Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Ind vs Wi: वेस्टइंडीज में टीम इंडिया की 5 यादगार टेस्ट जीत, एक में तो रच दिया इतिहास

India vs West Indies 2019: भारतीय टीम वेस्टइंडीज में (India vs West Indies 2019) अपनी 12वीं टेस्ट सीरीज खेलने के लिए तैयार है, जब वह गुरुवार यानि 22 अगस्त 2019 को एंटीगुआ के सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम में पहले टेस्ट में मेजबान टीम वेस्टइंडीज से भिड़ेगा। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको वेस्टइंडीज में टीम इंडिया की 5 यादगार टेस्ट जीत के बारे में बताने जा रहे हैं।

Ind vs Wi: वेस्टइंडीज में टीम इंडिया की 5 यादगार टेस्ट जीत, एक में तो रच दिया इतिहास

India vs West Indies 2019 (भारत बनाम वेस्टइंडीज 2019) भारतीय टीम वेस्टइंडीज में (India vs West Indies 2019) अपनी 12वीं टेस्ट सीरीज खेलने के लिए तैयार है, जब वह गुरुवार यानि 22 अगस्त 2019 को एंटीगुआ के सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम में पहले टेस्ट में मेजबान टीम वेस्टइंडीज से भिड़ेगा। वेस्टइंडीज में इन दोनों टीमों के बीच खेली गई पिछली 11 टेस्ट सीरीज में मेजबान टीम ने 7 बार जीत हासिल की है जबकि टीम इंडिया ने 4 सीरीज जीती हैं।

कुल 49 टेस्ट मैचों में से भारत ने 7 जीते हैं जबकि वेस्टइंडीज ने 16 जीते हैं और शेष 26 मैच ड्रॉ पर समाप्त हुए हैं। पिछली बार वेस्टइंडीज ने भारत के खिलाफ एक घरेलू श्रृंखला 2002 में जीती थी और इन दोनों टीमों के बीच अंतिम 11 टेस्ट मैचों में से भारत ने 8 में जीत दर्ज की है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको वेस्टइंडीज में टीम इंडिया की 5 यादगार टेस्ट जीत के बारे में बताने जा रहे हैं।

वेस्टइंडीज में टीम इंडिया की 5 यादगार टेस्ट जीत

1. 1976 में पोर्ट ऑफ स्पेन में तीसरा टेस्ट

इस टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज ने क्रमश पहली और दूसरी पारी में विवियन रिचर्ड्स और एल्विन कालीचरन के शतकों की मदद से भारत के सामने चौथी पारी में 403 रनों लक्ष्य रखा था। जवाब में सलामी बल्लेबाज सुनील गावस्कर और अंशुमान गायकवाड़ ने अच्छी शुरुआत करते हुए पहले विकेट के लिए 69 रन जोड़े। मैच का टर्निंग पॉइंट मोहिंदर अमरनाथ और गुंडप्पा विश्वनाथ के बीच तीसरे विकेट के लिए 159 रन की साझेदारी थी। विश्वनाथ ने अपना चौथा टेस्ट शतक बनाया लेकिन भारत के लक्ष्य तक पहुंचने से पहले अमरनाथ और विश्वनाथ दोनों रन आउट हो गए। अंत में बृजेश पटेल ने 49 रनों की तेज पारी खेलकर भारत को 14 ओवर पहले जीत दिला दी। यह दूसरी बार था, जब किसी टीम ने चौथी पारी में 400 से अधिक के लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा किया था।


2. 2002 में पोर्ट ऑफ स्पेन में दूसरा टेस्ट

सचिन तेंदुलकर के 117, राहुल द्रविड़ के 67 और वीवीएस लक्ष्मण के 69 रनों की शानदार पारी की बदौलत भारत ने पहली पारी में 339 रन बनाए। जवाब में वेस्टइंडीज ने पहली पारी पारी में 245 रन बनाए। पहली पारी के आधार पर भारत को 94 रनों की लीड मिली। भारत ने दूसरी पारी में 218 रन बनाए और पहली पारी की लीड को मिलाकर भारत ने वेस्टइंडीज के सामने जीत के लिए 313 रनों का लक्ष्य रखा। 313 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए वेस्टइंडीज ने एक समय 2 विकेट के नुकसान पर 157 रन बना लिए थे, लेकिन आशीष नेहरा और जवागल श्रीनाथ की शानदार गेंदबाजी के आगे वेस्टइंडीज महज 275 रनों पर सिमट गई। इसके साथ ही भारत ने इस मैच को 37 रनों से जीत लिया।


3. 1971 में पोर्ट ऑफ स्पेन में दूसरा टेस्ट

बिशन सिंह बेदी, ईएएस प्रसन्ना और वेंकटराघवन की भारतीय स्पिन-तिकड़ी के आगे वेस्टइंडीज की पहली पारी महज 214 रनों पर सिमट गई। सुनील गावस्कर के 65 रन और उस श्रृंखला में इन-फॉर्म बल्लेबाज दिलीप सरदेसाई के एक और शतक की मदद से भारत ने पहली पारी में 352 रन बनाए। जवाब में वेस्टइंडीज ने दूसरी पारी में 261 रन बनाए और भारत को जीत के लिए 124 रनों का आसान लक्ष्य मिला। भारत ने महज 3 विकेट खोकर इस लक्ष्य को हासिल कर लिया।


4. 2006 में किंग्स्टन में चौथा टेस्ट

राहुल द्रविड़ के 81 और अनिल कुंबले के 45 रनों की बदौलत भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 200 रन बनाए। जवाब में हरभजन सिंह के पांच विकेट की मदद से वेस्टइंडीज की पहली पारी महज 103 रनों पर सिमट गई। भारत की दूसरी पारी 171 रनों पर सिमट गई। पहली पारी में मिले लीड के आधार पर भारत ने वेस्टइंडीज को जीत के लिए 269 रनों का लक्ष्य दिया। अनिल कुंबले के 6 विकेट लेकर वेस्टइंडीज को महज 219 रनों पर ढेर कर दिया। इस तरह भारत ने इस मैच को 49 रनों से जीत लिया।


5. 2016 में ग्रोस आइलेट, सेंट लूसिया में तीसरा टेस्ट

रविचंद्रन अश्विन और रिद्धिमान साहा के शानदार शतक की बदौलत भारत ने पहली पारी में 353 रन बनाए। जवाब में वेस्टइंडीज की टीम महज 225 रनों पर सिमट गई। भारत ने दूसरी पारी में 7 विकेट पर 217 रन बनाकर पारी घोषित कर दी।


पहली पारी की लीड के आधार पर भारत ने वेस्टइंडीज के सामने जीत के लिए 346 रनों का लक्ष्य रखा। इसके जवाब में वेस्टइंडीज की टीम सिर्फ 108 रनों पर ऑलआउट हो गई। इस तरह भारत ने इस मैच को 237 रनों के बड़े अंतर से जीत लिया।

Next Story
Share it
Top