Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CWG 2018: भारत के दो खिलाड़ियों ने किया ''नो नीडल पोलिसी'' का उल्लंघन, राष्ट्रमंडल खेल महासंघ ने किया बाहर

भारतीय रेस वॉकर खिलाड़ी कोलोथम थोडी इरफान और ट्रिपल जम्पर खिलाड़ी वी राकेश बाबू को राष्ट्रमंडल खेलों की ‘नो नीडल पालिसी'' के उल्लंघन के आरोप में तत्काल प्रभाव से भारत वापिस भेज दिया गया और भारतीय अधिकारियों को भी कड़ी चेतावनी दे दी गई है।

CWG 2018: भारत के दो खिलाड़ियों ने किया नो नीडल पोलिसी का उल्लंघन, राष्ट्रमंडल खेल महासंघ ने किया बाहर
X

भारतीय रेस वॉकर खिलाड़ी कोलोथम थोडी इरफान और ट्रिपल जम्पर खिलाड़ी वी राकेश बाबू को राष्ट्रमंडल खेलों की ‘नो नीडल पालिसी' के उल्लंघन के आरोप में तत्काल प्रभाव से भारत वापिस भेज दिया गया और भारतीय अधिकारियों को भी कड़ी चेतावनी दे दी गई है।

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष लुई मार्टिन ने कड़े शब्दों में कहा कि राकेश बाबू और इरफान कोलोथम थोडी को तुरंत प्रभाव से खेलों से बाहर कर दिया गया है। इनके एक्रीडिटेशन 13 अप्रैल 2018 को सुबह नौ बजे से रद्द कर दिये गए हैं। दोनेां को खेलगांव से बाहर कर दिया गया है।
लुई मार्टिन ने कहा कि हमने भारत के राष्ट्रमंडल खेल संघ से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि दोनों खिलाड़ी पहली उड़ान से भारत लौट जायें। इरफान की 20 किमी पैदलचाल स्पर्धा हो चुकी है जिसमें वह 13वें स्थान पर रहे।
वहीं राकेश बाबू को आज ट्रिपल जम्प फाइनल खेलना था जिसमें 12वें स्थान पर रहकर उन्होंने क्वालीफाई किया था। हालांकि सीजीएफ ने कहा कि डोपिंग का कोई मामला नहीं है।

भारतीय मुक्केबाज के कमरे से मिली सुई

इससे पहले एक मुक्केबाज के कमरे के बाद सुई मिलने से भारत को खेल शुरू होने से पहले ही शर्मिंदगी झेलनी पड़ी थी। राष्ट्रमंडल खेल महासंघ अदालत ने कल सीजीएफ मेडिकल आयोग से नोटिस मिलने के बाद मामले की सुनवाई की ।
सीजीएफ ने कहा कि भारत में राष्ट्रमंडल खेल संघ के दल प्रमुख , टीम मैनेजर नामदेव शिरगांवकर, एथलेटिक्स टीम मैनेजर रविंदर चौधरी, दोनों एथलीट राकेश बाबू और केटी इरफान और सीजीए भारत से जुड़े अन्य टीम मैनेजरों को सीजीएफ महासंघ अदालत ने सीजीएफ की नो नीडल पालिसी के उल्लंघन का दोषी पाया है। इन पांचों को नीति के उल्लंघन का कसूरवार पाया गया है।

मेडिकल आयोग के आदेश के बिना सुर्ई का इस्तेमाल नहीं करना होता

खिलाड़ियों को मेडिकल आयोग के समक्ष बिना पूर्व घोषणा के सुई के इस्तेमाल की मनाही है या 24 घंटे के भीतर इसकी सूचना देनी होगी। सीजीएफ ने कहा कि राकेश बाबू और केटी इरफान ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है कि दूसरे बेडरूम में एक कप में सुई पड़ी थी।
सीजीएफ ने आगे कहा कि बाद में और पूछने पर राकेश बाबू ने कहा कि उसे नहीं पता था कि दूसरे बेडरूम में उसके बैग में सुई पाई गई है। दोनों की बातें अविश्वसनीय और कपटपूर्ण लग रही है।
बाबू और इरफान को नो नीडल पालिसी के उल्लंघन का दोषी पाया गया क्योकि दोनों इसके अनुच्छेद एक, दो, तीन और चार का पालन नहीं कर सके। ये चारों अनुच्छेद सुइयों के इस्तेमाल के संबंध में है।

सीजीएफ ने लगाई फटकार

सीजीएफ ने कहा कि सीजीएफ विक्रम सिंह सिसोदिया, नामदेव शिरगांवकर और रविंदर चौधरी को कड़ी फटकार लगायेगा क्योंकि वे और ये व्यक्ति नो नीडल पालिसी पर अमल करने में नाकाम रहे।
इसने आगे कहा कि सीजीएफ इन्हें कहेगा कि आगे भारतीय दल का कोई भी सदस्य इस नीति के उल्लंघन का दोषी पाया गया तो उसका एक्रीडिटेशन रद्द कर दिया जायेगा।
इनपुट-भाषा

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story