Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नौसेनाध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण करना मेरे लिए बड़े सम्मान की बात: एडमिरल आर हरि कुमार

जानकारी के लिए आपको बता दें कि वाइस एडमिरल आर हरि कुमार ने लगभग 39 वर्षों की अपनी लंबी और विशिष्ट सेवा के दौरान विभिन्न कमांड, स्टाफ और निर्देशात्मक नियुक्तियों में काम किया है।

नौसेनाध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण करना मेरे लिए बड़े सम्मान की बात: एडमिरल आर हरि कुमार
X

एडमिरल आर हरि कुमार (Admiral R Hari Kumar) ने नौसेना स्टाफ के नए प्रमुख के रूप में दिल्ली (Delhi) के साउथ ब्लॉक लॉन में गार्ड ऑफ ऑनर प्राप्त किया है। इस दौरान नौसेनाध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार (Chief of Naval Staff Admiral R Hari Kumar) ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि नौसेनाध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण करना मेरे लिए बड़े सम्मान की बात है। भारतीय नौसेना (Indian Navy) का ध्यान हमारे राष्ट्रीय समुद्री हितों और चुनौतियों पर है। एडमिरल आर हरि कुमार ने एडमिरल केबी सिंह की जगह ली है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि वाइस एडमिरल आर हरि कुमार ने लगभग 39 वर्षों की अपनी लंबी और विशिष्ट सेवा के दौरान विभिन्न कमांड, स्टाफ और निर्देशात्मक नियुक्तियों में काम किया है। वाइस एडमिरल कुमार की समुद्री कमान में आईएनएस निशंक, मिसाइल कार्वेट, आईएनएस कोरा और गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर आईएनएस रणवीर शामिल हैं।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि हिंद महासागर पर दुनिया की निगाहों के साथ और इस क्षेत्र में एक शुद्ध सुरक्षा प्रदाता होने के भारत के उद्देश्य को देखते हुए, वाइस एडमिरल आर हरि कुमार को नए नौसेना प्रमुख के रूप में कई नई जिम्मेदारियों के साथ-साथ चुनौतियों का भी सामना करना पड़ेगा।

ऐसे समय में जब भारतीय नौसेना भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्षों के हिस्से के रूप में आत्मानिर्भर भारत की ओर बढ़ रही है, एडमिरल आर हरि कुमार को विशेष रूप से प्रोजेक्ट -75 की विभिन्न कमानों में देखा जाएगा, जिसमें स्कॉर्पीन की छह पनडुब्बियों का निर्माण शामिल है।

Next Story