेशा दबाव बना रहता है और इस वजह से वे एक जोड़ी के रूप में इतने सफल साबित हो रहे हैं।

इन दोनों ने मिलकर 20 ओवर में मुश्किल से 79 रन दिए और इस दौरान पांच विकेट भी चटकाए। 134 रन पर 5 विकेट गिर जाने के बाद वैसे भी मुकाबला अधिकतर मौकों पर खत्म मान लिया जाता है।

मेजबान टीम 30—40 रन कम रह गई, जिससे लक्ष्य आसान बन गया। आसान लक्ष्य और फॉर्म में चल रहे विराट कोहली की मौजूदगी से परिणाम का अंदाजा लगाना कोई मुश्किल नहीं था। बल्लेबाजी में कोहली का सहज दृष्टिकोण मुझे काफी प्रभावित करता है, खासतौर से लक्ष्य का पीछा करते वक्त।

एक भी क्षण ऐसा नहीं था जब उन्होंने खुद को अपने जोन से बाहर जाने को मजबूर किया। मैंने ऐसा बल्लेबाज नहीं देखा, जो पारंपरिक शॉट लगाकर मुश्किल लक्ष्य के खिलाफ भी इतना सफल रहा हो।

इसे भी पढ़ें- IND vs SA: मैच से पहले बल्लेबाजी को लेकर अजिंक्य रहाणे ने दिया बड़ा बयान, अक्सर होती रही है बहस

सारी संभावनाएं यही कहती हैं कि भारत को दूसरे मैच में भी आसानी से जीत हासिल करनी चाहिए। जानकारी के मुताबिक अगर भारत 4—2 से सीरीज जीतता है, तो वह आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंच जाएगा। अगर ऐसा होता है, तो यह एक गर्व करने वाला क्षण होगा।

दोनों प्रारूपों में नंबर एक होना इस युवा टीम के लिए काफी मायने रखता है और मुझे यकीन है कि उनके लिए इससे ज्यादा प्रेरणा देने वाली बात कोई नहीं हो सकती।

Share it
Top