Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हरियाणा की महिला ने दिया दो सिर वाली बच्‍ची को जन्‍म, जानि‍ए पूरा मामला

क्यों होते हैं कोनज्वाइंड ट्वींस
कोनज्वाइंड ट्वींस के बारे में दो धारणाएं हैं। पहली यह कि फिजन यानि विखंडन। इसके तहत निषेचित अंडे आंशिक रूप से विभाजित होते हैं, लेकिन पूरी तरह से विभाजित न होने के कारण आपस में जुड़े ही रह जाते हैं। दूसरी धारणा यह है कि फ्यूजन की यानि संलयन। इसमें एक निषेचित अंडा पूरी तरह से अलग हो जाता है, लेकिन दोनों की स्टेम सेल एक जैसी होने के कारण दोनों आपस में मिल जाते हैं। विज्ञान की भाषा में कोनज्वाइंड ट्वींस के पिता सुभाष कुमार इसे भगवान का चमत्कार मानते हैं। सुभाष कुमार ने कहा कि भगवान की दया है कि उनकी बच्ची और पत्नी ठीक है। उन्हें बच्चे के दो मुहं होने के बारे में पहले से पता था। उसके बाद से बस यही प्रार्थना कर रहे थे कि बच्चा ठीक-ठाक हो जाए। सुबह आपरेशन के बाद जब डॉक्टरों ने कहा कि सबकुछ ठीक है, तब जाकर जान में जान आई।
Loading...
Share it
Top