Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छात्रों के प्रति दिल्ली पुलिस के व्यवहार के खिलाफ 20 से अधिक कलाकारों के बयान आए सामने

दिल्ली के जाफराबाद में संशोधित नागरिकता अधिनियम के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन को लेकर गिरफ्तार किए गए एक अन्य छात्र को दो दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

Big Breaking: अनुराग कश्यप ने किया ट्विटर अकाउंट डिलीट, धकमी के बाद लिखीं ये बातें
X
Big Breaking Anurag Kashyap deletes Twitter account
मुंबई. अनुराग कश्यप, विशाल भारद्वाज, महेश भट्ट, रत्ना पाठक शाह (Vishal Bhardwaj, Mahesh Bhatt, Ratna Pathak Shah) सहित 20 से अधिक फिल्मी हस्तियों ने रविवार को बयान जारी कर दिल्ली पुलिस द्वारा सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने वाले छात्रों और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ आवाज उठाई और उनकी रिहाई की भी मांग की।

दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के एक छात्र को उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे भड़काने की साजिश रचने के आरोप में 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

दिल्ली के जाफराबाद में संशोधित नागरिकता अधिनियम के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन को लेकर गिरफ्तार किए गए एक अन्य छात्र को दो दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

ट्विटर पर जारी बयान में इन कलाकारों ने कहा कि वे हैरान हैं कि जब देश कोरोना वायरस महामारी के संकट से जूझ रहा है, इस समय भी दिल्ली पुलिस सीएए के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन में हिस्सा लेने वाले छात्रों और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर रही है।

बयान में कहा गया. ''इस महामारी से लड़ने के लिए नागरिकों और प्रशासन को एक-दूसरे के साथ खड़े होने की जरूरत है। इस समय जब ये मामले मीडिया की नजर में नहीं आ सकते तो लॉकडाउन का फायदा उठा कर दिल्ली पुलिस नागरिकों के साथ विश्वासघात और उनके अधिकारों का हनन कर रही है।"

''हम दिल्ली पुलिस से लॉकडाउन का दुरुपयोग बंद करने, नागरिकों के मानवाधिकारों का सम्मान करने और इस तरह के अत्याचार पर रोक लगाने का आग्रह करते हैं। हम इन छात्रों और कार्यकर्ताओं की रिहाई की मांग करते हैं।''

पत्र के हस्ताक्षरकर्ताओं ने कहा कि कई छात्रों और कार्यकर्ताओं को पुलिस रोज पूछताछ के लिए बुला रही है। बयान में आगे कहा गया कि इन कार्यकर्ताओं को अब दिल्ली में फरवरी में हुई सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित मामलों में फंसाया जा रहा है। दिल्ली पुलिस की ये कार्रवाई पूरी तरह से अमानवीय और अलोकतांत्रिक है।

इन हस्तियों में निर्देशक अपर्णा सेन, हंसल मेहता, अश्विनी चौधरी, ओनिर, विनता नंदा, नीरज घायवान, अभिनेता-निर्देशक नंदिता दास, कोंकणा सेन शर्मा, अभिनेता सुशांत सिंह, जीशान अयूब, संध्या मृदुल, संगीतकार विशाल डडलानी शामिल हैं।

Next Story