Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

World Hindi Day : विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस में क्या है अंतर

World Hindi Day 2020 : 1975 से भारत, मॉरीशस, यूनाइटेड किंगडम, त्रिनिदाद एंड टोबैगो, संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे विभिन्न देशों में विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन होता चला आ रहा है।

World Hindi Day : विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस में क्या है अंतरविश्व हिंदी दिवस 2020

World Hindi Day 2020 : विश्व हिंदी दिवस (World Hindi Day) हर साल 10 जनवरी (10 January) को मनाया जाता है, जो 1975 में आयोजित प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन की वर्षगांठ के अवसर पर मनाया गया था। प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा किया गया था।

1975 से भारत, मॉरीशस, यूनाइटेड किंगडम, त्रिनिदाद एंड टोबैगो, संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे विभिन्न देशों में विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन होता चला आ रहा है। विश्व हिंदी दिवस पहली बार 10 जनवरी 2006 को मनाया गया था। तब से यह हर साल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है।

विश्व हिंदी दिवस बनाम राष्ट्रीय हिंदी दिवस (World Hindi Day vs National Hindi Diwas)

विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस पूरी तरह से अलग है। राष्ट्रीय हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। 14 सिंतबर 1949 में संघ की विधानसभा ने हिंदी को अपनाया। जिसे देवनागरी लिपि में संघ की आधिकारिक भाषा के रूप में लिखा गया था।

जबकि विश्व हिंदी दिवस का फोकस वैश्विक स्तर पर भाषा को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय स्तर पर देश भर में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय हिंदी दिवस, देवनागरी लिपि में आधिकारिक भाषा के रूप में लिखे गए हिंदी के अनुकूल हैं।

पहला विश्व हिंदी सम्मेलन (First World Hindi Conference)

पहला विश्व हिंदी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नागपुर में किया था।

पहले सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में मॉरीशस के प्रधानमंत्री सीवसागुर रामगुलाम थे। इनके अलावा 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने भी इस सम्मेलन में हिस्सा लिया था।

भारत के अलावा, यूनाइटेड किंगडम, यूनाइटेड स्टेट्स, मॉरीशस, त्रिनिदाद और टोबैगो जैसे देशों ने विश्व हिंदी सम्मेलन की मेजबानी की है। इसके अलावा, कई देशों में भारतीय मूल और गैर-आवासीय भारतीयों के लोग भाषा को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं।

इन स्थानों पर विश्व हिंदी सम्मेलन आयोजित किया गया (A look at the places where 10 previous World Hindi Conference was held)

* प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन - भारत, नागपुर- 10-12 जनवरी 1975

* दूसरा विश्व हिंदी सम्मेलन - मॉरीशस, पोर्ट लुई- 28-30 अगस्त 1976

* तीसरा विश्व हिंदी सम्मेलन - भारत, नई दिल्ली- 28-30 अक्टूबर 1983

* चौथा विश्व हिंदी सम्मेलन - पोर्ट लुइस, मॉरीशस - 02-04 दिसंबर 1993

* पांचवां विश्व हिंदी सम्मेलन- त्रिनिदाद और टोबैगो, पोर्ट ऑफ स्पेन- 04-08 अप्रैल 1996

* छठा विश्व हिंदी सम्मेलन - यू.के., लंदन- 14-18 सितंबर 1999

* सातवां विश्व हिंदी सम्मेलन - सूरीनाम, पारामारिबो- 06-09 जून 2003

* आठवां विश्व हिंदी सम्मेलन - अमेरिका, न्यूयॉर्क- 13-15 जुलाई 2007

* नौवां विश्व हिंदी सम्मेलन - दक्षिण अफ्रीका, जोहान्सबर्ग - 22-24 सितंबर 2012

* दसवां विश्व हिंदी सम्मेलन - भारत भोपाल - 10-12 सितंबर 2015

* ग्यारहवां विश्व हिंदी सम्मेलन - मॉरीशस, पोर्ट लुइस, 18-20 अगस्त 2018

हिंदी भाषा के बारे में तथ्य (Lesser Known Facts About Hindi Language)

1- हिंदी शब्द की उत्पत्ति फारसी शब्द हिंद से हुई है, जिसका अर्थ सिंधु नदी की भूमि है।

2- हिंदी दुनिया भर के लगभग 430 मिलियन लोगों की पहली भाषा है।

3- भारत के अलावा, भाषा नेपाल, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, सूरीनाम, फिजी और मॉरीशस में भी बोली जाती है। हिंदी और नेपाली एक ही स्क्रिप्ट साझा करते हैं - देवनागरी।

4- हिंदी के लैंगिक पहलू बहुत सख्त हैं। हिंदी में सभी संज्ञाओं के लिंग होते हैं और विशेषण और क्रिया लिंग के अनुसार बदलते हैं।

5- अंग्रेजी के कई शब्द हिंदी से लिए गए हैं, जैसे चटनी, लूट, बंगला, गुरु, जंगल, कर्म, योग, ठगी, अवतार इत्यादि।

6- हिंदी संस्कृत का वंशज है। इसके शब्द और व्याकरण प्राचीन भाषा का अनुसरण करते हैं।

7- हिंदी तुर्की, अरबी, फारसी, अंग्रेजी और द्रविड़ियन (प्राचीन दक्षिण भारत) भाषाओं से प्रभावित और समृद्ध हुई है।

8- हिंदी का सबसे पहला रूप 'अपभ्रंश' कहलाता था, जो संस्कृत की एक संतान थी। 400 ई में कवि कालिदास ने अपभ्रंश में Ikramorvashiyam लिखा।

9- हिंदी में प्रकाशित होने वाली पहली पुस्तक प्रेम सागर थी। पुस्तक को लालू लाल ने प्रकाशित किया और कृष्ण की कहानियों को दर्शाया।

10- हिंदी उन सात भारतीय भाषाओं में से एक है जिसका उपयोग वेब यूआरएल बनाने के लिए किया जा सकता है।

Next Story
Top