Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Sardar Patel Jayanti 2020: यहां पढ़ें सरदार वल्लभभाई पटेल की जिंदगी से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें...

Sardar Patel Jayanti 2020: देश के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की 31 अक्टूबर को 145 जयंती मनाई जाएगी।

Sardar Patel Jayanti 2020:  यहां पढ़ें सरदार वल्लभभाई पटेल की जिंदगी से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें...
X

Sardar Patel Jayanti 2020: देश के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की 31 अक्टूबर को 145 जयंती मनाई जाएगी। इस मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात में सी प्लेन योजना की शुरुआत करेंगे और 17 प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन भी करेंगे। पीएम मोदी 30 अक्टूबर को गुजरात पहुंच चुके हैं।

भारत को आजादी दिलाने में सरदार वल्लभभाई पटेल का अहम योगदान माना जाता है। उन्होंने भारत की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए देसी रियासतों को एक किया और उन्होंने देश को एक करने के लिए अपना महत्वपूर्ण कदम उठाया। वहीं दूसरी तरफ गुजरात की नर्मदा नदी के किनारे सरदार सरोवर बांध के सामने सरदार वल्लभभाई पटेल का सबसे ऊंचा स्टैचू बना हुआ है। जिसकी ऊंचाई 182 मीटर है। एक लौह प्रतिमा है। इसके चलते जहां पर पर्यटन को बढ़ावा मिला है। यहां पढ़ें सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन से जुड़े अनसुने किस्से....

1. कहते हैं कि राष्ट्र की एकता को बनाए रखने के लिए सरदार वल्लभभाई पटेल ने ही देश की कई रियासतों को एक करने में अहम भूमिका निभाई थी। भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन को वैचारिक एवं क्रियात्मक रूप से नई दिशा देने में उनका अहम योगदान माना गया है।

2. सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म गुजरात के नडियाद में हुआ। उन्होंने सिर्फ 22 साल की उम्र में ही मेट्रिक क्लास पास की थी।

3. कहते हैं कि बचपन में सरदार पटेल हमेशा से अन्याय के खिलाफ लड़ते रहे और इसकी शुरुआत नडियाद में स्कूल में से ही शुरू हो गई थी।

4. कहते हैं कि सरदार वल्लभभाई पटेल को महिलाओं ने सरदार की उपाधि पहली बार दी थी। बारडोली सत्याग्रह का नेतृत्व कर रहे पटेल को पहली बार महिलाओं ने सरदार कहकर पुकारा था।

5. भारत की आजादी के दौरान विभिन्न रियासतों को एक करने में अहम भूमिका निभाई गई। जिसके चलते उन्हें भारत का बिस्मार्क और लौहपुरुष कहा गया।

Next Story