logo
Breaking

इंटरव्यू : शाहीर शेख ने बताया आखिर क्यों नहीं हो रही उनकी शादी

सीरियल ‘ये रिश्ते हैं प्यार के’ के लीड कैरेक्टर अबीर और मिष्टी का मानना है कि शादी करने से पहले एक-दूसरे को अच्छे से जाना-समझा जाए। इस बात से अबीर का रोल निभा रहे शाहीर शेख कितने सहमत हैं? अपने किरदार से वह कितना रिलेट कर पाते हैं? असल जिंदगी में अब तक शादी क्यों नहीं की शाहीर शेख ने?

इंटरव्यू :  शाहीर शेख ने बताया आखिर क्यों नहीं हो रही उनकी शादी

शाहीर शेख पिछले कुछ सालों से ऐसे टीवी सीरियल्स में ज्यादा नजर आ रहे हैं, जो लव स्टोरी बेस्ड हैं। हाल ही में स्टार प्लस पर शुरू हुए सीरियल ‘ये रिश्ते हैं प्यार के’ का भी वह हिस्सा बने हैं। यह सीरियल भी लव स्टोरी बेस्ड है। शाहीर का कहना है कि सीरियल ‘ये रिश्ते हैं प्यार के’ की कहानी और किरदार उनके लिए बिल्कुल नए हैं। सीरियल में उनके अपोजिट रिया शर्मा हैं। हाल ही में सीरियल ‘ये रिश्ते हैं प्यार के’ से जुड़ी बातचीत शाहीर शेख से हुई। पेश है बातचीत के चुनिंदा अंश-

‘ये रिश्ते हैं प्यार के’ में दिखाई जाने वाली लव स्टोरी किन मायनों में अलग है?

इस सीरियल की कहानी और किरदार मेरे लिए बिल्कुल अलग हैं। इसमें दिखाई जाने वाली लव स्टोरी भी बहुत अलग है। यह आज के जमाने की कहानी है। सीरियल में मेरे किरदार का नाम अबीर है। मेरे अपोजिट मिष्टी (रिया शर्मा) है। सीरियल मंम यह बात कही जा रही है कि शादी करने से पहले लड़का-लड़की एक-दूसरे को जानें। अगर एक-दूसरे को जानने के बाद उन्हें लगता है कि वे सही जीवनसाथी हो सकते हैं तो ही शादी करें। ऐसा ना हो कि जल्दबाजी में शादी की जाए और बाद में पछताया जाए। ऐसा होने पर दो जिंदगियां बिखर जाती हैं। कहने का मतलब है कि शादी को निभाने के लिए कोर्टशिप बहुत जरूरी है।

अबीर और मिष्टी को क्या आगे चलकर प्यार होगा?

इसका अभी पता नहीं है। लेकिन इस समय ट्रैक ऐसा चल रहा है, जिसमें मिष्टी के कैरेक्टर पर फैमिली मेंबर्स शादी करने का दबाव डाल रहे हैं। लेकिन उसका कहना है कि इतना बड़ा डिसीजन लेने से पहले थोड़ा वक्त चाहिए। अबीर की एंट्री शो में मिष्टी के दोस्त के रूप में हुई है। दोनों की सोच काफी मिलती है, ऐसे में उनकी दोस्ती और गहरी होती जाएगी।


आपमें और अबीर में कितनी समानताएं हैं?

पहली बार मुझे ऐसा लगा कि मैं अपने किसी किरदार के इतना क्लोज हूं। आज तक मैंने ऐसे किरदार निभाए हैं, जो आइडल लवर, हसबैंड, बेटा या पिता था। दर्शकों ने मेरे इन किरदारों को बहुत पसंद किया, मुझे बहुत प्यार दिया। लेकिन इतना आइडल हो पाना आम जिंदगी में आसान नहीं है। हां, अबीर का कैरेक्टर बिल्कुल नॉर्मल है, ऐसे लड़के हमें अपने आस-पास बहुत आसानी से मिल जाएंगे। मैं भी अबीर की तरह ही सोच-समझकर कोई काम करने में यकीन रखता हूं, चाहे बात शादी करने की ही क्यों न हो।

आप भी अपने किरदार अबीर की तरह शादी बहुत सोच-समझकर करेंगे तो क्या लिव-इन रिलेशन जैसे कॉन्सेप्ट में आप यकीन करते हैं?

मैं लिव-इन रिलेशनशिप को सपोर्ट नहीं करता हूं। किसी को गहराई से जानने-समझने के लिए उसके साथ रहना जरूरी नहीं है। हम सीरियल में जानने-समझने की बात कर रहे हैं साथ रहने की नहीं। अगर शादी करने से पहले लड़का-लड़की छह महीने मिलते-जुलते रहें तो एक-दूसरे के नेचर के बारे में जान सकते हैं। इससे शादी करने का फैसला लेने में मदद मिलेगी।

आपने भी अभी तक शादी नहीं की। क्या आप सीरियल के किरदार अबीर जैसे खयालात रखते हैं?

मैं मानता हूं कि शादी संजोग की बात है। कोई पहली मुलाकात में पसंद आए और कुछ दिन तक मिलने पर उससे खयालात न मिले तो शादी करने की जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। यह सीरियल के कैरेक्टर अबीर की सोच है और मैं भी ऐसी ही सोच रखता हूं। मैंने बहुत लोगों को देखा है कि वे शादी धूम-धाम से करते हैं लेकिन आगे चलकर जब विचार नहीं मिलते हैं तो उनकी जिंदगी बिखर जाती है। ऐसी कंडीशन न आए, इसके लिए कोर्टशिप जरूरी है। जहां तक मेरा शादी न करने का सवाल है तो अभी दिल से आवाज नहीं आई है।

आपने पिछले दिनों एक बड़ा सीरियल ‘सलीम अनारकली’ किया था। वह सीरियल अचानक ही क्यों बंद हुआ?

‘सलीम अनारकली’ जैसे एपिक सीरियल की कहानी का हिस्सा बनना किसे नहीं अच्छा लगेगा? मैं सीरियल में सलीम बना था। जहां तक इसके अचानक बंद होने की बात है तो सीरियल की प्रोडक्शन वैल्यू ज्यादा हो गई थी। फिर हो सकता है कि दर्शकों को पुराने जामने की लव स्टोरी देखने में इंट्रेस्ट ना हो, इस वजह से टीआरपी ना मिली हो। इसी कारण सीरियल बंद हो गया।
Share it
Top