Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें आप भी भारत की इन ऐतिहासिक इमारतों के बारे में जो हैं प्यार की मिसाल

देश में कुछ ऐसी इमारते भी हैं जो प्यार के प्रतीक के रूप में निर्मित हैं। इन हिस्टोरिकल मोन्यूमेंट ने आज भी प्यार की मिसाल को संजो कर रखा हुआ है। पुराने समय की वास्तुकला और शिल्पशैली में बने ये ऐतिहासिक स्मारक मन को खुश कर देती हैं। इसी बीच आज हम आपको भारत की कुछ ऐतिहासिक इमारतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो प्यार की मिसाल हैं।

जानें आप भी भारत की इन ऐतिहासिक इमारतों के बारे में जो हैं प्यार की मिसाल
X
भारत की ये ऐतिहासिक इमारतें प्‍यार की मिसाल हैं (फाइल फोटो)

स्मारक हमेशा इतिहास के महत्व की याद दिलाते हैं। इन्ही इमारतों में देश में कुछ ऐसी इमारते भी हैं जो प्यार के प्रतीक के रूप में निर्मित हैं। इन हिस्टोरिकल मोन्यूमेंट ने आज भी प्यार की मिसाल को संजो कर रखा हुआ है। पुराने समय की वास्तुकला और शिल्पशैली में बने ये ऐतिहासिक स्मारक मन को खुश कर देती हैं। इसी बीच आज हम आपको भारत की कुछ ऐतिहासिक इमारतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो प्यार की मिसाल हैं।

ताजमहल, आगरा

जहां प्यार की बात आए और जिक्र ताजमहल का न हो तो ऐसा हो नहीं सकता। इससे ज्यादा भव्य और राजसी प्यार का कोई प्रतीक नहीं है। सफेद संगमरमर में बने ताजमहल को 1631 और 1648 के बीच शाहजहां ने अपनी बीवी मुमताज की याद में इसे बनवाया था। प्‍यार की इस मिसाल को दुनिया के सात अजूबों में शुमार किया गया है।

चित्तौड़गढ़ किला, उदयुपर

इस किले को यूनेस्तो की हेरिटेज साइट में सूचीबद्ध किया गया है। यह काफी अटरेक्टिव है। इस किले की वास्तुकला और शिल्पकला टूरिस्ट को हैरान कर देती है। यह किला रानी पद्मिनी और राजा रतन रावल सिंह की ऐतिहासिक प्रेम कहानी का प्रतीक है।

Also Read: दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले एक बार जरूर जान लें एयरपोर्ट के नए नियम दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले एक बार जरूर जान लें एयरपोर्ट के नए नियम

मस्तानी महल, शनिवारवाड़ा किला, पुणे

इसे पेशवा बाजीराव ने बनवाया था। यहां प्रथम बाजीराव अपनी दूसरी पत्नी मस्तानी के साथ रहते थे। पेशवा बाजीराव में मस्तानी के दूसरे धर्म से होने की वजह से अपनाया नहीं था। इस वजह से बाजीराव अपनी दूसरी पत्नी मस्तानी के साथ शनिवारवाड़ा रहते थे। आपको बता दें कि मस्तानी का महल नष्ट कर दिया गया है, लेकिन इसके अवशेष अभी भी मौजूद हैं।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story