logo
Breaking

बच्चे को नहलाते वक्त हमेशा इन कुछ खास बातों का हर मम्मा को रखना चाहिए ध्यान

बड़े हों या बच्चे साफ-सफाई सभी के लिए ही जरूरी होती है। ऐसे में अगर बात नवजात शिशु को नहलाने की हो तो हाइजीन का और ज्यादा ख्याल रखना जरूरी हो जाता है, क्योंकि बच्चों को बहुत ही जल्दी बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा रहता है। यही नहीं, शिशुओं की त्वचा बड़ों की तुलना में बेहद नाजुक भी होती है और जल्दी ही रूखी हो जाती है।

बच्चे को नहलाते वक्त हमेशा इन कुछ खास बातों का हर मम्मा को रखना चाहिए ध्यान
बड़े हों या बच्चे साफ-सफाई सभी के लिए ही जरूरी होती है। ऐसे में अगर बात नवजात शिशु को नहलाने की हो तो हाइजीन का और ज्यादा ख्याल रखना जरूरी हो जाता है, क्योंकि बच्चों को बहुत ही जल्दी बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा रहता है। यही नहीं, शिशुओं की त्वचा बड़ों की तुलना में बेहद नाजुक भी होती है और जल्दी ही रूखी हो जाती है। इसके अलावा कई बार शिशु को नहलाते वक्त बच्चे के नाक या कान में पानी चला जाता है जिससे उन्हें सांस लेने में भी परेशानी होने लगती है।
इसलिए आज हम आपको शिशु को नहलाते वक्त बरतने वाली सावधानियों के बारे में बता रहे हैं। जिन्हें अपनाकर आप आसानी से अपने शिशु को बिना नुकसान पहुंचाएं नहला पायेगें। इसके अलावा शिशुओं को स्पंज बाथ देना भी फायदेमंद रहता है।

यह भी पढ़ें : भूलकर भी शिशु में आए इन बदलावों को न करें नजरअंदाज, हो सकती है पेट दर्द की समस्या

शिशु को नहलाते वक्त बरतें ये सावधानियां...

1.स्पांज बाथ कराएं

अगर आपके घर में कोई नवजात शिशु है, और अभी उसके अभी भी नाल या स्टैंप लगी हुई है, तो ऐसे में उसे स्पांज बाथ ही करवाएं। इससे बिना किसी परेशानी के आप शिशु को आसानी से गंदगी को साफ कर पायेंगे। स्पांज बाथ करवाते वक्त शिशु के चेहरे, गर्दन, अंडर आर्म्स, पैरों के बीच में, पेट और पीठ को अच्छी तरह से साफ़ करें।

2.शिशु को टब या सिंक में नहलाये

स्पांज बाथ के अलावा शिशु को प्लास्टिक के टब या सिंक में ही लेटाकर नहलाएं। टब या सिंक में पानी की मात्रा कम ही रखें। साथ ही, शिशु की गर्दन को ऊपर की ओर रखें। इससें शिशु को पानी में कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

3.पानी का तापमान का रखें ध्यान

शिशु की त्वचा बड़ों के मुकाबले बेहद नाजुक होती है, इसलिए शिशु को नहलाते वक्त पानी का तापमान जरूर चेक कर लें। क्योंकि ज्यादा गर्म या ज्यादा ठंडा होने पर बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है। पानी का सही तापमान जानने के लिए आप अपनी कोहनी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

4 माइल्ड साबुन या शैंपू का करें इस्तेमाल

शिशु को नहलाते वक्त कभी भी बड़ों के नहाने वाले साबुन का इस्तेमाल न करें, क्योंकि ऐसा करने पर उनकी त्वचा ड्राई हो जाती है जिससे त्वचा पर रेशेज और लाल निशान पड़ जाते हैं। इसलिए हमेशा शिशु को बाजार में मिलने वाले माइल्ड साबुन से ही नहलाएं।

5. शिशु को नहलाने के बाद करें ये काम

शिशु को नहलाने के बाद एक मुलायम तौलिये से पौछें, फिर त्वचा में नमी बनाए रखने के लिए बॉडी क्रीम लगाएं।
Share it
Top