Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

माता-पिता भूलकर भी बच्चों के सामने न करें ये एक काम, बच्चा हो सकता है इस गंभीर बिमारी का शिकार

माता-पिता और घर के बाकी सदस्यों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वह कोई भी ऐसा काम न करें, जिसका बुरा असर बच्चों पर पड़े।

माता-पिता भूलकर भी बच्चों के सामने न करें ये एक काम, बच्चा हो सकता है इस गंभीर बिमारी का शिकार
X

बच्चों के दिमाग पर घर के माहौल के अनुसार ही असर पड़ता है। इसके लिए माता-पिता को विशेष ध्यान रखना चाहिए। माता-पिता और घर के बाकी सदस्यों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वह कोई भी ऐसा काम न करें, जिसका बुरा असर बच्चों पर पड़े।

इनमें से एक है हिंसा, जी हां हिंसा किसी भी इंसान को अंदर से झकझोर सकती है। लेकिन लड़ाई-झगड़ों का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ता है। हिंसा के कारण बच्चे को गहरा मानसिक आघात पहुंचता है।

बच्चों की पहुंच हो गई आसान

वेब वर्ल्ड की दुनिया में बच्चे आसानी से किसी भी हिंसक सामाग्री तक पहुंच जाते हैं। जैसे कहीं कोई भी हिंसा होती है इंटरनेट या न्यूज के माध्यम से बच्चों को पता चल जाता है। इस तरह की हिंसा हो या घरेलू हिंसा इसका बच्चों के दिमाग पर बुरा असर पड़ता है।

यह भी पढ़ें: रोमांस करने से पहले भूलकर भी न करें ये काम, नहीं तो मजा हो जाएगा किरकिरा

की गई रिसर्च

हाल ही में हुई एक रिसर्च में इस बात की पुष्टि की गई है कि जो बच्चे ज्यादा हिंसा देखते हैं, करते हैं या शिकार होते हैं उन बच्चों में अवसाद, गुस्सा और तनाव अन्य बच्चों की तुलना में ज्यादा होता है। साथ ही इसके अलावा इस तरह के बच्चों में दूसरे बच्चों के प्रति भाईचारे की भावना भी कम होती है।

पैरेंट्स कर सकते हैं शुरुआत

ऐसे में पैरेंट्स की हमेशा यह कोशिश रहनी चाहिए कि किसी भी हिंसात्मक घटना को समझने और उसका सही तरह से सामना करने में बच्चों की मानसिक तौर पर मदद करें। साथ ही बच्चों से बात करें और उनकी बात को सुनने-समझने की कोशिश करें।

ज्यादातक पैरेंट्स अपने बच्चों की बात बचपन में तो सुनते हैं, लेकिन किशोरावस्था में ध्यान नहीं देते हैं, जबकि किशोरावस्था में भी बच्चों को मानसिक तौर पर सहयोग की जरूरत होती है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story