Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रघु-राजीव इंटरव्यू: बीस साल के करियर में कितनी बार एक दूसरे से लड़ाई हुई ?

यूथ बेस्ड रियालिटी शो 'रोडीज' में बतौर जज दो जुड़वा भाई रघु-राजीव दर्शकों को हमेशा एग्रेसिव मोड में नजर आए। अब वह एक वेब शो 'स्कल्स एंड रोजेस' में नजर आएंगे। क्या है इस शो का कॉन्सेप्ट? अपनी अब तक की करियर जर्नी को कैसे देखते हैं रघु और राजीव।

‘स्कल्स एंड रोजेस’ में नज़र आयेंगे , रियालिटी शो Judge Raghu-Rajeev Will Appear in Upcoming Web Show


एम टीवी का शो 'रोडीज' यंगस्टर्स के बीच काफी पॉपुलर रहा है। इस शो से जज के तौर पर जुड़वां भाई रघु, राजीव लंबे समय तक जुड़े रहे। इसके अलावा वह कुछ बॉलीवुड फिल्मों में एक्ट भी कर चुके हैं। अब इनका एक नया वेब शो 'स्कल्स एंड रोजेस' अमेजॉन पर आने वाला है। हाल ही में रघु, राजीव से नए शो और करियर को लेकर लंबी बातचीत हुई। पेश है, बातचीत के चुनिंदा अंश-

अपने नए शो 'स्कल्स एंड रोजेस' के बारे में कुछ बताएं?

रघु : हमारा नया शो एमटीवी के 'रोडीज' और 'स्प्लिट्सविला' का कॉम्बिनेशन है। इसमें 16 लड़के-लड़कियां एक खूबसूरत आईलैंड पर रहेंगे, अपने प्यार को तलाश करेंगे। उन्हें अपना प्यार पाने के लिए कुछ शर्तों को मानना होगा। हम दोनों सभी कंटेस्टेंट्स को जज करेंगे। यह एक अलग कॉन्सेप्ट है, जिसमें एडवेंचर है, थ्रिल है।

शो में जो जोड़ी अपना प्यार पाने में कामयाब होगी, उन्हें कोई एक्सट्रा बेनिफिट भी होगा?

राजीव : हां, जो जोड़ी जीतेगी, उसे दस लाख मिलेंगे। लेकिन इस रकम को पाना आसान नहीं है। मामला प्यार का है, यह राह आसान नहीं है। कई तरह की मुश्किलों को कंटेस्टेंट्स को पार करना होगा। उन्हें खुद पर, एक-दूसरे पर भरोसा बनाए रखना होगा।

इस थीम पर शो बनाने का मकसद क्या है?

रघु : देखिए, जब टीवी पर शो 'रोडीज'आया था तब भी ऐसे ही सवाल किए गए थे। लेकिन हमारे शो को पसंद किया गया। 'स्कल्स एंड रोजेस' भी बोल्ड, यूनीक थीम पर है। इसमें शामिल होने का कंटेस्टेंट्स का असल चेहरा हर टास्क के बाद दर्शकों के सामने आएगा। असल मकसद तो दर्शकों को एंटरटेन करना है।

आप दोनों भाई जब किसी शो को जज करते हैं तो कंटेस्टेंट्स पर बहुत गुस्सा करते हैं। असल में आपका बिहेवियर ऐसा है या शो के लिए यह सब करते हैं?

राजीव : हां, हम अकसर कंटेस्टेंट्स पर गुस्सा करते हैं। लेकिन ऐसा तब ही करते हैं, जब जरूरत होती है। कभी चैनल के कहने पर भी ऐसा करते हैं। हम मानते हैं कि सामने वाला पोलाइट नहीं है तो उसके साथ थोड़ा सख्ती से पेश आना चाहिए। स्कूल में दिनों में हम दोनों भाई बहुत सिंपल थे, लेकिन साथ में पढ़ने वाले बच्चों ने हमारी सादगी का फायदा उठाया, हमें परेशान किया। इस बात से हमने सीख ली कि अपने लिए खड़ा होना, बोलना जरूरी है। वैसे असली जिंदगी में हम दोनों भाई बहुत कूल-कूल टाइप के हैं।

आपके शो में बहुत ही एग्रेसिव बिहेवियर कंटेस्टेंट्स के बीच भी देखने को मिलता है? जब कि टीवी के दर्शक इतना लाउड बिहेवियर पसंद नहीं करते हैं? इस पर क्या कहना चाहेंगे?

रघु : ऐसा नहीं है कि हमेशा ही हमारा शो लाउड, एग्रेसिव होता है। कभी-कभार ही ऐसा होता है। जब कोई कंटेस्टेंट्स जाति, वंश को लेकर किसी पर टिप्पणी करता है तो हम इसे बर्दाश्त नहीं करते हैं, उसे टोक देते हैं या एक्शन लेते हैं। दर्शक भी इस बात को जल्दी समझ जाते हैं।

आप दोनों की अब तक की करियर जर्नी कैसी रही?

राजीव : जर्नी बहुत अच्छी रही। हम दोनों का जन्म आंध्र प्रदेश में हुआ। फिर हम फैमिली के साथ दिल्ली आ गए। दिल्ली में बसने की वजह से हम दोनों में दिल्ली वाला पंजाबी कल्चर आ गया। फिर हम चैनल एमटीवी से जुड़े। कई सालों तक उनके साथ काम किया। अब डिजिटल एरा आ गया है, जिसने सबको पछाड़ दिया है। ऐसे में हमने एम टीवी को बाय-बाय कह दिया। अब अपनी कंपनी शुरू की और हम दोनों भाई उसके तहत शोज बना रहे हैं, जो काफी अलग हैं। एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में हमने बीस साल सक्सेसफुल तरीके से काम किया, इस बात की सैटिस्फेक्शन है।

बीस साल एक साथ एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में आप दोनों ने काम किया। क्या आपके बीच कभी डिफरेंसेज नहीं हुए?

रघु : सोच का फर्क तो पिता-बेटा, मां-बेटी सभी में होता है। हम दोनों में भी थॉट्स को लेकर डिफरेंसेज होते रहे हैं। लेकिन हम दोनों चालीस पार कर चुके हैं, उम्र के साथ हमारे अंदर मैच्योरिटी आ चुकी है। हम दोनों में दोस्ती ज्यादा और डिफरेंसेज कम हैं।

आप दोनों भाइयों ने कुछ बॉलीवुड फिल्में भी कीं। लेकिन कुछ समय से बड़े पर्दे पर नजर नहीं आए? इसकी क्या वजह है?

राजीव : 'झूठा कहीं का', 'तीसमारखां' और 'धनक' यही कुछ तीन-चार फिल्में हम दोनों ने कीं। हमें फिल्मों में मनचाहे रोल अभी तक नहीं मिले हैं। अगर कुछ दिलचस्प फिल्मों के ऑफर आएंगे तो जरूर करेंगे। लेकिन फिल्मों पर हम फोकस नहीं कर रहे हैं। हम दोनों भाई क्रिएटर-परफॉर्मर हैं। फिल्म एक्टर के तौर पर हम अपनी इमेज नहीं देखते हैं।

पूजा सामंत

Next Story
Top