Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मौजूदा वक्त में कुछ लोगों और समूहों का आक्रामक व्यवहार अपवाद है : CJI

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने असम के गुवाहाटी हाईकोर्ट के ऑडिटोरियम की यहां आधारशिला स्थापना कार्यक्रम में कानून व्यवस्था समेत कई मामलों पर बात की है।

मौजूदा वक्त में कुछ लोगों और समूहों का आक्रामक व्यवहार अपवाद है : CJI

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने असम के गुवाहाटी हाईकोर्ट के ऑडिटोरियम की यहां आधारशिला स्थापना कार्यक्रम में कानून व्यवस्था समेत कई मामलों पर बात की है।

सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वर्तमान समय में कुछ लोगों और समूहों का आक्रामक और लापरवाही वाला व्यवहार देखा जा रहा है। हालांकि मुझे उम्मीद है कि इस तरह की घटनाएं अपवाद साबित होंगी और देश की न्यायिक संस्थाओं की मजबूत परम्पराएं इन्हें हरा देंगी।

सीजेआई रंजन गोगोई आगे कि सरकार के विभिन्न कार्यालय और संस्थाओं के होने के बावजूद कोर्ट प्रतिदिन लोगों को न्याय दिलाने का कार्य करती हैं। अदालत में सरकारी दफ्तर की तरह कोई वरिष्ठता क्रम नहीं होता है यही वजह है कि यहां तक सभी की पहुंच होती है।

देश में लगभग 90 लाख लंबित नागरिक मामलों में से 20 लाख से अधिक ऐसे मामले हैं जिनमें कोर्ट ने नोटिस भी जारी नहीं किया है। 2 करोड़ 10 लाख आपराधिक मामलों में से 1 करोड़ से ज्यादा केस समन के स्टेज पर आ कर रुके हैं और लंबित पड़े हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने जब ट्रायल जज के 6,000 खाली पड़े पद भरने की जिम्मेदारी ली उसके बाद मुझे लगता है कि इनमें से 4,000 पद भरे जा चुके हैं। 1500 के करीब पदों पर नवंबर या दिसंबर के अंत तक नियुक्तियां हो जाएंगी।

Next Story
Share it
Top