Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

धुंध से खुद को बचाएं ऐसे, यही है एकमात्र उपाय

दिन-ब-दिन दिल्ली की हवा जहरीली होती जा रही है

धुंध से खुद को बचाएं ऐसे, यही है एकमात्र उपाय
नई दिल्ली. बुरी हवा से दिल्ली का माहोल पूरी तरह से बिगड़ रहा है। यहां तक कि हर एक दिन दिल्ली की हवा में जहर घुलता जा रहा है। ऐसे में हर उम्र के लोगों को सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लगातार बढ़ रही इस बुरी हवा से बचने के लिए यही है एक मात्र उपाय...इस जहरीली हवा से ऐसे बचाएं खुद को
सबसे पहले घर के पॉल्यूशन को पहचाने
- घर में पॉल्यूशन को परखने के लिए सबसे पहले आप अपने किचन के वेंटिलेशन और सीलिंग फैन को देखें। अगर ये दोनों काले दिखने लगे या इसमें धूल वगैरह जमने लगे तो जान लें कि घर जानलेवा हवा की मात्रा ज्यादा हो गई है।
- घर में अगर AC है तो ज्यादा कुछ करने की जरुरत नहीं है आप एसी का फिल्टर चेक करें अगर उसमें ज्यादा कालिख जमा हो रही है तो आप सतर्क हो जाएं क्योंकि यह कालिख इस ओर इंगित करता है कि आपका घर और आप अब बुरी हवा के निशाने पर है।
- अगर आपका घर सड़क के किनारे या किसी फैक्ट्री के पास है तो जाहिर है घर में धूल-मिट्टी तो घुसेंगे ही। लेकिन ऐसे में सिर्फ धूल मिट्टी नहीं बल्कि इसके साथ कार्बन पार्टिकल भी घर तक आ जाते हैं। ऐसे में सबसे पहले किचन में इलेक्ट्रॉनिक चिमनी लगवाएं, किचन में बेहतर यानि अच्छी तरह से वेंटिलेशन रखें, घर के खुले स्थानों को रास्ते के भारी जाम के वक्त बंद रखें। ऐसा करने से आप पूरी तरह से तो नहीं बच सकते है लकिन इतना जरूर है इससे आप आपके घर में धूल मिट्टी की मात्रा कम पहुंचेगी।
- घर के अंदर की हवा को कुछ हद तक साफ रखने के लिए आप इनडोर एयर पल्यूशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि एक स्टडी के मुताबिक, इसके इस्तेमाल से ज्यादा फायदा नहीं देखा गया है लेकिन फिर भी इसके प्रयोग से दमे या एलर्जी के मरीजों को राहत जरूर मिलती है।
-एयर प्यूरिफायर बेहतर तरीके से तभी काम करेगा जब घर पूरी तरह से बंद हों। इसे 3-6 महीने में सर्विसिंग करवानी चाहिए।
- बुरी हवा से बचने के लिए शहर में स्मोक जितना हो सके कम से कम हो। इसके लिए एक ही उपाय ये है कि सबसे पहले वाहनों से निकलने वाले धुंए को नियंत्रित करना पड़ेगा।
- आपकी कोशिश यही होनी चाहिए कि आप उन इलाकों से न गुजरें जहां हैवी ट्रैफिक रहता है। खुद के बचाव के लिए भले ही रास्ता लंबा हो लेकिन कम ट्रैफिक वाले रास्ते से जाने में ही आपका भला है।
- किस रूट पर ट्रैफिक सबसे ज्यादा है इसके लिए आप गूगल मैप का भी सहारा ले सकते हैं। इसमें जहां जहां लाल रंग दिखे उस रास्ते को इग्नोर करें।
- अच्छी क्वॉलिटी का ही मास्क लें और जब भी रास्तों से गुजरें इसे पहन कर ही गुजरें।
- बीमार हों या हेल्दी, हो सके तो स्मॉग के दौरान बाहर न निकलें। अगर ज्यादा जरूरी काम हो तो मास्क लगा कर निकलें।
- सर्दियों में बेहतर होगा कि सुबह वॉक पर जाने की बजाय धूप निकलने के बाद वॉक पर जाएं।
ये भी है बचाव का एक तरीका-
अक्सर ऐसा होता है कि सर्दियों में एयर पल्यूशन ज्यादा रहता है तो वहीं सर्दियों में लोग पानी भी कम पीते हैं। लेकिन आपका ऐसा करना खतरनाक साबित होता है।
- दिन में करीबन 4 लीटर तक पानी पीना चाहिए।
- जब हमें प्यास लगती है तभी हम पानी पीते हैं लेकिन खुद का बचाव करने के लिए आप प्यास लगने का इंतजार न करें कुछ वक्त के बाद 1-2 घूंट पानी पीते रहें।
- टू वीलर में बच्चों को लेकर न निकलें।
- बच्चों को जब भी कार में बाहर लेकर जाएं शीशे बंद ही रखें।
- थोड़ी-थोड़ी देर में पानी खुद भी पीएं और अपने बच्चों को भी पिलाते रहें जिससे शरीर हाइड्रेट रहे और इनडोर पल्युशन से होने वाला नुकसान भी कम हो।
- बच्चे जब भी बाहर से खेल कर घर आएं तो उनका मुंह अच्छी तरह से साफ करें। ज्यादा हुआ तो उन्हे गर्म पानी करके नहला दें।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top