Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महाराष्ट्र चुनाव: चिखली रैली में अमित शाह ने एनसीपी-कांग्रेस पर कसा तंज, बोले- दोनों ने परिवारवाद को दिया बढ़ावा

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए सभी पार्टियों के नेता लगातार रैलियां कर एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। वहीं केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने चिखली में रैली को संबोधित किया।

महाराष्ट्र चुनाव: चिखली रैली में अमित शाह ने एनसीपी-कांग्रेस पर कसा तंज, बोले- दोनों ने परिवावाद को दिया बढ़ावाAmit Shah addressed rally in Chikhali Maharashtra Assembly Eelction

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए सभी पार्टियों के नेता लगातार रैलियां कर एक दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। वहीं केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने चिखली में रैली को संबोधित किया।

रैली के दौरान अमित शाह ने एनसीपी-कांग्रेस पर तंज कसा। शाह ने कहा कि एनसीपी-कांग्रेस अपने परिवार के लिए चलने वाली पार्टी हैं। जबकि भाजपा देश के लिए चलने वाली पार्टी हैं। महाराष्ट्र की जनता को तय करना है कि उन्हें कैसी पार्टी की सरकार चाहिए।

370 पर कांग्रेस और एनसीपी को घेरा

शाह ने एनसीपी पर हमला करते हुए कहा कि 70 साल से आतंकवाद के कारण कश्मीर में 40 हजार से ज्यादा लोग मारे गए। इसके बावजूद भी कांग्रेस और एनसीपी अपनी वोटबैंक की राजनीति के लिए 370 को हटाने का विरोध करती रहीं।

लेकिन भाजपा ने 370 को हटाने के फैसाल लिया और देश की सुरक्षा के मद्देनजर आर्टिकल को हटाया। जब अनुच्छेद 370 पर बहस हो रही थी तब कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद कहते थे कि 370 हटाने से कश्मीर में खून की नदियां बह जाएंगी। मगर मैं आज कांग्रेस के नेताओं को कहना चाहता हूं कि 370 हटने के बाद खून की नदियां क्या, खून का एक कतरा भी नहीं बहा है।

फडण्वीस सरकार की तारीफ

अमित शाह ने चिखली रैली के दौरान महाराष्ट्र में भाजपा सरकार की तारीफ की उन्होंने कहा कि देवेंद्र फडण्वीस की सरकार 5 साल महाराष्ट्र में और केंद्र में मोदी सरकार चली। इन 5 सालों में डबल इंजन ग्रोथ का फायदा महाराष्ट्र को मिला है।

राहुल गांधी पर कसा तंज

अमित शाह ने कहा कि ओवरसीज कांग्रेस चीफ और राहुल गांधी के करीबी ने जेरमी कॉर्बिन से मिले और कहा कि कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है। लेकिन मैं राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि आपकी पार्टी विदेशी नेताओं के साथ देश के मामलों पर चर्चा करके क्या करना चाहती है।

Next Story
Share it
Top