Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

World No Tobacco Day : कब हुई विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की शुरुआत, जानें वजह

World No Tobacco Day : हर साल 31 मई को दुनिया में नो टोबैको डे यानि विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) मनाया जाता है। युवाओं में तंबाकू के सेवन से होने वाले रोगों और सेहत के नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) एक थीम के अनुसार सेलिब्रेट किया जाता है। इस बार यानि तंबाकू निषेध दिवस 2019 की थीम की (World No Tobacco Day Theme) "तंबाकू और फेफड़े का स्वास्थ्य" दिवस 2019 का विषय "तंबाकू और फेफड़े का स्वास्थ्य" (Tobacco and Lung health) रखी गई है। इसलिए आज हम आपको विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) मनाने की वजह और इसकी शुरुआत कब हुई के बारे में बता रहे हैँ।

World No Tobacco Day :  कब हुई विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की शुरुआत, जानें वजह

World No Tobacco Day : हर साल 31 मई को दुनिया में नो टोबैको डे यानि विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobbaco Day) मनाया जाता है। युवाओं में तंबाकू के सेवन से होने वाले रोगों और सेहत के नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobbaco Day) एक थीम के अनुसार सेलिब्रेट किया जाता है। इस बार यानि तंबाकू निषेध दिवस 2019 की थीम की (World No Tobbaco Day Theme) "तंबाकू और फेफड़े का स्वास्थ्य" दिवस 2019 का विषय "तंबाकू और फेफड़े का स्वास्थ्य" (Tobacco and Lung health) रखी गई है। इसलिए आज हम आपको विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) मनाने की वजह और इसकी शुरुआत कब हुई के बारे में बता रहे हैँ।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की शुरुआत :

साल 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation)ने तंबाकू के सेवन से होने वाले रोगों की वजह से मृत्युदर में वृद्धि को देखते हुए। इसे एक महामारी माना और इसके बाद वर्ल्ड हेल्थ असेंबली ने रेजोल्यूशन WHA40.38 पास करके 7 अप्रैल 1988 को एक दिन यानि तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) के रूप में मनाने की शुरुआत हुई। जिसके बाद से हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। है।

तंबाकू में पाए जाने वाले रसायन :

तंबाकू में शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले रसायन जिसमें टार, मार्श गैस, अमोनिया, कोलोडान, पापरीडिन, फॉस्फोरल प्रोटिक अम्ल, परफैरोल, ऐजालिन सायनोजोन, कोर्बोलिक ऐसिड, बेनजीन इत्यादि शामिल किए जाते हैं।

तंबाकू के प्रकार :

तंबाकू दो प्रकार के होते हैं। दोनों ही प्रकार में से किसी भी एक तरह के तंबाकू का लंबे समय तक सेवन करने से कैंसर के अलावा अन्य गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

1. पहला धुंआ वाला तंबाकू, जिसमें बीड़ी, सिगरेट, हुक्का पीना आदि

2. दूसरा धुआं रहित तंबाकू, जिसमें खैनी, पान मसाला, गुटखा आदि शामिल हैं।

तंबाकू से होने वाली बीमारियां :

1. कैंसर - फेफड़ों और मुंह का कैंसर होना

2. फेफड़ों का खराब होना

3. दिल की बीमारी

4. आंखों से कम दिखना

5. मुंह से दुर्गंध आना

Share it
Top