Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल का रखना है ख्याल, तो जरूर अपनाएं ये घरेलू टिप्स

आंवले का इस्तेमाल दिल के लिए बेहद फायदेमंद है।

दिल का रखना है ख्याल, तो जरूर अपनाएं ये घरेलू टिप्स
नई दिल्ली. आयुर्वेद के अनुसार, हृदय चेतना और आत्मा का आधार है। यह ओजस से भी संबंधित है, जो चेतना और आत्मा को संभालते हैं और व्यक्ति को जीवित रखते हैं। यह जीवन का आधार है इसलिए हमें इसका खास ध्यान रखना चाहिए। यह भावनाओं का भी स्रोत है। इसलिए इसका स्वस्थ होना बहुत आवश्यक है।शरीर में कई तरह की गतिविधियों को संचालित करने वाला अंग है हृदय। इसे स्वस्थ बनाए रखने के लिए आयुर्वेद में कुछ सरल नियम और औषधियों के बारे में बताया गया है।
इनका रखें ध्यान
- आयुर्वेद के अनुसार, एमा दिल की बीमारियों का मुख्य कारण है। एमा विषाक्त पदार्थ है, जो भोजन न पचने से बनता है। इसलिए हमें यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि जितनी मात्रा में वह खाना खा सकता है और जिस प्रकार का खाना वह पचा सकता है, बस वही खाना खाएं।
- ज्यादा और बार-बार खाने से बचें। पौष्टिक नाश्ता और रात का खाना हल्का खाएं। दूध से बने खाद्य, तले हुए, ठंडे और एसिडिटी बनाने वाले खाद्य पदार्थ कम मात्रा में लिए जाने चाहिए। ऐसे खाद्य पदार्थ जिसमें केमिकल प्रीजरवेटिव और एडिटिव्स शामिल होते हैं, उन्हें नहीं खाना चाहिए। नॉनवेज और विशेष रूप से रेड मीट के सेवन से बचें क्योंकि यह पचने में लंबा समय लेता है और पेट में विषाक्त पदार्थ बनाता है।
- मौसमी फल और ताजा सब्जियां (उबली या पकी हुई), साबुत अनाज से बनी रोटी या ब्रेड, सलाद, स्प्राउट, सब्जियों का सूप, छाछ, पनीर, कम मात्रा में ताजा दूध और घी का सेवन कर सकते हैं। कोई भी मीठा कम मात्रा में लिया जाना चाहिए। चीनी के बजाय शहद और गुड़ का सेवन करें।
- आंवला दिल के लिए फायदेमंद है। यह ताजा लिया जा सकता है या फिर पावडर के रूप में लें।
- दिल की बीमारियों का एक प्रमुख कारण मानसिक तनाव है। योग और प्राणायाम का नियमित अभ्यास तनाव के स्तर को कम कर देता है। इसके अलावा ध्यान भी उसको होने से रोकने के लिए प्रभावी है।
- एक सप्ताह में कई बार सरसों या तिल के तेल से सिर की मालिश बहुत फायदेमंद है। सप्ताह में एक बार तेल से पूरे शरीर की मालिश करना भी अच्छा है।
- बहुत ज्यादा चाय, कॉफी, शराब और धूम्रपान दिल के लिए अच्छा नहीं होता है, इसलिए इनका सेवन तुरंत छोड़ दिया जाना चाहिए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top