Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi-Inh News: 'धर्मांतरण' पर बवाल या 'सियासी' सवाल? चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ

Haribhoomi-Inh News: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, धर्मांतरण' पर बवाल या 'सियासी' सवाल ? दरअसल, उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण मामले में एटीएस ने मुजफ्फरनगर के फुलत के रहने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी को गिरफ्तार किया है। मौलाना पर अवैध तरीके से धर्मांतरण और विदेश से इसके लिए फंडिंग लेने का आरोप है।

Haribhoomi-Inh News: धर्मांतरण पर बवाल या सियासी सवाल?  चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ
X

Haribhoomi-Inh News: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, धर्मांतरण' पर बवाल या 'सियासी' सवाल ? दरअसल, उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण मामले में एटीएस ने मुजफ्फरनगर के फुलत के रहने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी को गिरफ्तार किया है। मौलाना पर अवैध तरीके से धर्मांतरण और विदेश से इसके लिए फंडिंग लेने का आरोप है।

कलीम इस्लामिक विद्वानों में शुमार हैं। वह फुलत के मदरसा जामिया इमाम वलीउल्लाह इस्लामिया के डायरेक्टर भी हैं। इसी 7 सितंबर को मुंबई में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की अगुआई में हुए 'राष्ट्र प्रथम और राष्ट्र सर्वोपरि' कार्यक्रम में भी मौलाना कलीम शामिल हुए थे। कुछ समय पहले वे अभिनेत्री सना खान का निकाह कराने को लेकर भी चर्चा में रहे थे। अब सवाल यह उठता है कि आखिर क्यों इस प्रकार के अवैध धर्मांतरण करवाने वाले गिरोह सामने आ रहे हैं और इनका उत्साह बढ़ा कौन रहा है…

इस कार्यक्रम में पूर्व चेयरमैन शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड वसीम रिजवी, यूपी भाजपा विधायक विक्रम सैनी, उन्नाव जामा मस्जिद कमेटी के अध्यक्ष जमीर अहमद खान, सुप्रीम कोर्ट अधिवक्ता कपिल सांखला और छग पूर्व डीजीपी रामनिवाससे चर्चा की...

'धर्मांतरण' पर बवाल या 'सियासी' सवाल?

'चर्चा'

क्यों उठा विवाद

उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते यानी एटीएस ने धर्मांतरण मामले में मौलाना कलीम सिद्दीकी को बीते बुधवार को मेरठ से गिरफ्तार किया था। जमीयत-ए-वलीउल्लाह ट्रस्ट के अध्यक्ष मौलाना कलीम सिद्दीकी के अलावा मुख्य आरोपी उमर गौतम के संपर्क में था। विदेशी फंडिंग मामले में सबूतों के आधार पर गिरफ्तारी हुई है। फिलहाल इस मामले में अभी जांच जारी है। लखनऊ के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि मौलाना कलीम के खिलाफ अवैध रूप से धर्म परिवर्तन में शामिल होने के सबूत मिले थे। उन पर अवैध रूप से धर्मांतरण में शामिल होने की भी सूचना है। उन्हें देश के साथ-साथ विदेशों से भी कई कार्यक्रमों के लिए बुलाया गया था। विदेशी फंडिंग हुई है।

मौलाना कलीम सिद्दीकी को 5 अक्टूबर तक 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। फिलहाल, यूपी पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। उन पर संदिग्ध गतिविधियों और कट्टरपंथ फैलाने का आरोप है। सूत्रों ने जानकारी दी है कि कलीम के एजेंडे में लव जिहाद और मुस्लिम आबादी में बढ़ोतरी को शामिल किया गया था। अब कलीम की गिरफ्तारी के बाद उसके 5 साथियों की भी तलाश की जा रही है। कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी के बाद से उसके साथी फरार हैं। पुलिस, मेरठ, मुजफ्फरनगर और दिल्ली में छापेमारी कर सकती हैं।

Next Story