Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एलर्जी और कैंसर जैसी बीमारी को जड़ से करना है खत्म, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा

आपने आजतक पपीते के सेवन से कई बीमारियों के ठीक करने के बारे में जरूर सुना होगा, खासकर पेट और पाचन संबंधी रोगों में ये बेहद ही लाभदायक साबित होता है। इसी तरह पपीते के पत्तों का रस भी आपकी कई सारी बीमारियों को जड़ से खत्म करने में सक्षम है। अगर आप मोटापे, त्वचा, डेंगू, मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियों से परेशान रहते हैं। तो एक बार घरेलू उपाय कहे जाने वाले पपीते के पत्तों के रस के फायदे के बारे में जरूर जान लें।

एलर्जी और कैंसर जैसी बीमारी को जड़ से करना है खत्म, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा
X

आपने आज तक पपीते के सेवन से कई बीमारियों के ठीक करने के बारे में जरूर सुना होगा, खासकर पेट और पाचन संबंधी रोगों में ये बेहद ही लाभदायक साबित होता है। इसी तरह पपीते के पत्तों का रस भी आपकी कई सारी बीमारियों को जड़ से खत्म करने में सक्षम है। अगर आप मोटापे, त्वचा, डेंगू, मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियों से परेशान रहते हैं। तो एक बार घरेलू उपाय कहे जाने वाले पपीते के पत्तों के रस के फायदे के बारे में जरूर जान लें।

इसलिए आज हम आपको आपको खासतौर पर पपीते के पत्तों के रस के फायदे के बारे में बता रहे हैं। जिससे आप घर पर ही बिना किसी एक्स्ट्रा खर्चे और साइड इफेक्ट के अपनी गंभीर बीमारियों को कुछ ही दिनों में ठीक कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : मामूली न समझें बच्चों के बाल झड़ने की समस्या, हो सकती है गंभीर बीमारी!

पपीतो के पत्तों के रस के फायदे :

1. पपीतो के पत्तों के रस के फायदे - एलर्जी और कैंसर

पपीते में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बैक्टीरीया, वायरस और अन्य सूक्ष्मजीवों से पैदा होने वाली एलर्जी से शरीर को बचाते हैं। इसके साथ ही पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला कॉर्पेन नामक यौगिक शरीर की कोशिकाओं को अनियंत्रित रूप से विभाजित नहीं होने देता है। इस तरह कोशिकाएं एक निश्चित चक्र में चलती रहती हैं और शरीर कैंसर से बचा रहता है।

2.पपीतो के पत्तों के रस के फायदे -डेंगू से बचाव

डेंगू एक बहुत ही गंभीर बीमारी हैं। जिसमें लापरावाही बरतने से खून में मौजूद ब्लड प्लेटलेट्स तेजी गिरने लगते हैं, इसी ज्यादा कमी से कई बार लोगों को जान भी गंवानी पड़ती है।

ऐसे में अगर डेंगू हो जाने पर शुरू से ही पीड़ित को पपीतो के पत्तों के रस का सेवन कराया जाए, डेंगू में होने वाले सिरदर्द, जोड़ो में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, त्वचा पर लाल चकत्ते, खुजली और तेज़ बुखार से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है।

वैज्ञानिकों का मानना है कि पपीते के रस में पपैन और सिमोपपैन नामक एंजाइम पाए जाते हैं जोकि प्लेटलेट्स की वृद्धि को बढ़ावा देते हैं। इस प्रकार यह डेंगू के वाइरस को नष्ट करता है और शरीर को डेंगू से मुक्त कर देता है।

यह भी पढ़ें : रोज-रोज के बढ़ते ब्लड शुगर से हैं परेशान तो,ये खास 5 मसालों का करें यूज

3. पपीतो के पत्तों के रस के फायदे -पाचन में सहायक

जिस तरह पपीते में अनेक प्रकार के विटामिन्स, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्सीयम, फास्फोरस, आयरन, सोडियम, मैग्नीशियम आदि पाए जाते हैं। इसमें फाइबर की भी प्रचुर मात्रा पायी जाती है। फाइबर आँतों की दीवारों को चिकना और मल को मुलायम कर देता है जिससे कि क़ब्ज़ की समस्या दूर होती है।

उसी तरह पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला पपैन नामक एंजाइम जटिल प्रोटीन को सरल कणों में तोड़कर पाचन क्रिया को सरल बना देता है।

4. पपीतो के पत्तों के रस के फायदे - इम्यून सिस्टम को बनाता है मजबूत

पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला कार्पेन नामक एंजाइम शरीर में सफ़ेद रक्त कोशिकाओं(व्हाइट ब्लड सेल्स)को बढ़ाने में बेहद कारगर साबित होती है। क्योंकि सफ़ेद रक्त कोशिकाओं(व्हाइट ब्लड सेल्स) आपको वायरल, बैक्टीरियल तथा किसी भी प्रकार के इंफेक्शन से शरीर को बचाता है । इसके साथ ही पपीते की पत्तियों में विटामिन ए और विटामिन सी की प्रचुर मात्रा अंदरूनी रूप से इम्यून सिस्टम को मजबूत करती है।

5.पपीतो के पत्तों के रस के फायदे - मासिक धर्म की समस्याओं से छुटकारा

पपीते की पत्तियों का रस महिलाओं में होने वाली मासिकधर्म की अनेक समस्याओं से निजात दिलानें मे भी बेहद उपयोगी होता है। अगर पपीते के ताज़े पत्तो के रस को इमली नमक, और एक गिलास पानी डालें फिर काढ़ा बनाकर पीने से मासिकधर्म के दौरान पैरों की मांसपेशियों और ऐंठन से निजात दिलाने में सहायक होता है।

सुझाव :

1. गर्भवती महिलाओं को पपीते की पत्तियों के रस का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है।

2. हमेशा ताजा पपीते के पत्तों के रस का ही सेवन करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story