Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Birthday Special: पीएम मोदी और अमित शाह के रिश्ते की ये 5 खास बातें

आपने आज तक कृष्ण और सुदामा की दोस्ती की कहानियां जरूर सुनीं होगीं,उसी तरह हमारे देश के पीएम मोदी भी अपनी दोस्ती के रिश्ते को उसी शिद्दत से निभाना पसंद करते हैं। जहां पीएम मोदी अक्सर गुजरात दौरे पर अपने पुराने दोस्तों से हाल-चाल पूछना नहीं भूलते,उसी तरह सियासत में पीएम मोदी और अमित शाह की दोस्ती के चर्चे भी बेहद प्रसिद्ध हैं।

Birthday Special: पीएम मोदी और अमित शाह के रिश्ते की ये 5 खास बातें
X

आपने आज तक कृष्ण और सुदामा की दोस्ती की कहानियां जरूर सुनीं होगीं,उसी तरह हमारे देश के पीएम मोदी भी अपनी दोस्ती के रिश्ते को उसी शिद्दत से निभाना पसंद करते हैं। जहां पीएम मोदी अक्सर गुजरात दौरे पर अपने पुराने दोस्तों से हाल-चाल पूछना नहीं भूलते,उसी तरह सियासत में पीएम मोदी और अमित शाह की दोस्ती के चर्चे भी बेहद प्रसिद्ध हैं।

इसलिए आज हम आपको पीएम मोदी के जन्मदिन पर उनके सबसे खास रिश्ते यानि की दोस्ती से जुड़ी कुछ खास बातें बता रहे हैं।

पीएम मोदी और अमित शाह की दोस्ती की खास बातें :

1. पीएम मोदी और अमित शाह की दोस्ती की शुरूआत 80 के दशक के आरंभ में RSS में शामिल होने पर हुई, जब अमित शाह RSS के एक जूनियर कार्यकर्ता थे, तब पीएम मोदी RSS में एक प्रचारक की भूमिका निभा रहे थे।
2. इसके बाद 1984 में पीएम मोदी अहमदाबाद जिला प्रचारक बन गए और अमित शाह भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता बने।
3. पीएम मोदी और अमित शाह बीजेपी की बैठकों के जरिए एक-दूसरे के करीब आ गए और 1986 में मोदी गुजरात भाजपा के सचिव बने, अमित शाह को बूथ प्रबंधन और रणनीति निर्माण जैसे महत्वपूर्ण राजनीतिक कार्यों को दिया गया था। यही नहीं,1996 में केशूभाई पटेल के खिलाफ जब पीएम मोदी की राज्य स्तर पर हार हुई, तब भी अमित शाह ने पीएम मोदी का साथ नहीं छोड़ा।
4. इसके बाद 2001 गुजरात में अपने राजनीतिक सफर की शुरूआत की और राज्य के मुख्यमंत्री बने। तब भी अमित शाह ने पीएम मोदी का साथ निभाते हुए, कुल 38 साल की उम्र में ही कैबिनेट में 17 पोर्टफोलियो रखने के लिए भारतीय इतिहास में सबसे कम उम्र के राजनेताओं में अपना नाम लिखवा लिया।
5. इस दोस्ती में पीएम मोदी जहां दूरदर्शिता से बातों और मुद्दों को देखने की क्षमता रखते हैं, तो वहीं अमित शाह पीएम मोदी के विचारों और कल्पनाओं को अपनी बुद्धिमत्ता के चतुरता और राजनीतिक कौशल के जरिए उसे मूर्त रूप देने का काम करते हैं।
6. पीएम मोदी और अमित शाह की दोस्ती ने अपना सबसे तनाव और मुश्किल वक्त गुजारा,जब जुलाई 2010 में सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले में अमित शाह को सह आरोपी के रूप में जेल भेजा गया था। तब भी पीएम मोदी का अमित शाह पर विश्वास कभी नहीं डगमगाया।
7. दोनों को करीब से जानने वाले लोगों ने बताया कि अमित शाह का जेल जाना, पीएम मोदी और अमित शाह के बीच अब तक सबसे लंबा अलगाव था, लेकिन ये अलगाव भी दोनों की तीन दशक लंबी चलने वाली दोस्ती को तोड़ नहीं पाया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story