Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Interview : जानें किसके साथ ''लिव इन'' में रहना चाहती हैं कृति सेनन

आजकल कृति सेनन के सितारे बुलंद हैं। उनकी फिल्म ‘लुका छुपी’ हिट हो गई है। क्या उन्हें आइडिया था कि यह फिल्म इस तरह हिट होगी? उनकी नजर में ऐसा कौन-सा फैक्टर था, जो यह फिल्म हिट हुई? खुली-खुली बातें कृति सेनन से।

Interview : जानें किसके साथ

अपने करियर की शुरुआत कृति सेनन ने तेलुगू फिल्म से की थी, लेकिन बॉलीवुड में उनकी पहली डेब्यू फिल्म ‘हीरोपंती’ थी। इसके बाद आई फिल्म ‘दिलवाले’, इसके बाद वह फिल्म ‘राब्ता’ और ‘बरेली की बर्फी’ में नजर आईं। बीते 1 मार्च को कृति की फिल्म ‘लुका छुपी’ रिलीज हुई। 25 करोड़ लागत वाली इस फिल्म ने वीकेंड में ही 32 करोड़ की कमाई कर ली। इस तरह कृति को एक और हिट फिल्म मिल गई। इस फिल्म की सफलता से वह बहुत खुश हैं। आने वाले दिनों में कृति अब कौन-सी फिल्मों में नजर आएंगी? बातचीत कृति सेनन से।

क्या आपको लगा था फिल्म ‘लुका छुपी’ को लगभग 8 करोड़ जितनी बड़ी ओपनिंग मिलेगी और फिल्म हिट हो जाएगी?

ओपनिंग इतनी जोरदार होगी, इसका मुझे अंदाजा नहीं था और ना ही इस बात का अंदाजा था कि इतनी तेजी से कमाई का ग्राफ बढ़ता जाएगा। लेकिन यह सच है कि मैं फिल्म को लेकर बहुत ही पॉजिटिव थी, जिसके कई कारण थे, जैसे फिल्म के ट्रेलर को 80 मिलियन व्यूज मिले थे, फिल्म के गाने ‘पोस्टर..’ से लेकर ‘कोका कोला..’ भी हिट हो रहे थे। सबसे बड़ी बात फिल्म में कॉमेडी थी और ट्रेलर से ही फिल्म एंटरटेंनिंग लग रही थी। आज सबकी लाइफ इतनी स्ट्रेसफुल हो गई है कि हर कोई फिल्म एंटरटेनमेंट के लिए देखना पसंद करता है। मैं खुद इसी मकसद से फिल्म देखने जाती हूं। मुझे लगता है, मेरी तरह बाकी लोग भी हंसना पसंद करते हैं।

आपको क्या लगता है फिल्म में कौन-सा फैक्टर था, जो क्लिक कर गया?

ऐसे कई फैक्टर होंगे लेकिन मेरी मानें तो फिल्म का जो सब टाइटल था ‘सपरिवार’, उसने फिल्म की बहुत मदद की। जिससे क्लीयर हो गया था कि फिल्म फैमिली ड्रामा है, आप इसे पूरे परिवार के साथ बैठकर देख सकते हैं। दूसरी बात यह थी कि इस फिल्म में न सिर्फ हर जनरेशन की कास्टिंग थी, बल्कि यह फिल्म भी हर जनरेशन के लिए बनाई गई थी ताकि हर कोई खुद को फिल्म से जोड़पाए। साथ ही फिल्म में एक मैसेज भी दिया था, जो एंड में था। इस मैसेज का खुलासा ट्रेलर में नहीं किया गया था। इसलिए लोगों के लिए यह सरप्राइज था। साथ ही यह फिल्म लाइट हार्टेड थी, जिसे तकरीबन सभी तरह के लोग देखना पसंद करते हैं।

अब जब फिल्म हिट हो गई है, तो कैसा फील हो रहा है?

फिल्म की सक्सेस को लेकर मैं बहुत ही खुश हूं, जिसे मैं शब्दों मंर नहीं कह सकती। मुझे सबसे ज्यादा खुशी उस वक्त हुई, जब मैंने खुद अपनी आंखों से थिएटर में दर्शकों को तालियां और सीटियां बजाते देखा था। मैंने कई मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन में जाकर ऑडियंस के साथ फिल्म देखी।

आपके लिए सबसे खास कॉम्प्लिमेंट कौन सा था?

सबसे खास कॉम्प्लिमेंट मेरे लिए वो ट्वीट था, जब किसी ने लिखा था, ‘आपकी फिल्म ने मेरा दिन बना दिया।’ एक एक्टर के लिए इससे बड़ी बात क्या हो सकती है। हर कोई एज एन एक्टर ही ग्रो करना चाहता है।

फिल्म ‘लुका छुपी’ के साथ भूमि पेडनेकर की फिल्म ‘सोन चिड़िया’ भी रिलीज हुई थी, पर बाजी आपने मार ली। क्या कहेंगी इस बारे में?

सबसे पहले तो मैं यही कहूंगी कि मैं अपनी फिल्म पर कमेंट कर सकती हूं, दूसरों की फिल्म कैसी थी, क्यों नहीं चली इस पर मैं कोई कमेंट नहीं कर सकती हूं। मेरे अनुसार ऐसा करना गलत है, क्योंकि हर फिल्म की अपनी डेस्टिनी होती है। दूसरी बात मुझे लगता है फिल्म ‘लुका छुपी’ और ‘सोन चिड़िया’ के बीच कोई कॉम्पिटिशन नहीं था, क्योंकि दोनों ही फिल्में अलग-अलग जॉनर की थीं, जो साफ ट्रेलर से भी समझ में आ रहा था। सो, बेहतर ही होगा कि लोग दोनों को टक्कर के नजरिए से ना देखें।

जब आप किसी फिल्म को लेकर हां या ना की ऊहापोह में होती हैं, तो क्या करती हैं?

