Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

आयुर्वेद के इस चमत्कार से कभी नहीं पड़ेंगे बीमार

आयुर्वेद के कुछ ऐसे रामबाण नुस्खे जिनके इस्तेमाल के बाद आप कभी बीमार नहीं पड़ेंगे।

आयुर्वेद के इस चमत्कार से कभी नहीं पड़ेंगे बीमार
नई दिल्ली. पिछले कुछ दिनों से हर जगह लोगों पर पूरी करह से बीमारियां अपना प्रकोप बरपा रही हैं। ऐसे में लोगों को डॉक्टर के क्लिनिक के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। लेकिन यदि आने वाली बीमारियों से हम पहले ही निपट लें तो यहां तक पहुंचने की नौबत ही नहीं पड़ेगी। इसी क्रम आपको बता रहे हैं अंग्रेजी दवाइयों नहीं बल्कि आयुर्वेद के कुछ ऐसे रामबाण नुस्खे जिनके इस्तेमाल के बाद आप कभी बीमार नहीं पड़ेंगे।
च्यवनप्राश जरूर खाएं
च्यवनप्राश का नियमित रूप से सेवन शरीर को चुस्त-तंदुरुस्त रखता है, इसके लिए एक चम्मच च्यवनप्राश को दिन में दो बार गर्म दूध या गर्म पानी के साथ लें। इससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी, साथ ही नियमित सेवन करने से आपको अन्य शारीरिक लाभ भी मिलेगा।
त्रिफला चूर्ण
त्रिफला एक ऐसा चूर्ण है जिसमें प्रमुख तौर पर तीन जड़ी बूटियों का मिश्रण होता है। अपच हो या गैस की समस्या त्रिफला इनका अचूक इलाज है, इसके अलावा यह आपके शरीर के विषैले तत्वों को भी बाहर निकालता है। त्रिफला का सेवन करने से आप आंतरिक रूप से तो स्वस्थ रहते ही हैं साथ ही इसका सीधा प्रभाव आपके निखार पर भी पड़ता है और आपको मिलती है एक चमकती-दमकती त्वचा। जिन लोगों को कब्ज की शिकायत करती है उन्हें इसका सेवन अवश्य करना चाहिए।
नीम
फोड़े-फुंसियों और शरीर पर दाग-धब्बे के अलावा नीम काफी हद तक बीमारी के बढ़ते कीटाणुओं को जड़ से खत्म करने में रमबाम है। अक्सर बढ़ते प्रदूषण की वजह से त्वचा की खुजली और मुंहासों की समस्या बहुत आम होने लगी है।ऐसे में इस समस्या से निजात पाना हो तो नीमघृता नामक आयुर्वेदिक क्रीम आपके लिए एक कारगर उपाय हो सकती है। इस क्रीम की प्रतिजीवाणु क्षमता त्वचा के विभिन्न रोगों से मुक्ति दिलवाती है।
अजवाइन
अजवाइन के स्वास्थ्य लाभ को जानते हुए लगभग हर घर में इसका प्रयोग किया जाता है। अजवाइन का सेवन पेट में गैस या पेट फूलने जैसी समस्या से निजात दिलवाता है। अजवाइन के भीतर एक ऐसा पदार्थ होता है जो पेट में से गैस को निकालने का काम करता है।
तुलसी
कहा जाता है कि यदि घर में तुलसी का पौधा लगा हो तो किसी भी प्रकार के मक्खी-मच्छर घर में नहीं आते। इसके अलावा एलर्जी हो या फिर कीटाणुओं से होने वाली बीमारी इन सबसे बचाने में तुलसी बेहद लाभकारी है। इसके प्रयोग जड़ी-बूटी के रूप में भी किया जाता है। फ्लू, दमा, सर्दी-खांसी या बलगम जैसी बीमारियों में तुलसी का रस बहुत कारगर है।
लहसुनादि वटी
वैसे तो लहसुन का प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों से निजात दिलाने में कारगर है ही। साथ ही लहसुन अपच, पेट दर्द, दस्त जैसे रोगों से भी राहत देता है। इसमें सेंधा नमक, जीरा, हींग आदि का प्रयोग करने पर पेट से गैस रिसाव, अपच आदि दूर हो जाती है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top