Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अगर दूसरी बार मां बनने में हो रही है दिक्कत, तो हो सकते हैं ये कारण

शादी के बाद किसी भी कपल के लिए मां-बाप बनने का एहसास बहुत खास होता है। जब भी कोई कपल पहली बार माता-पिता बनते हैं तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। साथ ही बच्चा होने के बाद कपल्स के बीच की बॉन्डिंग और मजबूत हो जाती है।

अगर दूसरी बार मां बनने में हो रही है दिक्कत, तो हो सकते हैं ये कारण

शादी के बाद किसी भी कपल के लिए मां-बाप बनने का एहसास बहुत खास होता है। जब भी कोई कपल पहली बार माता-पिता बनते हैं तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। पहली बार मां बनना तो ठीक है लेकिन कुछ महिलाओं को दूसरी बार मां बनने में दिक्कत आती है। बता दें कि जब कपल्स के बीच बच्चे की एंट्री हो जाती है तो उनके बीच की बॉन्डिंग और मजबूत हो जाती है।

ज्यादातर महिलाओं को पहले बेबी की तुलना में दूसरे बेबी में ज्यादा दिक्कतें झेलनी पड़ती हैं। कुछ महिलाओं को दूसरी बार मां बनने में हेल्थ से जुड़ी दिक्कतें होती हैं।

यह भी पढ़ें: हफ्ते में दो दिन व्रत रखने से कंट्रोल हो जाएगा डायबिटीज, जानें कैसे होता है असर

वहीं कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं, जिन्हें दूसरी बार मां बनने में गर्भधारण की समस्या आती है। जानें किन कारणों से दुबारा गर्भधारण में आती हैं दिक्कतें-

उम्र का फर्क

दरअसल गर्भधारण की सही उम्र 26-32 साल होती है। इन दिनों ज्यादातर लोग देर से शादी करते हैं। इस दौरान उनका पहला बेबी तो 28-32 की उम्र के बीच हो जाता है और दूसरे बेबी के समय उम्र ज्यादा हो जाने के कारण कंसीव करने में दिक्कतें आती हैं।

इनफर्टिलिटी

उम्र का असर महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों पर भी पड़ता है। ऐसे में बढ़ती उम्र में कुछ पुरुषों की फर्टिलिटी कम हो जाने के कारण महिला को दुबारा गर्भधारण करने में दिक्कत आती है।

मोटापा

ज्यादातर महिलाओं का पहली प्रेग्नेंसी के बाद वजन बढ़ जाता है। कुछ महिलाएं तो मोटापे का शिकार भी हो जाती हैं। ऐसे में कुछ महिलाओं में दुबारा प्रेग्नेंट न हो पाने के पीछे मोटापा भी एक कारण है।

यह भी पढ़ें: सावधान! घर की ये चीजें आपको कर सकती हैं ज्यादा बीमार, रखें इन बातों का ध्यान

दवाएं

कुछ महिलाओं को पहले बच्चे के दौरान ही काफी दिक्कतें होती हैं। जिसके कारण उन्हें कई तरह की दवाइयों का सेवन करना पड़ता है। ऐसे में कुछ दवाइयों के साइड इफेक्ट्स के कारण भी दुबारा कंसीव करने में दिक्कत आती है।

इररेगुलर ओव्यूलेशन

महिला ओव्यूलेशन पीरियड के दौरान ही गर्भधारण करती है। अगर किसी महिला का ओव्यूलेशन रेगुलर नहीं होगा तो उसे गर्भधारण में दिक्कत आती है। ऐसे में कुछ महिलाओं का ओव्यूलेशन पहले बच्चे के बाद आसामान्य हो जाता है, जिसके कारण दूसरी बार गर्भधारण में दिक्कत आती है।

Next Story
Top