मैं मानती हूं, मैंने बेबी स्टेप्स लिए हैं लेकिन मैं हमेशा अपने गट्स के साथ आगे बढ़ी हूं। वैसे तो मैं खुद ही स्क्रिप्ट पढ़कर तय कर लेती हूं कि मुझे फिल्म करनी है या नहीं, लेकिन कभी ऐसा होता है कि मैं कंफ्यूज्ड हूं, तो मैं अपनी मम्मी और बहन को स्क्रिप्ट पढ़ने के लिए दे देती हूं कि एज एन ऑडियंस वो क्या सोचते हैं। इनके साथ ही इंडस्ट्री में मेरे कुछ वेल विशर भी हैं, मैं उनकी भी सलाह लेती हूं, जिन्हें देखकर मुझे लगता है कि यह मेरा कभी बुरा नहीं चाहेंगे, उसमें शामिल हैं दिनेश विजन, जो मेरे बड़े भाई जैसे हैं, साजिद नाडियाडवाला सर, जिन्होंने मुझे लॉन्च किया और सब्बीर सर, जो मेरी पहली फिल्म के डायरेक्टर थे।

इंडस्ट्री में आप किस एक्ट्रेस से ज्यादा इंस्पायर हैं?

मेरे लिए प्रियंका चोपड़ा बहुत ही इंस्पायरिंग रही हैं, एज एन ह्यूमन बीइंग भी और एज एन एक्ट्रेस भी। वो एक स्ट्रॉन्ग लेडी हैं और इंडिपेंडेंट भी। लोग क्या कहेंगे, क्या सोचेंगे के चक्कर में ना पड़ कर वो अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीती हैं, वो उन लोगों में से हैं, जो अपना रास्ता खुद बनाते हैं। मैं ऐसे लोगों को बहुत पसंद करती हूं। यही वजह है कि मैं अपनी मां से भी बहुत प्रभावित रही हूं, वो अपने ससुराल की पहली वर्किंग लेडी थीं, वो बहुत ही स्ट्रॉन्ग ओपिनियन रखती हैं। उनकी यह क्वालिटी मेरे अंदर भी है।

आपकी आने वाली फिल्में कौन-सी होंगी और आपका किरदार क्या होगा?

साल 2019 में मेरी एक रोमांटिक फिल्म आएगी, जिसका नाम है ‘अर्जुन पटियाला।’ फिल्म ‘लुका छुपी’ में मैं जर्नलिज्म में इंटर्न कर रही थी, (हंसते हुए) अब मेरा प्रमोशन हो गया है और मैं प्रॉपर जर्नलिस्ट के रोल में इस फिल्म में दिखूंगी। इसके बाद मेरी कॉमेडी फिल्म ‘हाउसफुल’ की चौथी सीक्वल फिल्म ‘हाउसफुल 4’ आएगी। फिर आएगी पीरियोडिक ड्रामा फिल्म ‘पानीपत।’ यह मेरी पहली पीरियोडिक ड्रामा फिल्म होगी। यह फिल्म मेरे लिए कई मायने में चैलेंजिंग है। मैं पंजाबी गर्ल हूं, लेकिन इस फिल्म में मैं महाराष्ट्रीयन लेडी पार्वती बाई का रोल निभा रही हूं। मुझे मराठी डायलॉग्स बोलने के लिए ट्रेनिंग भी लेनी पड़ी। मैंने इस फिल्म के लिए फिल्म ‘राब्ता’ के बाद एक बार फिर घुड़सवारी भी सीखी। इस फिल्म में कई एक्शन सीन भी मैं कर रही हूं। खैर, मेरे लिए फिल्म का एक्सपीरियंस बहुत ही खास रहा।

फिल्म ‘लुका छुपी’ में कृति सेनन ने रश्मि नाम की ऐसी लड़की का किरदार निभाया है, जो लिव इन रिलेशन पर यकीन करती है। असल जिंदगी में लिव इन रिलेशन पर कृति की क्या राय है?

‘फिल्म में मेरा किरदार भले लिव इन रिलेशन पर विश्वास रखता है, लेकिन पर्सनली कोई मुझसे पूछे तो मेरा जवाब यह होगा कि असल जिंदगी में मैं उसी शख्स के साथ लिव इन में रहना चाहूंगी, जिससे मैं शादी करूंगी या वो आगे चलकर मेरा हसबैंड बनेगा, इस बात पर शत-प्रतिशत मुहर लग जाएगी तब। मैं मौज-मस्ती के लिए लिव इन में रहने वाली में से नहीं हूं। मेरे किरदार रश्मि को लगता है कि बस माला-टीका तो लगाना, इसमें कौन-सी बड़ी बात है लेकिन मेरी जिंदगी में और मेरे नजरिए से माला और टीका की बहुत अहमियत है। ब्रॉड माइंडेड, ओपन माइंडेड होना एक बात है, लेकिन उसके नाम पर रिचुअल्स या संस्कृति को तोड़ना-मरोड़ना गलत है।’

Next Story
Top