Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बंगाल से लेकर केरल और असम तक दिखा भारत बंद का असर, ये सेवाएं रहीं प्रभावित

मोदी सरकार की 'जन विरोधी नीतियों' के खिलाफ देश के 10 बड़े ट्रेड यूनियन ने बुधवार को भारत बंद का आह्वान किया गया था।

बंगाल से लेकर केरल और असम तक दिखा भारत बंद का असर, ये सेवाएं रहीं प्रभावितआज भारत बंद

देश की विभिन्न ट्रेड यूनियनों ने 8 जनवरी को भारत बंद का आह्वान किया गया था। भारत बंद की वजह से बैंकिंग, ट्रांसपोर्ट और अन्य सुविधाओं पर असर पड़ा। रिपोर्ट्स के मुताबिक सेंट्रल ट्रेड यूनियन्स और बैंक यूनियन केंद्र सरकार की कथित राष्ट्र विरोधी और जनता विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन किया था।

बंगाल में कई 42 ट्रेनें रद्द

बंगाल में भारत बंद असर रेलवे पर देखने को मिल रहा है। अभी तक हावड़ा से कुल 42 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। हालांकि, सरकारी दफ्तरों में करीब 90 प्रतिशत से ज्यादा उपस्थिति दर्ज की गई है।

भारत बंद का असर दिल्ली पंजाब में भी दिखा

भारत बंद का असर दिल्ली पंजाब में भी दिखा रहा है। अमृतसर में प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक पर जाम लगाया तो वहीं दूसरी ओर दिल्ली में ट्रेड यूनियन ने मार्च निकाला है।

बंगाल में बस में तोड़फोड़

भारत बंद के दौरान बंगाल के कूच बिहार में प्रदर्शनकारियों ने एक सरकारी बस में जमकर तोड़फोड़ की है। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। प्रदर्शनकारियों ने हाइवे भी जाम कर दिया है।

अशोक चव्हाण ने भारत बंद का समर्थन किया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण ने ट्रेड यूनियन के द्वारा बुलाए गए भारत बंद का समर्थन किया है।

हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारी

भारत बंद के दौरान चेन्नई में कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है। बंद के दौरान प. बंगाल में ट्रेन रोकी गई हैं तो वहीं हाइवे को भी जाम कर दिया गया है।

भारत बंद को राहुल गांधी का समर्थन

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत बंद का समर्थन किया है। राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मोदी सरकार की आर्थिक विरोधी नीतियों के खिलाफ जो आवाज उठाई जा रही है, उन कर्मचारियों को वो सलाम करते हैं।

पश्चिम बंगाल के बाद ओडिशा में भी दिखा भारत बंद का असर

ओडिशा में भी भारत बंद का असर दिख रहा है। भुवनेश्नर में कांग्रेस समर्थित ट्रेड यूनियन के कार्यकर्ताओं ने सड़क को ब्लॉक कर दिया है। प्रदर्शनकारियों के द्वारा ट्रेन को भी रोका गया है।

भारत बंद का असर पश्चिम बंगाल में दिखा

भारत बंद का असर पश्चिम बंगाल में देखने को मिल रहा है। यहां के सिलिगुड़ी में सरकारी बस के ड्राइवर हेल्मेट पहनकर बस चला रहे हैं। ताकि प्रदर्शनकारी हमले करें तो उसका सामना किया जा सके।

प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक ब्लॉक किया

पश्चिम बंगाल में प्रदर्शनकारियों ने हावड़ा में रेलवे ट्रैक को ब्लॉक कर दिया है। जिस वजह से ट्रेन सेवा प्रभावित हुई है। ट्रेड यूनियनों ने आज केंद्रीय सरकार की नीतियों के खिलाफ भारत बंद का आह्वान किया है।

ट्रेड यूनियन्स का दावा

ट्रेड यूनियन्स केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार के साथ बैठक की। यूनियन्स ने दावा करते हुए कहा कि बैठक के बाद बंद का आह्वान किया है। बताया जा रहा है कि इस इस देशव्यापी हड़ताल में लगभग 25 लाख लोग शामिल हो सकते हैं।

इन संगठनों ने बुलाया है बंद

10 केंद्रीय व्यापारिक संगठन जैसे आईएनटीयूसी (INTUC), एआईटीयूसी (AITUC), एचएमएस (HMS), सीआईटीयू (CITU), एआईयूटीसी (AIUTC), टीयूसीसी (TUCC), एसईडब्ल्यू (SEWA), एआईसीसीटीयू (AICCTU), एलपीएफ (LPF), यूटीयूसी (UTUC) के अलावा ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स असोसिएशन (AIBOA), बीईएफआई (BEFI), आईएनबीईएफ (INBEF), आईएनबीओसी (INBOC) और बैंक कर्मचारी सेना महासंघ इस बंद में शामिल होंगे।

क्या हैं ट्रेड यूनियनों की मांगें

* यूनियनों ने केंद्र सरकार के सामने 13 सूत्रीय मांग रखी हैं। जिसमें सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सार्वभौमिकरण और रोजगार सृजन के लिए ठोस उपायों के माध्यम से बेरोजगारी शामिल हैं।

* खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर 2019 में 3 साल के उच्च स्तर 5.54 फीसदी पर पहुंच गई है, जो खाद्य कीमतों में वृद्धि के कारण थी। इसको कम किया जाएग।

* श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी में वृद्धि प्रमुख मांगों में से एक है। यूनियनों ने मासिक न्यूनतम वेतन 15,000 रुपये में श्रमिकों के लिए निर्धारित करने के लिए कहा है। अब सरकार से इसे बढ़ाकर 21,000 रुपये करने की मांग कर रहे हैं।

* यूनियनों ने सभी योजना श्रमिकों, जैसे कि मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (आशा) और स्कूलों में मध्यान्ह भोजन उपलब्ध कराने में काम करने वालों को श्रमिक का दर्जा देने की मांग की है।

* यूनियनों ने 1,000 रुपये से 6,000 रुपये की न्यूनतम मासिक पेंशन मांगी है।

* यूनियनों की अन्य मांगों में 12 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की विलय के मुद्दे को उठाया है।

Next Story
Top