Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जस्टिस लोढ़ा पर हरभजन का निशाना, कहा- "क्रिकेट कोई तमाशा नहीं"

हरभजन सिंह, पार्थिव पटेल और इरफान पठान ने आइपीएल का समर्थन किया है।

जस्टिस लोढ़ा पर हरभजन का निशाना, कहा- "क्रिकेट कोई तमाशा नहीं"

नई दिल्ली. बीसीसीआइ और लोढ़ा समिति को लेकर बीसीसीआई में ताफी तनाव चल रहा है जहां एक तरफ बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर जस्टिस एलएम लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू नहीं करना चाहते है तो वही दूसरी तरफ टीम इंडिया के खिलाड़ा हरभजन सिहं भी बीसीसीआइ के समर्थन में आ गए हैं।

एनबीटी के मुताबिकत, एएनआई में छपी खबर के अनुसार पार्थिव पटेल ने कहा कि आइपीएल ने भारतीय क्रिकेट को बदल कर रख दिया। वहीं तेज गेंदबाज इरफान पठान ने कहा कि इस टूर्नामेंट से खिलाड़ियों को उनके जीवन के कई पहलुओं पर लाभ मिला। तो वही हरभजन ने भी कहा कि जस्टिस लोढ़ा को निशाना बनाते हुए कहा कि आइपीएल कोई तमाशा नहीं है। यहां युवा खिलाड़ी अपनी प्रतिभा को सामने ला सकते हैं।

इससे पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में लोढ़ा कमेटी के आरोपों के खिलाफ अपना जवाब दाखिल किया। बीसीसीआई ने कमेटी के आरोपों से इनकार किया. सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान बीसीसीआई ने लोढ़ा पैनल की सिफारिशें नजरअंदाज करने से भी इनकार किया। जबकि लोढ़ा का कहना है कि हमने वे सारी बातें अपने रिपोर्ट में कह दी हैं, जो हम कहना चाहते थे। अब सुप्रीम कोर्ट इसका संज्ञान लेगा। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के खाते भी फ्रीज नहीं कराए गए हैं। उन्होंने कहा कि बीसीसीआई के रोजमर्रा के लेन-देन पर कोई रोक नहीं लगाई गई है।

उन्होंने बताया कि स्टेट असोसिएशन को ज्यादा फंड देने के लिए बीसीसीआई को मना किया गया है। किसी भी खेल या सीरीज को रद्द करने का सवाल ही नहीं खड़ा होता।' उन्होंने कहा कि हमने जो निर्देश जारी किया है वो स्टेट असोसिएशन को बड़ा फंड नहीं देने का है। रोजमर्रा के खर्चों को लेकर कोई निर्देश नहीं दिया गया है। वहीं क्रिकेटर हरभजन सिंह ने लोढ़ा कमेटी को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि आइपीएल कोई तमाशा नहीं है लोढ़ा सर, ये युवा खिलाड़ियों को अपना टेलेंट दिखाने का मौका देता है।

Next Story
Top