Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Major Dhyan Chand Birthday: जब जर्मन खिलाड़ी ने मेजर ध्यानचंद का तोड़ दिया था दांत, फिर ध्यानचंद ने ऐसे सिखाया सबक

Major Dhyan Chand Birthday: भारतीय दिग्गज हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद (Major Dhyan Chand) को हॉकी का जादूगर कहा जाता था। 1936 ओलंपिक के फाइनल में मेजर ध्यानचंद का एक जर्मन खिलाड़ी ने दांत तोड़ दिया था। हालांकि ध्यानचंद ने इसका बदला लेते हुए जर्मनी को कड़ा सबक सिखाया था।

Major Dhyan Chand Birthday: जब जर्मन खिलाड़ी ने मेजर ध्यानचंद का तोड़ दिया था दांत, फिर ध्यानचंद ने ऐसे सिखाया सबक
X

Major Dhyan Chand Birthday मेजर ध्यानचंद बर्थडे भारतीय दिग्गज हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद (Major Dhyan Chand) को हॉकी का जादूगर कहा जाता था। ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद (Major Dhyan Chand Birthday) में हुआ था। ध्यानचंद को हॉकी इतिहास के सबसे महान खिलाड़ियों में से एक माना जाता है। 1936 ओलंपिक के फाइनल में मेजर ध्यानचंद का एक जर्मन खिलाड़ी ने दांत तोड़ दिया था। हालांकि ध्यानचंद ने इसका बदला लेते हुए जर्मनी को कड़ा सबक सिखाया था।


दरअसल बर्लिन आलंपिक के हॉकी का फाइनल 15 अगस्त 1936 को खेला गया था। इस मैच को देखने के लिए हिटलर भी स्टेडियम में मौजूद थे। 1936 के बर्लिन ओलंपिक में ध्यानचंद के साथ खेले और बाद में पाकिस्तान के कप्तान बने आईएनएस दारा ने एक इंटरव्यू में कहा था कि छह गोल खाने के बाद जर्मन काफी खराब हॉकी खेलने लगे। उनके गोलकीपर टीटो वार्नहोल्ट्ज की हॉकी स्टिक ध्यानचंद के मुंह पर इतनी जोर से लगी कि उनका दांत टूट गया।

प्रारंभिक उपचार के बाद एक बार फिर मेजर ध्यानचंद मैदान पर लौटे और अपने खिलाड़ियों को निर्देश दिया कि अब कोई गोल न मारा जाए। उन्होंने ऐसा जर्मन खिलाड़ियों को सबक सिखाने के लिए कहा था। दरअसल ध्यानचंद जर्मन खिलाड़ियों को यह बताना चाहते थे कि गेंद पर नियंत्रण कैसे किया जाता है। ध्यानचंद के इस निर्देश के बाद खिलाड़ी बार-बार गेंद को जर्मनी की डी में ले जाते और फिर गेंद को बैक पास कर देते।


जर्मन खिलाड़ी भारत के इस प्लान से हैरान हो गए, उन्हें समझ में ही नहीं आ रहा था कि ये हो क्या रहा है। आखिर में भारत ने उस फाइनल में जर्मनी को 8-1 से रौंदा था, जिसमें तीन गोल अकेले ध्यानचंद ने किए थे। इस तरह मेजर ध्यानचंद ने अपने शानदार खेल और बेहतरीन प्लान की वजह से जर्मनी को सबक सिखाया था। बता दें कि मेजर ध्यानचंद ने अपने 22 वर्षों के करियर के दौरान 185 मैचों में 570 गोल किए।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story