Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Health Tips: अगर ज्यादा दिन में करते हैं बेडशीट चेंज तो उठाने पड़ सकते हैं ये नुकसान

क्या आप उन लोगों में से हैं जो हफ्ते में एक या दो बार अपनी बेडशीट बदलते (Bed sheet Changes) हैं या उन लोगों में से हैं जो एक महीने से अधिक समय तक एक ही बिस्तर पर सो रहे हैं? यदि आप पहली वाली कैटेगरी मे आते हैं तब तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर आप दूसरी कैटगरी में आते हैं तो ये आपके लिए परेशानी खड़ी (Drawbacks Of Dirty Bed sheet) कर सकता है।

Health Tips: अगर ज्यादा दिन में करते हैं बेडशीट चेंज तो उठाने पड़ सकते हैं ये नुकसान
X

क्या आप उन लोगों में से हैं जो हफ्ते में एक या दो बार अपनी बेडशीट बदलते (Bedsheet Changes) हैं या उन लोगों में से हैं जो एक महीने से अधिक समय तक एक ही बिस्तर पर सो रहे हैं? यदि आप पहली वाली कैटेगरी मे आते हैं तब तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर आप दूसरी कैटगरी में आते हैं तो ये आपके लिए परेशानी खड़ी (Drawbacks Of Dirty Bedsheet) कर सकता है। इस बारे में शायद आपने कभी सोचा न हो कि कैसे एक ही बेडशीट पर तीन से चार हफ्ते तक सोने के कारण आपका शरीर कई बीमारियों (Diseases) को पकड़ सकता है। गंदी बेडशीट (Dirty Bedsheet) पर सोने से आपकी इम्यूनिटी पर असर पड़ सकता है (Low Immunity) और साथ ही आप मौसमी बीमारियों (Seasonal Diseases), सांस संबंधी बीमारियों (Respiratory Diseases) , एसटीडी (Sexually Transmitted Diseases) और यहां तक कि इनसोमिया (Insomnia) जैसे रोगों का शिकार हो सकते हैं।

आप में से ज्यादातर लोगों को लगता होगा कि 3 से 4 हफ्तों में बेडशीट धोना सही होता है, लेकिन एक्पर्ट्स इस बात से साफ इन्कार करते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक ज्यादा समय तक एक ही बेडशीट के इस्तेमाल से आपको मुंहासे, एलर्जी, एक्जिमा, अस्थमा, सर्दी, फ्लू और नींद से संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। हमारी बेडशीट में कई ऐसी चीजें जमा होती हैं जो हमें नजर नहीं आती, जैसे डेड सेल, डस्ट, ऑइल, लेकिन आपको बीमार करने के लिए काफी हैं।

पाए जाते हैं कई बैक्टीरिया

मीडिया रिपोर्ट्स में छपी स्टडी के मुताबिक हमारी बेडशीट्स में निमोनिया और गोनोरिया से जुड़े बैक्टीरिया आपके बिस्तर में 7 दिनों के अंदर बढ़नें लग जाते हैं और यहीं कारण है कि लोगों को अपनी चादर 4-5 दिनों में बदलते रहना चाहिए। एक स्टडी के मुताबिक हर 4 में से 1 इंसान अपनी बेडशीट को 1 महीने बाद धोता है। सेविले विश्वविद्यालय के जीव विज्ञान विभाग ने माइक्रोस्कोप के तहत 4 सप्ताह पुरानी चादरों का माइक्रोस्कोपिक निरिक्षण किया जिससे पता चला कि इसमें बैक्टेरॉइड्स थे जिससे निमोनिया, गोनोरिया और एपेंडिसाइटिस फैलता है। इसमें फ्यूसोबैक्टीरिया भी पाए गए जिससे गले के इन्फेक्शन के लिए जाना जाता है।

कितनी बार धोनी चाहिए चादरें

एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हर इंसान को अपने बेड की चादर हफ्ते में एक बार जरूर धोनी चाहिए। और अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो कम से कम दो हफ्ते में एक बार तो आपको अपनी चादर जरूर धुल लेनी चाहिए। रिपोर्ट्स के अनुसार, हमारा शरीर हर रोज 40,000 डेड सेल रिलीज करता है जो बहुत सारे गंदे बैक्टीरिया को पनपने में मदद करता है, जिसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य, इम्यूनिटी और नींद पर पड़ता है।

Next Story