Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Healthy Diet Routine: अपने पुराने डाइट प्लान में करें ये अहम बदलाव, सेहत पर जल्द दिखेगा असर

खान-पान को लेकर कई पुरानी धारणाएं अब गलत साबित हो रही हैं, हाल में एक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में खान-पान की पूर्व धारणाओं (Healthy Diet Routine) और नई सलाह के बारे में बताया गया।

Healthy Diet Routine: अपने पुराने डाइट प्लान में करें ये अहम बदलाव, सेहत पर जल्द दिखेगा असर
X

खान-पान को लेकर कई पुरानी धारणाएं अब गलत साबित हो रही हैं, हाल में एक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में खान-पान (New Healthy Diet Plan) की पूर्व धारणाओं और नई सलाह के बारे में बताया गया। आपको भी इनके बारे में पता होना चाहिए। हाल ही में 'ब्रिटिश मेडिकल जर्नल' में प्रकाशित ताजा अध्ययन में खाने-पीने की कुछ चीजों के बारे में कई नई बातें बताई गई हैं। इनके बारे में जानिए और फॉलो करें नए डाइट रूल्स-

बटर : पहले माना जाता था कि बटर यानी मक्खन नुकसानदायक होता है। इससे यथासंभव परहेज करना चाहिए।

नई सलाह: साइंस जर्नलिस्ट डॉ. माइकल मोस्ले के अनुसार कम मात्रा में मक्खन लेना फायदेमंद हो सकता है। कम मात्रा में डेयरी फैट से कोलेस्ट्रॉल लेवल नहीं बढ़ता।

अंडे: पहले माना जाता था कि अंडे कोलेस्ट्रॉल से भरे होते हैं।

नई सलाह: मेल बेकमैन, सीनियर लेक्चरर न्यूट्रीशन, बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी के अनुसार, अंडे सेहत के लिए अच्छे होते हैं। डायटरी कोलेस्ट्रॉल से रक्त में कोलेस्ट्रॉल लेवल नहीं बढ़ता। इनमें न्यूट्रिएंट्स और विटामिंस होते हैं। हफ्ते में तीन या चार बार ले सकते हैं।

दूध: पहले माना जाता था कि दूध हमेशा सेमी स्किम्ड या स्किम्ड (मलाई रहित) लें।

नई सलाह: फुल फैट मिल्क में हेल्दी फैट होते हैं, जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। फैट होने का मतलब यह नहीं कि कोई फूड नुकसानदायक हो। दिन भर में करीब आधा लीटर पी सकते हैं।

ऑलिव ऑयल: माना जाता रहा है कि ऑलिव ऑयल सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है।

नई सलाह: न्यूट्रीशनिस्ट डॉ. ग्लेनीज जोन के अनुसार ऑलिव ऑयल सलाद के साथ लेना तो ठीक है। लेकिन गर्म करने या फ्राई करने के लिए इस्तेमाल करने पर यह कारसिनोजोनिक(कैंसर पैदा करने की संभावना वाला) हो सकता है। तलने के लिए रेपसीड ऑयल अच्छा है, इसके भी काफी फायदे हैं। दिन भर में एक बड़ा चम्मच ले सकते हैं लेकिन तलने के लिए नहीं।

कार्बोहाइड्रेट: पूर्व धारणा रही है कि दिन भर के भोजन में 50 फीसदी कार्बोहाइड्रेट शामिल करना चाहिए।

नई सलाह : वरिष्ठ पोषण विशेषज्ञ मेल बेकमैन के अनुसार, ब्राउन कार्बोहाइड्रेट अच्छा है लेकिन सफेद नुकसानदायक होता है। कार्बोहाइड्रेट लें लेकिन साबुत अनाज के रूप में। सफेद स्पेगेटी, ब्रेड, चावल गुड फूड नहीं हैं। होल ग्रेन कार्बोहाइड्रेट दिन भर के फूड का 50 फीसदी होना चाहिए।

योगर्ट : माना जाता रहा है कि योगर्ट यानी दही हमेशा लो फैट ही लेना चाहिए।

नई सलाह : साइंस जर्नलिस्ट डॉ. माइकल मोस्ले के अनुसार फुल फैट योगर्ट ज्यादा अच्छा है। फुल फैट योगर्ट से डायबिटिज और हार्ट डिजीज का खतरा कम होता है। फुल फैट योगर्ट से वेट लॉस में भी सहायता मिलती है। नियमित रूप से फुल फैट योगर्ट ले सकते हैं।

सुपर फुड : पहले माना जाता था कि सुपर फूड जैसी कोई चीज नहीं होती है।

नई सलाह: साइंस जर्नलिस्ट डॉ. माइकल मोस्ले के विचार से सुपर फूड कहे जाने वाले कुछ खास फल और सब्जी पोषण से भरपूर होते हैं। पालक और चुकंदर जैसी सब्जियां तो विटामिन और माइक्रो न्यूट्रीएंट्स से भरपूर होते हैं। जितनी इच्छा उतने फल और सब्जी रोज ले सकते हैं।

ब्रेड : पहले माना जाता था कि ब्रेड सेहत के लिए अच्छी होती है।

नई सलाह: वरिष्ठ पोषण विशेषज्ञ मेल बेकमैन के अनुसार सिर्फ होल ग्रेन ब्रेड ही अच्छी है। मैदा से बनी ब्रेड नुकसानदायक होती है। हमेशा लेबल पढ़कर ही ब्रेड खरीदें। दिन में दो या चार स्लाइस तक ही ठीक है।

फ्रूट जूस : पूर्व धारणा रही है कि फलों का रस स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है।

नई सलाह: डिब्बाबंद फलों के रस चीनी से भरे होते हैं। इनमें कृत्रिम रंग और स्वीटनर्स हो सकते हैं। कई फ्रूट जूस में तो सॉफ्ट ड्रिंक जैसा शुगर कंटेट होता है। पैक्ड जूस कत्तई नहीं चाहिए। ताजा फलों का रस खुद निकाल कर पी सकते हैं।

शिखर चंद जैन

और पढ़ें
Next Story