Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Interview: काल भैरव के गौतम रोडे ने 150 साल पुराने अभिशाप का किया खुलासा

अभिनेता गौतम रोडे जल्द ही सीरियल ‘काल भैरव रहस्य-2’ में गौतम रोडे नजर आएंगे। इससे पहले वह काल भैरव में नजर आए थे। जिसे काफी पसंद किया गया था।

Interview: काल भैरव के गौतम रोडे ने 150 साल पुराने अभिशाप का किया खुलासा

अब तक गौतम रोडे ने ऐसे सीरियल्स में काम किया है, जिनमें रोल बहुत हटकर रहे। दर्शकों ने भी गौतम की एक्टिंग को सराहा है। सीरियल ‘सरस्वतीचंद्र’ के लिए उन्हें बेस्ट एक्टर का अवार्ड भी मिला।

‘महाकुंभ’ जैसा लिमिटेड एपिसोड वाला सीरियल करने के बाद गौतम काफी सेलेक्टिव हो गए। फिल्मों में भी वह कम काम करते हैं। जल्द ही सीरियल ‘काल भैरव रहस्य-2’ में गौतम रोडे नजर आएंगे।

कुछ दिन पहले आपने सोशल नेटवर्किंग साइट्स और मीडिया को इंवाइट भेजा था, जिस पर लिखा था-आखिरी बर्थ-डे सेलिब्रेशन, इसका मतलब क्या है?

यह सब अपने आने वाले सीरियल ‘काल भैरव रहस्य-2’ के प्रमोशन के लिए किया था। जल्द ही स्टार भारत पर मेरा नया सीरियल शुरू होगा। पहले वाले ‘काल भैरव रहस्य’ को काफी पसंद किया गया था। अब हम ‘काल भैरव रहस्य-2’ लेकर आ रहे हैं। लेकिन इस बार कहानी बिल्कुल नई और अलग है।

इस नए सीजन में 150 सालों से एक बुरे अभिशाप से ग्रस्त परिवार की कहानी है। इस परिवार में पैदा हुए हर पुरुष की उसके 30वें जन्मदिन से पहले मौत हो जाती है। मैं इस सीरियल में लीड रोल में हूं। जब दर्शक सीरियल देखेंगे तो जरूर रोमांचित होंगे, इतना मुझे यकीन है।

लेकिन जिस तरह का प्रमोशन आपने सीरियल के लिए किया, वह नेगेटिव नहीं था?

चैनल, प्रमोशन डिपार्टमेंट और मेरे परिवार को शुरुआत में यह बात ठीक नहीं लगी कि इंवाइट में लिखा जाए-मेरा आखिरी बर्थ-डे सेलिब्रेशन। ऐसे में हमने ‘मेरा’ शब्द हटा दिया। इसके बाद सिर्फ मेरा फोटो और इंवाइट पर आखिरी बर्थ-डे सेलिब्रेशन ही लिखा गया। यह नेगेटिव बिल्कुल नहीं था, बस सस्पेंस क्रिएट करने के लिए ऐसा किया गया।

क्या आप सीरियल ‘काल भैरव रहस्य-2’ की कहानी से रिलेट करते हैं? क्या आप अदृश्य ताकतों में विश्वास करते हैं?

देखिए, ऐसी कहानी सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखी जाती है, यह पूरी तरह फिक्शन होती है। मैं ऐसी बातों में विश्वास नहीं करता हूं। लेकिन मेरी ईश्वर में पूरी आस्था है, मैं हर दिन मंदिर जाता हूं। इसके अलावा मेरा विश्वास लकी नंबर्स पर बहुत है, मेरा लकी नंबर पांच है।

सुना है कि इस सीरियल में आपने एक्शन बहुत किया है?

मैंने टीवी के लिए जो भी काम किया, उन सभी में मुझे काफी रिस्की शॉट्स देने पड़े हैं। जंगलों में भागना, मेरे पीछे जंगली शिकारी कुत्तों का पड़ना, पेड़ों से लटकना, गिरना और बार-बार घायल होना। यह सब मैं करता आया हूं, जो बेहद रिस्की है। इस सीरियल में भी आपको एक्शन देखने को मिलेगा।

आप बीच-बीच में फिल्में भी करते हैं, लेकिन कुछ समय से फिल्मों से दूरी बना रखी है, इसकी क्या वजह है?

अच्छी कहानी और किरदार हो तो फिल्में एक्सेप्ट करूं। जो रोल ऑफर होते हैं, वे पसंद नहीं आते हैं। मुझे लगता है कि बेकार फिल्में करूंगा तो टीवी का अच्छा-खासा करियर भी चौपट हो जाएगा। ऐसे में मैं फिल्में सोच-समझकर चुनना चाहता हूं।

क्या अपने एक्टिंग करियर से आप पूरी तरह संतुष्ट हैं?

मेरी राय में किसी भी इंसान को पूरी तरह से संतुष्टि नहीं मिल सकती है। अगर हम एंबिशियस हैं, हमने कुछ सपने देखे हैं तो जिंदगी में आगे बढ़ने की तमन्ना रखेंगे ही। मेरे साथ भी यही है, मैं भी लगातार आगे बढ़ते रहना चाहता हूं।

तो क्या हैं आपके सपने?

मैंने स्पोर्ट्स रिलेटेड एक कहानी लिखी है, जिसका बैकड्रॉप कश्मीर है। इस कहानी को बनाने के लिए कोई प्रोड्यूसर नहीं मिल रहा है, क्योंकि शूटिंग कश्मीर में करनी होगी। देखिए, मेरा सपना कब पूरा होता है? कब मेरी कहानी पर काम शुरू होता है?

जल्द दिवाली आने वाली है। इस साल गौतम रोडे का दिवाली पर क्या प्लान है?

पूछने पर बताते हैं, ‘इस दिवाली कोई प्लान नहीं है, क्योंकि शूटिंग चल रही है, हम कहीं बाहर घूमने भी नहीं जाएंगे। हम मुंबई में और घर पर सिर्फ परिवार और दोस्तों के साथ दिवाली मनाएंगे।

यह दिवाली खास है, क्योंकि शादी के बाद मेरी पहली दिवाली है और मेरे माता-पिता भी शहर में हैं। हम सभी कार्ड्स खेलेंगे, मिठाई खाएंगे और रोशनी का त्योहार मनाएंगे। मेरी सबसे यादगार दिवाली मेरे बचपन की दिवाली रही है।

हम सब मेरी नानी के यहां इकट्ठे होते थे। यह मेरे और मेरे भाई-बहनों के लिए बहुत समय बाद मिलने का अवसर होता था। इसलिए हम सभी इस पल का इंतजार करते थे। ऐसा इसलिए था, क्योंकि मामा से लेकर चाचा तक हर कोई अपने बच्चों के साथ वहां मौजूद होता था।

वह बिल्कुल अलग अहसास था। बड़े लोग आमतौर पर कार्ड खेलते थे और सभी बच्चे गेम खेलते थे और मिठाई खाते थे। सांप-सीढ़ी हमारा पसंदीदा खेल था।’

Next Story
Share it
Top